Home /News /knowledge /

Coronavirus: हवा में कुछ घंटे तो प्‍लास्टिक की सतह पर 9 दिन नहीं इतनी देर ही रह सकता है सक्रिय

Coronavirus: हवा में कुछ घंटे तो प्‍लास्टिक की सतह पर 9 दिन नहीं इतनी देर ही रह सकता है सक्रिय

वैज्ञानिकों के मुताबिक ये एक एयरबॉर्न डिजिज़ है और तेजी है फैल रहा है.

वैज्ञानिकों के मुताबिक ये एक एयरबॉर्न डिजिज़ है और तेजी है फैल रहा है.

कोरोना वायरस यानी COVID-19 हवा में मौजूद ड्रॉपलेट (Droplets) में करीब 3 घंटे तक सक्रिय (Active) रहकर उस जगह सांस लेने वाले व्‍यक्ति को भी संक्रमित (Infected) कर सकता है. अमेरिकी वैज्ञानिकों के नए शोध में लोगों को कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण होने वाली सांस से जुड़ी बीमारियों (Respiratory Illness) से बचने के दिशानिर्देश दिए गए हैं. इसमें पता चला है कि प्‍लास्टिक पर ये वायरस 9 दिन नहीं 72 घंटे तक ही सक्रिय रह सकता है.

अधिक पढ़ें ...
    चीन से फैलना शुरू हुए कोरोना वायरस के हवा (Coronavirus in Air) में सक्रिय रहने या नहीं रहने को लेकर अब तक संशय की स्थिति थी. अब अमेरिका (US) के नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ हेल्‍थ में नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इंफेक्शियस डिजीज (NIAID) के शोध से साफ हो गया है कि ये वायरस हवा में भी काफी देर तक सक्रिय रह सकता है. इस हवा में स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति के सांस लेने पर वह भी संक्रमित (Infected) हो सकता है. शोध के मुताबिक, संक्रमित व्‍यक्ति खांसकर (Coughing), छींककर (Sneezing) या छूकर (Touching) अलग-अलग सतहों को ही नहीं हवा को भी संक्रमित कर सकता है. इससे ये वायरस एक से दूसरे व्‍यक्ति में फैल सकता है.

    हवा में तीन घंटे तक सक्रिय रहकर संक्रमण फैला सकता है वायरस
    शोध के दौरान विशेषज्ञों ने एक एरोसोल को अलग करने के लिए एक उपकरण का उपयोग किया, जिसने खांसी या छींक की वजह से बनी सूक्ष्म बूंदों (Microscopic Droplets) की डुप्‍लीकेट ड्रॉपलेट बनाई. इसके बाद वैज्ञानिकों (Scientists) ने पड़ताल में पाया कि हवा में ये वायरस तीन घंटे तक सक्रिय रहकर अन्‍य लोगों को संक्रमित कर सकता है. शोध (Research) के मुताबिक, किसी संक्रमित व्‍यक्ति के छींकने या खांसने से बाहर आए ड्रॉपलेट के कारण अलग-अलग सतहों (Surface) पर कुछ घंटों से लेकर कुछ दिन तक सक्रिय (Active) रह सकता है.

    शोध के मुताबिक, 3 घंटे बाद एरोसोल में महज 12.5 फीसदी वायरस ही रह जाते हैं.


    हवा में मौजूद आधे वायरस 66 मिनट में ही हो जाते हैं निष्क्रिय
    अमेरिकी शोधकर्ताओं ने पाया कि एरोसोल में मौजूद आधे वायरस (Half of Viruses) 66 मिनट के भीतर निष्क्रिय (Inactive) हो जाते हैं. इसका मतलब अगले एक घंटा 6 मिनट में शेष में 25 फीसदी वायरस भी निष्क्रिय हो जाते हैं. फिर भी शेष 25 फीसदी वायरस सक्रिय रहकर लोगों को बीमार कर सकते हैं. रॉकी माउंटेन लैबोरेटरीज में एनआईएआईडी की मोंटाना फैसिलिटी के नीलत्‍जे वैन डॉरमैलेन के नेतृत्‍व में किए गए शोध (Research) के मुताबिक, 3 घंटे बाद एरोसोल (Aerosol) में महज 12.5 फीसदी वायरस ही रह जाते हैं.

    तांबा सबसे सुरक्षित, 4 घंटे में ही निष्क्रिय हो जाते हैं वायरस
    वैज्ञानिकों ने इस शोध में पाया कि कोरोना वायरस प्‍लास्टिक और स्‍टील पर 9 दिन नहीं बल्कि 3 दिन तक ही सक्रिय रह सकता है. इसके बाद इन दिनों सतहों को संक्रमित करने वाला वायरस छूने वाले व्‍यक्ति को प्रभावित नहीं कर पाएगा. वहीं, गत्‍ते पर मौजूद कोरोना वायरस एक दिन यानी 24 घंटे तक ही छूने वालों को संक्रमित कर सकता है. वैज्ञानिकों ने धातुओं में सबसे सुरक्षित तांबे को पाया है. तांबे की सतह पर मौजूद सभी वायरस 4 घंटे बाद ही निष्क्रिय हो जाता है. वहीं, 46 मिनट में ही तांबे पर मौजूद वायरस की संख्‍या आधी रह जाती है. स्‍टैनलेस स्‍टील पर 5 घंटे 38 मिनट में वायरस की संख्‍या आधी रह जाती है.

    corona virus
    आपके मोबाइल पर कोरोना वायरस 48 घंटे से 3 दिन तक सक्रिय रहकर बीमार कर सकता है.


    लोहे पर 12 घंटे तो शीशे पर 48 घंटे में हो जाते हैं खत्‍म
    शोध के मुताबिक, प्‍लास्टिक पर मौजूद वायरस 6 घंटे 49 मिनट में आधे रह जाते हैं. वहीं, गत्‍ते की चीजों पर साढ़े 3 घंटे में वायरस की संख्‍या आधी हो जाती है यानी आधे वायरस निष्क्रिय हो जाते हैं. हालांकि, शोधकर्ताओं का कहना है कि इन नतीजों में काफी अंतर हो सकता है. लिहाजा, बचाव के उपाय अपनाने में किसी तरह की कोताही नहीं बरतें. लोहे से बनी हुई चीजों पर ये वायरस 12 घंटे तो शीशे पर 48 घंटे सक्रिय रहकर छूने वाले व्‍यक्ति को संक्रमित कर सकता है. आपके मोबाइल पर वायरस 48 घंटे से 3 दिन तक सक्रिय रह सकता है. इसलिए अपने मोबाइल को समय-समय पर साफ जरूर करते रहें. वहीं, फर्श पर ये वायरस 9 दिन तक सक्रिय रहता है.

    ये भी पढ़ें:

    Coronavirus: इस ब्‍लड ग्रुप के लोगों को है कोरोना वायरस के संक्रमण का सबसे ज्‍यादा खतरा

    Coronavirus: क्‍या आपके एयर कंडीशनर से भी फैल सकता है इंफेक्‍शन

    10 प्‍वाइंट्स में समझें कैसे चीन ने कोरोना वायरस पर पाया काबू

    Tags: Air, Air pollution, America, China, Corona, Corona Virus, Delhi, Health News, India, Italy, Noida news, Zika Virus

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर