नॉर्थ कोरिया में उड़ते गुब्बारे देखकर क्यों डर रहा है किम जोंग का परिवार

नॉर्थ कोरिया में उड़ते गुब्बारे देखकर क्यों डर रहा है किम जोंग का परिवार
उत्तर कोरिया की सीमा पर विशालकाय गुब्बारे छोड़े जाते हैं, जिनपर एंटी-किम संदेश लिखे होते हैं (Photo- CNN)

उत्तर कोरिया (North Korea) की सीमा पर 12 मीटर लंबे हीलियम-भरे गुब्बारे उड़ाए जाते हैं, जिनपर किम जोंग (Kim Jong) के बारे में 'खुलकर' लिखा होता है. साथ ही इन गुब्बारों में पेन-ड्राइव (pen drive) , डॉलर (dollar) , चॉकलेट्स और कंडोम (condom) भी होते हैं. ये सारी चीजें नॉर्थ कोरिया में बैन हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
हाल ही में उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग की बहन ने दक्षिण कोरिया को गुब्बारों पर आगाह किया. दरअसल ये दक्षिण कोरिया से उत्तर कोरिया की सीमा पर विशालकाय गुब्बारे छोड़े जाते हैं, जिनपर एंटी-किम संदेश लिखे होते हैं. ये गुब्बारे नॉर्थ कोरिया से भाग चुके वहीं के नागरिक या फिर दक्षिण कोरिया के सामाजिक कार्यकर्ता लिखते हैं जो किम की दमनकारी नीतियों से परेशान रह चुके हैं. किम जोंग इस पर पहले से ही अपने पड़ोसी देश को चेताते रहे हैं. अब उनकी बहन ने भी धमकी दी है कि गुब्बारा प्रोटेस्ट जारी रहा तो अंजाम बुरा होगा.

रहस्यमयी देश नॉर्थ कोरिया में किम परिवार के खिलाफ कुछ भी खुलकर कहा नहीं जा सकता. ऐसा करने पर बोलने वाले को देशद्रोही बताते हुए लगातार तीन पीढ़ियों को सजा दी जाती है. इसके बाद भी यातनाओं का दौर खत्म नहीं होता है. नॉर्थ कोरिया से भागे बहुत से लोग लगातार वहां की सत्ता के बारे में इंटरनेशनल मीडिया में बोलते रहे हैं. भागे हुए लोग ज्यादातर दक्षिण कोरिया में बस जाते हैं, जहां काफी आजादी है. माना जा रहा है कि ऐसे 45,000 लोग दक्षिण कोरिया में जा बसे हैं. यही लोग गुब्बारों में तरह-तरह के संदेश भरकर उत्तर कोरिया में भेजते रहते हैं.

किम की बहन ने धमकी दी है कि गुब्बारा प्रोटेस्ट जारी रहा तो अंजाम बुरा होगा




12 मीटर लंबे इन पारदर्शी गुब्बारों में हीलियम या हाइड्रोजन भरा होता है ताकि वे ज्यादा दूर तक जा सके. इनके भीतर लीफलेट्स, अखबारों की कतरनें, दुनिया से जुड़ी जानकारियां होती है. इसके अलावा पेन-ड्राइव भी होती है, जिसमें 40 से 50 घंटे तक पढ़ी जा सकने वाली जानकारी होती है. गुब्बारे ऐसे मौसम में उड़ाए जाते हैं, जब वे ज्यादा से ज्यादा दूर जा सकें. बारिश के मौसम में गुब्बारों का उड़ाना टाला जाता है.



इनमें किम जोंग के अत्याचारों की जानकारी के अलावा दुनिया में ही रही गतिविधियों की जानकारी भी होती है. बता दें कि नॉर्थ कोरिया के लोगों को बाहरी दुनिया से जोड़ने के लिए कोई भी सुविधा नहीं है. यहां तक कि इंटरनेट पर भी वहां कुछ सीमित चीजें ही मिल सकती हैं और न्यूज चैनलों पर भी नॉर्थ कोरियन सरकार का कब्जा है. तानाशाही झेलने के बाद भी लोग बाहरी दुनिया से संपर्क कर अपने हालात नहीं बता सकते. ऐसे में बाहर जा चुके लोग गुब्बारा प्रोटेस्ट के जरिए अपने देश के लोगों को जगाने की कोशिश कर रहे हैं.

नॉर्थ कोरिया से भागे बहुत से लोग इस गुब्बरा कैंपेन से जुड़े हुए हैं (Photo- CNN)


दक्षिण कोरिया में बसी एक मानवाधिकार संस्था Human Rights Foundation (HRF) इस प्रोटेस्ट में मुख्य रूप से जुड़ी हुई है. माना जाता है कि इसे दक्षिण कोरियाई सरकार के अलावा अमेरिका का भी गुप्त रूप से सहयोग मिला हुआ है. बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक बैलून के जरिए संदेश भेजने वाली संस्थाओं का कहना है कि वे आगे भी ये करती रहेंगी और हाल ही में उन्होंने एक मिलियन बैलून्स का ऑर्डर दिया है.

वैसे नॉर्थ और साउथ कोरिया के बीच बैलून प्रोटेस्ट काफी पुराना है. साल 1950 में कोरियन वॉर के दौरान 2.5 खरब लीफलेट्स पकड़े गए. वैसे माना जाता है कि बैलून में डाले जाने के लिए छापे गए ये लीफलेट्स इतने ज्यादा थे कि पूरा कोरिया 34 लीफलेट्स की लेयर के नीचे ढंक सकता था. बाद में साल 2004–2010 के बीच गुब्बारा युद्ध बंद रहा. न केवल बैलून, बल्कि दोनों देशों की सीमाओं पर ऊंची आवाज में लाउडस्पीकर बजाना, जिसमें किम के खिलाफ कोई बात हो, या रेडियो ब्रॉडकास्ट भी बंद कर दिया गया. साल 2018 में दोनों देशों ने बैलून वॉर को बंद करने की बात की लेकिन ये अब भी जारी है.

किम की बहन उत्तर कोरिया में दूसरे नंबर पर ताकतवर शख्स मानी जा रही हैं


ह्यूमन राइट्स पर काम कर रही एक संस्था Fighters for a Free North Korea के चेयरमैन पार्क सैंग हक का कहना है कि अगर गुब्बारों पर रोक लग गई तो हम ड्रोन भेजेंगे.

बीते कुछ वक्त में सीमा से उड़ाए जाने वाले गुब्बारों की संख्या बढ़ने पर किम जोंग की बहन ने साउथ कोरिया को धमकाया है. बता दें कि किम यो जोंग (Kim Yo Jong) अपने भाई और वर्तमान सैन्य तानाशाह किम जोंग के बाद देश के सबसे ताकतवर शख्स के तौर पर उभरी हैं. यो जोंग अपने भाई की राजनैतिक सलाहकार होने के साथ-साथ उनकी सुरक्षा में भी अहम जिम्मेदारी संभाल रही हैं.

ये भी पढ़ें:

हमारे नॉनवेज खाने की वजह से खत्म हो गए ये जानवर

इस देश में धधकते हुए ज्वालामुखी के ऊपर 700 सालों से हो रही है गणेश पूजा

2.3 करोड़ सालों में सबसे ज्यादा CO2 का स्तर है आजजानिए क्या है इसका मतलब

मच्छरों पर भी हो रहा है ग्लोबल वार्मिंग का असरजानिए क्या हो रहा है बदलाव

लंबे समय से सुलझ नहीं रहा था न्यूट्रान तारे का एक रहस्यमिला एक नया पदार्थ
First published: June 6, 2020, 1:52 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading