Home /News /knowledge /

new solar cell can generate electricity even at night know how viks

नए सोलर सेल से अब रात को भी पैदा की जा सकेगी बिजली

सौर ऊर्जा (Solar Energy) के साथ संकट यही रहता है कि वह रातको उपलब्ध नहीं होती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

सौर ऊर्जा (Solar Energy) के साथ संकट यही रहता है कि वह रातको उपलब्ध नहीं होती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

सौर ऊर्जा (Energy) के उपयोग के लिए परंपरागत सोलर सेल (Solar Cell) की प्रक्रिया के ठीक उलट प्रणाली का इस्तेमाल कर वैज्ञानिकों ने नए तकनीक विकसित की है. इससे सौर ऊर्जा को केवल दिन में ही उपयोग किए जा सकने क सीमितता खत्म हो सकेगी और रात को भी बिजली (Electricity) बनाई जा सकेगी. इस तकनीक में फोटोवोल्टिक तकनीक जोड़ देने से सोलर सेल के ही जरिए उपयोग में लाया जा सकता है.

अधिक पढ़ें ...

    आज की दुनिया में अर्थव्यवस्था से लेकर राजनीति तक सभी कुछ ऊर्जा क्षेत्र (Energy Sector)से निर्धारित होता है. दुनिया की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए जीवाश्म ईंधन के उपयोग पर दबाव है ही, लेकिन इस तरह के ईंधन से प्रदूषण और अन्य जलवायु संकटों के कारण इनके विकल्पों को अपनाने का भी दबाव है. ऐसे वैकल्पिक ऊर्जा स्रोत के तौर पर सौर ऊर्जा (Solar Energy) एक अच्छा विकल्प है. सौर ऊर्जा के साथ बड़ी समस्या यह है कि वह रात को उपलब्ध नहीं है, लेकिन नए सोलर सेल ने इसका हल खोज लिया जिससे रात को भी बिजली पैदा (Electricity) की जा सकेगी.

    सौर ऊर्जा का महत्व
    पिछले कई दशकों में एक बड़ा बदलाव यही आया है कि हमारा ऊर्जा उपयोग बिजली पर ही केंद्रित हो रहा है. इसीलिए सौर ऊर्जा से बिजली पैदा करना ही उसका एक लक्ष्य जैसा हो गया है. परंपरागत सौर तकनीक में सोलर सेल या सौर पैनल सूर्य से आने वाले प्रकाशको अवशोषित करते हैं, जिससे बिजली पैदा होती है. लेकिन नई तकनीक में उल्टे तरह से काम हो सकता है.

    पूरी तरह से उल्टी प्रक्रिया
    बात अजीब लगती है, लेकिन सच यही है कि कई ऐसे पदार्थ हैं  जिनमें परंपरागत सौर पैनल की उल्टी प्रक्रिया से बिजली पैदा हो सकती है. इनमें रात को जब ऊष्मा पदार्थ से बाहर की ओर निकलती है तब बिजली पैदा होती है. ऑस्ट्रेलिया में इंजीनियरों की एक टीम ने इस सिद्धांत का क्रियान्वयन कर प्रदर्शन किया है.

    कम ऊर्जा से भी उम्मीद
    यह तकनीक सामान्यतः रात में देखने के लिए उपयोग में लाए जाने वाले गॉगल्स में उपयोग में लाई जाती है. अभी तक इस नई तकनीक के प्रोटोटाइप ने बहुत ही कम मात्रा में ऊर्जा पैदा की है और जल्दी ही एक वैक्ल्पिक ऊर्जा स्रोत के तौर पर विकसित होने में भी शायद समय लग जाए, लेकिन  अगर इस तकनीक को वर्तमान फोटोवोल्टेक्स तकनीकी के साथ जोड़ दिया तो यह दिन भर से गर्म हो रहे सोलर सेल के ठंडे होने से मिलनेवाली ऊर्जा का उपयोग कर सकती है.

     Energy, Solar Energy, Solar Cell, Electricity, photovoltaics technology

    सौर ऊर्जा (Solar Energy) केवल सूर्य की रोशनी पर ही निर्भर रहती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

    कैसे काम करती है यह प्रणाली
    फोटोवोल्टेक्स प्रक्रिया में सूर्य की रोशनी को कृत्रिम तरीके से सीधे बिजली में बदला जाता है. यह सौर ऊर्जा के उपयोग का सबसे प्रचलित तरीका है. इस लिहाज से थर्मोरेडिएटिव प्रक्रिया भी इसी तरह से काम करती है जिसमें इंफ्रारेड तरंगों के जरिए अंतरिक्ष की ओर जा रही ऊष्मा ऊर्जा का उपयोग होता है. किसी भी पदार्थ में परमाणु में जब ऊष्मा से का प्रवाह होता है तो इलेक्ट्रॉन  इन्फ्रारेड तरंगों के रूप में विद्युतचुंबकीय विकिरण  करने लगते हैं. बहुत की कम क्षमता वाली इस प्रकिया से धीमी बिजली पैदा की जा सकती है.

    यह भी पढ़ें: क्या है मल्टिवर्स और क्या ये विज्ञान फंतासी या वास्तव में है इसका अस्तित्व

    खास डायोड की भूमिका
    बहुत की कम क्षमता वाली इस प्रकिया से धीमी बिजली पैदा की जा सकती है. इसके लिए एक दिशा में इलेक्ट्रॉन प्रवाह वाले उपकरण की जरूरत होती है जिसे डायोड कहते हैं. इसमें ऊष्मा गंवाने पर इलेक्ट्रॉन नीचे की ओर जमा होते है. शोधकर्ताओं ने मरकरी कैडमियम टेल्यूराइड (MCT) के बने डायोड का उपयोग किया जो इन्फ्रारेड प्रकाश को पकड़ने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. अभी तक यह पता नहीं था कि इसका उपयोग कारगर तरीके से ऊर्जा स्रोत के रूप में कैसे किया जा सकता है.

     Energy, Solar Energy, Solar Cell, Electricity, photovoltaics technology

    इस तकनीक से दिन भर गर्म हुए पैनल सूर्यास्त के बाद कुछ बिजली पैदा कर सकते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

    बहुत कम ऊर्जा
    एक एमसीटी फोटोवोल्टेक डिटेक्टर ने 20 डिग्री की गर्मी तक 2.26 मिलीवाट प्रति वर्ग मीटर के घनत्व  की ऊर्जा निकाली थी. इससे कॉफी के लिए पानी तक नहीं उबल सकता है. अभी के थर्मोरेडिएटिव डायोज बहुत कम ऊर्जा दे रहे हैं लेकिन  इस तकनीक को आगे ज्यादा क्षमता वाली बनाया जा सकता है. लेकिन असल चुनौती इस तकनीक की ही खोज थी.

    यह भी पढ़ें: क्या होता है जीरो शैडो डे और क्यों मनाया जाता है इसे

    फिलहाल ग्रह को ठंडा करने की प्रक्रिया का उपयोग कर निम्न ऊर्जा विकिरण के स्रोत के रूप में करने पर बहुत से काम चल रह हैं जिनमें से एक इस अध्ययन में किया गया. इस तकनीक की क्षमता को बढ़ाने से बैटरी को बदलने या हटाने से मुक्ति मिल सकती है. इस तरह की तकनीक केवल एक शुरुआत ही भर है.

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर