• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • नासा के शोध ने बताया- कितनी बियर पीने से आपके हाथ-आंख संयोजन पर होने लगेगा असर

नासा के शोध ने बताया- कितनी बियर पीने से आपके हाथ-आंख संयोजन पर होने लगेगा असर

वैक्‍सीनेशन से पहले और बाद में शराब पीना हो सकता है खतरनाक. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

वैक्‍सीनेशन से पहले और बाद में शराब पीना हो सकता है खतरनाक. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

नासा (NASA) के एक शोध में बताया गया है कि कितनी बियर (Beer) पीने से इंसान के हाथ-आंख संयोजन (Hand-eye coordination) प्रभावित होने लगेगा जिससे उसे ड्राइविंग जैसे काम करने में परेशानी हो सकती है.

  • Share this:
    शराब (Alchol) पीने के बाद गाड़ी चलाना (Driving) यूं तो प्रतिबंधित है. लेकिन फिर भी बहुत से लोग इस कानून (Law) की परवाह नहीं करते हैं और ये सोच कर शराब पी कर गाड़ी चलाते हैं कि उन्होंने कम पी है. ऐसे लोगों को लगता है कि एक दो छोटे ड्रिंक्स (Drinks) से उनकी गाड़ी चलाने की क्षमता प्रभावित नहीं होगा. नासा (NASA) के नए अध्ययन ने चेतावनी दी है कि एक 75 किलो के व्यक्ति के ले आधी बोतल से थोड़ी कम बियर भी उनके हाथ-आंख संयोजन  (Hand-eye coordination) और दूसरी गतिविधियों को प्रभावित करने के लिए काफी होती है.

    बहुत कम पीने से भी होता है गहरा असर
    नासा की अगुआई में हुए इस शोध के नतीजों ने कम अल्कोहल पीने पर भी इंसान की गतिविधियों पर खासा असर डालने के बारे जानकारी दी है. ये गतिविधियां  देखने और विजियोमोटर नियंत्रण से संबंधित प्रमुख तौर पर हैं जिनमें ड्राइविंग, पायलटिंग और भारी मशीनों के साथ काम करना भी शामिल है.

    पिछले अध्ययन से बहुत अलग क्यों
    यह अध्ययन पिछले अध्ययनों से बहुत अलग है क्योंकि पिछले अध्ययनों में आंखों की गतिविधि और देखने की क्षमता पर केवल खून में अल्कोहल की मात्रा (Blood Alcohol Concentrations, BAC) से संबंध पर शोध किया गया था. इन अध्ययनों में इसी के आधार पर ड्राइविंग के लिए वैधानिक सीमा पर ध्यान दिया जाता था.

    उम्मीद से ज्यादा संवेदनशील
    नासा के एमिस रिसर्च सेंटर, कैलिफोर्निया में शोधकर्ताओं की एक टीम ने पाया है कि हाथ-आंख संयोजन शराब के प्रति जितना समझा जाता है, उससे कहीं ज्यादा संवेदनशील होता है. ऐसे नतीजे पहली बार किसी अध्ययन में देखे गए हैं. शोधकर्ताओं ने पाया है कि ऐसे 20 प्रतिशत से लेकर 0..015 प्रतिशत के BAC स्तर तक में यह संयोजन प्रभावित होता पाया गया है.

    NASA, Alcohol, Beer, HAND Eye coordination, NASA study, drink, Drink and drive,
    ज्यादातर लोगों को लगता है कि एक दो पैग शराब (Alcohol) पीने से उनकी क्षमताओं पर कोई असर नहीं होता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


    चेतावनी की तरह हैं ये नतीजे
    शोधकर्ताओं का कहना है कि उनकी पड़ताल एक चेतावनी भरी कहानी के तौर पर देखी जा सकती है कि शराब पीने का अनुभव प्रायः का सेंसोरिमीटर संयोजन की खराबी से सीधा संबंध नहीं होता. इसका मतलब यह है कि बहुत से लोगों को लगता है कि  एक ड्रिंक का उन पर कोई असर नहीं होता लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं होता है.

    जानिए कैसे अब स्मार्टफोन कैमरा ही पहचान लेगा कोरोना वायरस को

    थीड़ी सी ही काफी है
    द जर्नल ऑफ फिजियोलॉजी में प्रकाशित इस अध्ययन के मुताबिक केवल थोड़ी मात्रा में ही शराब पीने से इंसान की ड्राइविंग पर असर पड़ने लगता है. भले ही ड्राइवर अच्छा और नियंत्रित महसूस ही क्यों न कर रहा हो और कानून द्वारा निर्धारित सीमा में ही क्यों न हो.

    NASA, Alcohol, Beer, HAND Eye coordination, NASA study, drink, Drink and drive,
    बहुत कम लोग जानते हैं कि नासा (NASA) स्वास्थ्य संबंधी अध्ययन भी करता रहता है.(प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


    कैसे किया अध्ययन
    इस नतीजे पर पहुंचने के लिए शोधकर्ताओं ने प्रतिभागियों के लिए आंख की गतिविधियों, उसकी पुतलियों की प्रतिक्रिया और BAC  को दिन में कई बार नापा, जब वे खास तौर से डिजाइन किए गए टास्क को शराब पीने से पहले और उसके बाद पूरा कर रहे थे. प्रतिभागियों को ऐसे पेय दिए गए जिसमें विविध मात्रा में अल्कोहल मिला हुआ था  जिससे उनमें अलग अलग BAC स्तर आ सके. ये स्तर 0.06 से लेकर 0.002 प्रतिशत तक के थे जिससे प्रतिभागितों को पता नहीं चल सके कि उन्होंने उस दिन कितनी शराब पी है.

    कुत्ते नहीं समझ पाते क्या कह रहे हैं आप-शोध ने किया खुलासा

    अब शोधकर्ता यह अध्ययन करने की योजना बना रहे हैं कि कैसे आंख की गतिविधि नापकर वे दूसरे प्रकार की न्यूरोलॉजिकल कंडीशन का अध्ययन कर सकते हैं जैसा कि किसी बीमारी या फिर जहरीली गैस के असर आदि के प्रभाव में होता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज