• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • NASA's Lucy Launch News: धरती पर कहां से आया पानी? खोजने निकल रहा नासा का यह अभियान

NASA's Lucy Launch News: धरती पर कहां से आया पानी? खोजने निकल रहा नासा का यह अभियान

नासा का यह यान सौर मंडल की उत्पति और धरती पानी कहां से आया. इन रहस्यों का पता लगाएगा.

नासा का यह यान सौर मंडल की उत्पति और धरती पानी कहां से आया. इन रहस्यों का पता लगाएगा.

NASA's Lucy/Asteroid News/solar system ka rahasya: हमारे सौर मंडल की उत्पति के रहस्य को सुलझाने (mysteries of our solar system) के लिए सदियों से वैज्ञानिक लगे हुए हैं. इसी क्रम में अब अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी 'नासा' एक मिशन लॉन्च कर रहा है जिसका नाम लूसी (Lucy) है.

  • Share this:

    NASA’s Lucy/Asteroid News/solar system ka rahasya: हमारे सौर मंडल की उत्पति के रहस्य को सुलझाने (mysteries of our solar system) के लिए सदियों से वैज्ञानिक लगे हुए हैं. इसी क्रम में अब अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ‘नासा’ एक मिशन लॉन्च कर रहा है जिसका नाम लूसी (Lucy) है. इस मिशन के जरिए वह हमारे सौर मंडल की उत्पति से लेकर धरती पर पानी कहां से आया, तक के सवालों के जवाब ढूंढ़ने की कोशिश करेगा.

    इसके लिए वह ग्रहों के अवशेष (fossils of planet formation) की भी छानबीन करेगा. इसके लिए वह जूपिटर ग्रह के ट्रोजन क्षुद्रग्रहों (Asteroid News) की बनावट का परीक्षण करेगा.

    अंतरिक्ष यान का नाम लूसी 
    नासा ने इस मिशन के लिए जो अंतरिक्ष यान बनाया है उसका नाम लूसी दिया है. इसे 1974 में पाए गए अवशेष के आधार पर रखा गया है. 16 अक्टूबर को यह मिशन लॉन्च होगा और इसका काम सात ट्रोजन क्षुद्रग्रहों (Trojan asteroids) और मंगल व जुपिटर के मध्य स्थित एक मेन बेल्ट क्षुद्रग्रह (Main Belt asteroid) के बारे में अध्ययन करना होगा.

    ट्रोजन एस्टेरोरॉयड से ही पता चलेगा कि कैसे सौर मंडल की उत्पति हुई. वैज्ञानिकों का मानना है कि चार अरब साल से अधिक पुराने इन क्षुद्रग्रहों में ही हमारे सौर मंडल के बनने का रहस्य छिपा हुआ है.

    धरती पर कैसे आया पानी
    धरती या किसी भी ग्रह पर जीवन के लिए सबसे जरूरी चीज है पानी. वैज्ञानिक अन्य ग्रहों पर जीवन की तलाश के क्रम में सबसे पहले वहां पानी की संभावना तलाशते हैं. ऐसे में नासा का लूसी मिशन अपनी इस 12 साल की यात्रा में धरती पर पानी कहां से आया, इस रहस्य को सुलझाने की कोशिश करेगा.

    दरअसल, ट्रोजन एस्टेरोरॉयड से केवल यह नहीं पता चलेगा कि हमारे सौर मंडल की उत्पति कैसे हुई बल्कि ये हमें यह भी बताएंगे कि धरती पर जीवन कैसे पनपा? क्योंकि वैज्ञानिक यह बता चुके हैं कि शुरुआत में धरती बेहद गर्म थी और ऐसी स्थिति में इस पर पानी की मौजूदगी संभव नहीं थी.

    ऐसा उत्पति के वक्त आंतरिक सौर मंडल के बेहद गर्म होने की वजह से था. ऐसे में यह सिद्धांत विकसित हुआ कि ऐसी स्थिति में वे क्षुद्र ग्रह ही थे जो धरती पर पानी और अन्य तत्व गिराए.

    अत्याधुनिक कैमरों और अन्य उपकरणों से लैस है लूसी
    लूसी अभियान अत्याधुनिक कैमरों और अन्य उपकरणों से लैस है. इसकी मदद से लूसी क्षुद्रग्रहों की सहत के भूतत्वों, रंगों और घटकों का अध्ययन करेगा. यह इन क्षुद्रग्रहों के उपग्रहों और घेरों का भी अध्ययन करेगा.

    लॉन्च की लाइव स्ट्रीमिंग करेगा नासा
    लूसी को अमेरिका के फ्लोरिडा स्थित केप कैनवरल स्पेश फोर्स स्टेशन (Cape Canaveral Space Force Station) से लांच किया जाएगा. इसके लांच में यूनाइटेड लॉन्च एलाइंस अटलास वी 401 रॉकेट का इस्तेमाल किया जाएगा. नासा अपनी वेबसाइट पर इस पूरे लॉन्च अभियान का शनिवार को स्थानीय समय के अनुसार सुबह 5 बजे से लाइव स्ट्रीमिंग करेगा.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज