जब किम जोंग इल ने फिल्मों के लिए दुश्मन देश की एक्ट्रेस को किया अगवा

जब किम जोंग इल ने फिल्मों के लिए दुश्मन देश की एक्ट्रेस को किया अगवा
साउथ कोरिया की टॉप एक्ट्रेस और उनके डायरेक्टर पति को अगवा करवा लिया ताकि वे नॉर्थ कोरिया में फिल्में बनाएं

नॉर्थ कोरिया (North Korea) के तानाशाह किम जोंग (Kim Jong-un) के पिता को फिल्मों का गहरा एडिक्शन था. उन्होंने साउथ कोरिया की टॉप एक्ट्रेस और उनके डायरेक्टर पति को अगवा करवा लिया (Kim Jong-il kidnapped top South Korean actress and her husband) ताकि वे उनके लिए फिल्में बनाएं.

  • Share this:
जब भी नॉर्थ कोरिया का जिक्र आता है, वजह अजीबोगरीब ही होती है. वर्तमान शासक किम जोंग उन अपनी बयानबाजियों और इस वजह से चर्चा में रहते हैं कि देश में उन्होंने कितनी सख्त सेंसरशिप लग रखी है. किम के पिता किम जोंग इल की शख्सियत भी काफी विवादास्पद रही. सख्त होने के साथ-साथ वे काफी रंगीन मिजाज भी थे. कम उम्र की लड़कियों के साथ रहने के शौकीन किम जोंग इल ने अपने लिए एक प्लेजर स्कवाड बना रखा था, जिसमें चुनी हुई लड़कियां उनका मन बहलाती थीं. इस शौकीन तानाशाह को फिल्में देखने का भी भारी शौक था. उन्हें इस बात का भारी मलाल था कि उनके देश में अच्छी फिल्में नहीं बन पाती हैं. इसके लिए किम जोंग इल ने साउथ कोरिया की नामी एक्ट्रेस Choi Eun-hee को अगवा करवा लिया और उनसे सवा दो सालों में 17 फिल्में बनवाईं.

घटना साल 1978 की है. उस दौरा को साउथ कोरियन फिल्मों को गोल्डन दौर कहा जाता था. तब एक से बढ़कर एक फिल्में बन रही थीं. Choi Eun-hee इसी दौर की टॉप एक्ट्रेस थीं. वे साठ से लेकर सत्तर के दशक की शुरुआत तक फिल्मों के सबसे बड़े नामों में शुमार थीं. एक्ट्रेस के पति Shin Jeong-gyun फिल्में बनाते थे. कुल मिलाकर ये सेलिब्रिटी कपल था. बाद में एक जूनियर एक्ट्रेस की वजह से दोनों के रिश्ते में दरार आ गई.

फिल्मों के शौक में किम ने 30 हजार से ज्यादा फिल्में जमा कीं, जिसमें काफी सारी फिल्में पोर्न भी थीं




इसी दौरान एक्ट्रेस Choi Eun-hee को हांगकांग में एक बिजनेस डील के लिए बुलाया गया. किसी भी खतरे से बेखबर एक्ट्रेस वहां पहुंची तो उन्हें पहले से ही वहां इंतजार कर रहे नॉर्थ कोरियन एजेंट ने अगवा कर लिया. स्पीडबोट से वे उन्हें अपने राजा किम जोंग इल के पास लेकर गए. तब जाकर एक्ट्रेस को समझ आया कि हांगकांग में बिजनेस डील सिर्फ एक धोखा था ताकि उन्हें किडनैप किया जा सके.
ये भी पढ़ें: नेपाल के स्कूलों में क्यों अनिवार्य कर दी गई चीनी भाषा?

नॉर्थ कोरिया में उन्हें ऐसे रखा गया, जैसे वे अपहरण करके नहीं, बल्कि अपनी मर्जी से लाई गई हों. किम जोंग इल तस्वीरें खिंचवाते हुए एक्ट्रेस का हाथ पकड़कर कहते- हमारे देश आने के लिए शुक्रिया. इन बातों का जिक्र खुद अगवा की गई एक्ट्रेस ने एक डॉक्युमेंट्री The Lovers and the Despot के दौरान किया.

एक्ट्रेस के मुताबिक किम चाहते थे कि नॉर्थ कोरिया में बनी फिल्मों को इंटरनेशनल सराहना मिले (Photo-pixabay)


तब किम जोंग इल के पिता प्रेसिडेंट थे और किम जोंग इल Propaganda and Agitation Department मिनिस्ट्री देखते थे. फिल्मों के शौक में किम ने 30 हजार से ज्यादा फिल्में जमा कीं, जिसमें काफी सारी फिल्में पोर्न भी थीं. किम को मलाल था कि उनके देश में साउथ कोरिया की तरह फिल्में नहीं बनती हैं. और इसलिए उन्होंने दुश्मन देश की एक्ट्रेस को अगवा कर लिया.

एक्ट्रेस के मुताबिक किम चाहते थे कि नॉर्थ कोरिया में बनी फिल्मों को इंटरनेशनल सराहना मिले. इसके लिए उन्होंने एक्ट्रेस के बाद उनके डायरेक्टर पति को भी उठवा लिया. डायरेक्टर ने बाद में भागने की कोशिश भी, जिसमें पकड़े जाने पर उन्हें प्रिजन कैंप भेज दिया गया.

ये भी पढ़ें: जानें कौन सा है रूस का वो शहर, जिस पर चीन ने जता दिया दावा 

हिस्ट्री के मुताबिक दोनों ही पति-पत्नी को पता भी नहीं था कि वे एक ही देश में एक ही व्यक्ति के कहने पर अगवा किए जा चुके हैं और रह रहे हैं. उन्हें अखबार या टीवी देखने या बाहरी किसी आदमी से मिलने की इजाजत नहीं थी. पांच सालों तक डायरेक्टर को सजा के तौर पर कैंप में रखा गया. वहां से बाहर उन्हें इसी शर्त पर निकाला गया कि वे नॉर्थ कोरिया के लिए फिल्में बनाएं.

पांच सालों तक एक्ट्रेस के डायरेक्टर पति को सजा के तौर पर कैंप में रखा गया (Photo-pixabay)


The Lovers and the Despot के लिए दिए गए इंटरव्यू में एक्ट्रेस ने बताया कि 2 साल, 3 महीने में दोनों ने मिलकर 17 फिल्में बनाईं. किम का आदेश था कि वे रात में तीन घंटे से ज्यादा न सोएं और लगातार काम करें, तभी उन्हें जिंदा छोड़ा जाएगा. किम के कहे मुताबिक फिल्मों में सेक्स भी था जो कि नॉर्थ कोरिया की फिल्मों में उस दौर में नहीं मिलता था.

ये भी पढ़ें: किन देशों में सेना और पुलिस में शामिल किए जाते हैं ट्रांसजेंडर? 

साल 1986 में यूरोपियन फिल्म फेस्टिवल के दौरान किम ने दोनों को फेस्टिवल में नॉर्थ कोरिया का प्रतिनिधि बनाकर भेजा. वे लगातार पहरे में रहते थे. यहां तक कि कमरों में भी गार्ड तैनात रहते थे. लेकिन किसी तरह से दोनों बचकर निकल भागे और अमेरिका में शरण ली. वहां वे 1998 तक रहे और उसके बाद अपने देश वापस लौटे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading