तब मैच खेलने पर भारतीय क्रिकेटरों को मिलता था केवल एक रुपया

अब क्रिकेटरों को कांट्रैक्ट सिस्टम में मिलते हैं करोड़ों रुपये. आईपीएल में अलग से होती है मोटे धन की बारिश. फिर करार से भी होते हैं वारे-न्यारे

Sanjay Srivastava | News18Hindi
Updated: July 27, 2019, 6:38 PM IST
तब मैच खेलने पर भारतीय क्रिकेटरों को मिलता था केवल एक रुपया
अब क्रिकेटरों को कांट्रैक्ट सिस्टम में मिलते हैं करोड़ों रुपये. आईपीएल में अलग से होती है मोटे धन की बारिश. फिर करार से भी होते हैं वारे-न्यारे
Sanjay Srivastava
Sanjay Srivastava | News18Hindi
Updated: July 27, 2019, 6:38 PM IST
एक जमाना था जब 40 के दशक में भारतीय क्रिकेटरों को एक टेस्ट मैच खेलने पर फीस के रूप में एक रुपया मिलता था. वे ट्रेन से यात्रा करते थे. इसके बाद फीस बढ़कर पांच रुपये हुई. इसके बाद 1955 के आसपास भारतीय क्रिकेटरों को 250 रुपये मिलने लगे. अब टीम इंडिया के ए प्लस ग्रेड के क्रिकेटर का सालाना कांट्रैक्ट सात करोड़ रुपये का हो चुका है. इसके अलावा हर मैच खेलने के लिए उन्हें लाखों रुपये फीस अलग मिलती है.

भारतीय क्रिकेट के एक पूर्व कप्तान ने कुछ समय पहले बताया था कि 60 के दशक में भारतीय टीम के क्रिकेटरों को हर मैच के 250 रुपये मिलते थे. लेकिन कई बार ऐसा हो जाता था कि बीसीसीआई के पास इतने पैसे भी नहीं होते थे कि वो क्रिकेटरों की फीस की रकम दे पाए. इसकी व्यवस्था वो किसी तरीके से करता था.

तब ट्रेन से सफर करते थे और मामूली होटलों में ठहरते थे 
क्रिकेटर तब ट्रेन से सफर करते थे. उन्हें मामूली होटलों में ठहराया जाता था. अब इसके उलट खिलाड़ी हवाई जहाज से यात्रा करते हैं. वे पांच सितारा होटलों में ठहरते हैं. यहां तक कि सत्तर के दशक तक भी भारतीय क्रिकेटरों को हर मैच के लिए दो हजार रुपये के आसपास की रकम मिलती थी. अस्सी के दशक में ये प्रति मैच करीब पांच हजार से दस हजार रुपये तक पहुंची.

जानिए कैसा है 100 कमरों का ब्रिटिश प्रधानमंत्री का घर 10 डाउनिंग स्ट्रीट

40 के दशक में भारतीय टीम ट्रेन में यात्रा करती थी और उसे मामूली होटलों में ठहराया जाता था. कभी-कभी तो बोर्ड खिलाड़ियों को पैसा देने की स्थिति में भी नहीं रहता था.


तब पहले एक रुपया और फिर पांच रुपये मिले 
Loading...

भारतीय टीम की ओर से 40 के दशक में खेलने वाले माधव आप्टे ने बीसीसीआई के 75 साल पूरे होने के अवसर पर एक समारोह में कहा था कि भारतीय टीम जब 40 के दशक में खेलती थी तो उसे हर मैच का केवल एक रुपया मिलता था. वो रकम भी लांड्री भत्ते के रूप में दिए जाते थे. इसके बाद ये रकम बढ़ाकर पांच रुपये प्रति टेस्ट मैच कर दी गई.

कब शुरू हुआ कांट्रैक्ट सिस्टम
बीसीसीआई का पहला क्रिकेटर कांट्रैक्ट सिस्टम एक अक्टूबर 2004 में लागू किया गया. तब देश के 17 शीर्ष खिलाड़ियों को ग्रेड सिस्टम ऑफर किया गया. सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ समेत सात क्रिकेटरों को ए ग्रेड दिया गया. सात को बी ग्रेड और तीन को सी ग्रेड दिया गया.
तब हर ग्रेड में ऑफर की गई रकम ये थी
ग्रेड ए - 50 लाख रुपये
ग्रेड बी - 35 लाख रुपये
ग्रेड सी - 20 लाख रुपये
इसके साथ उस समय क्रिकेटरों को मैच में मिलने वाली फीस इस तरह थी
टेस्ट मैच - दो लाख रुपये (विदेश में 2.4 लाख रुपये)
वन-डे - 1.6 लाख रुपये ( विदेश में 1.85 लाख रुपये)

40 के दशक में भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य रहे माधव आप्टे ने बीसीसीआई के 75 साल पूरे होने पर कहा था कि तब भारतीय क्रिकेटरों को कितने पैसे मिलते थे


कांट्रैक्ट सिस्टम की समीक्षा
तब से हर साल कांट्रैक्ट सिस्टम की समीक्षा होती है. नए कांट्रैक्ट को आमतौर पर अक्टूबर या नवंबर से लागू किया जाता है. ये पहली बार जब नवंबर 2017 में नया कांट्रैक्ट सिस्टम लागू होने के कुछ महीने बाद एक और नया कांट्रैक्ट सिस्टम आ गया. लेकिन इन बदलावों को एक अक्टूबर 2017 से ही लागू किया गया. ये अक्टूबर 2017 से सितंबर 2018 तक लागू रहा.

मक्का कैसे हर साल सफलता से करता है लाखों हज यात्रियों के सारे इंतजाम

नया कांट्रैक्ट सिस्टम किस तरह से अलग 
इसमें एक ग्रेड बढ़ाया गया. बीसीसीआई के अनुसार उसने प्रदर्शन और पोजीशन के लिहाज से कुछ क्रिकेटरों को ए प्लस की स्पेशल ग्रेड देने का फैसला किया है. इसमें आने वाले क्रिकेटरों को सात करोड़ रुपये सालाना दिए जाएंगे. बीसीसीआई के नए कॉन्ट्रेक्ट सिस्टम में खिलाड़ियों के वेतन में तीन गुने से भी ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है. महिला क्रिकेटरों के ग्रेड सिस्टम में भी तीन कैटेगरी बना दी गई हैं.

अब टीम इंडिया के क्रिकेटर करोड़ों में खेलते हैं. यहां तक कि प्रथम श्रेणी मैच खेलने वाला क्रिकेटर सालभर में मोटी कमाई कर लेता है


अब किस ग्रेड के खिलाड़ी को कितना मिलेगा
ग्रेड ए प्लस - 07 करोड़ रुपये
ग्रेड ए - 05 करोड़ रुपये (पिछले कांट्रैक्ट में रकम 02 करोड़ रुपये)
ग्रेड बी - 03 करोड़ रुपये (पिछले कांट्रैक्ट में रकम 01 करोड़ रुपये)
ग्रेड सी - 01 करोड़ रुपये (पिछले कांट्रैक्ट में रकम 50 लाख रुपये)
इस करार के अलावा हर टेस्ट मैच खेलने पर एक क्रिकेटर को 15 लाख रुपये की रकम मिलेगी तो एक दिवसीय और टी20 मैच खेलने पर छह लाख रुपये.

सीनियर महिला क्रिकेटरों को भी फायदा 
महिला क्रिकेटरों के करार में भी वेतन वृद्धि तो हुई है लेकिन वैसी नहीं जैसी पुरुष क्रिकेटरों के लिए हुई है. अब उन्हें तीन ग्रेड में बांटा गया है
एक ग्रेड - 50 लाख रुपये सालाना
बी ग्रेड - 30 लाख रुपये
सी ग्रेड - 10 लाख रुपये
(पहले महिला क्रिकेटरों के दो ग्रेड थे. ग्रेड ए के तहत सालभर में 15 लाख रुपये की रकम तो ग्रेड बी में 10 लाख की रकम मिलती थी)

घरेलू क्रिकेट में बढोतरी
अंतरराष्ट्रीय मैचों के अलावा घरेलू क्रिकेट पर भी इस बार फोकस किया गया है. इसमें प्लेइंग इलेवन में शामिल सीनियर पुरुष खिलाड़ियों को हर दिन के हिसाब से 35 हज़ार रुपये तो रिजर्व में शामिल खिलाड़ियों को 17.5 हज़ार रुपये मिलेंगे. वहीं प्लेइंग इलेवन में शामिल अंडर 23 खिलाड़ी को हर दिन 17.5 हज़ार, अंडर-19 खिलाड़ी को 10.5 हज़ार और अंडर 16 खिलाड़ी को 3.5 हजार रुपये मिलेंगे.

प्लेइंग इलेवन में शामिल घरेलू महिला क्रिकेटरों के लिए ये रकम सीनियर खिलाड़ियों के लिए 12.5 हज़ार, अंडर 23 और अंडर 19 खिलाड़ियों के लिए 5.5 हजार रुपये तय की गई है.

यह भी पढ़ें- राजीव गांधी हत्या की दोषी नलिनी की बेटी ने हासिल की है लंदन में ऊंची शिक्षा
First published: July 27, 2019, 6:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...