पाकिस्तान में कभी हिंदुओं ने जोरशोर से बनाई थी सियासी पार्टी, क्या हुआ उसका

पाकिस्तान में कभी हिंदुओं ने जोरशोर से बनाई थी सियासी पार्टी, क्या हुआ उसका
ये हैं पाकिस्तान की उमरकोट रियासत के राजा हमीर सिंह राणा, जो अब भी कागजों पर सिमट गई पाकिस्तान हिंदू पार्टी के प्रमुख हैं

पाकिस्तान (Pakistan( में करीब 30 साल पहले जोरशोर पाकिस्तान हिंदू पार्टी (Pakistan Hindu Party) बनाई गई थी. जिसे बनाया था उमरकोट (Umerkot) के हिंदू राजा राणा सिंह ( Raja Rana Singh) ने. लेकिन ये हिंदुओं के बीच ही पैठ नहीं पाई और कुछ ही सालों में खत्म हो गई. जानिए कैसे और कब बनी थी ये पार्टी और क्यों खत्म हो गई.

  • Share this:
पाकिस्तान (Pakistan) में किसी जमाने में हिंदुओं की सियासत के लिए एक ऐसी पार्टी बनाई गई थी. ये पार्टी काफी जोरशोर से बनाई गई. इस पार्टी को बनाने वाले शख्स कद्दावर हिंदू नेता (Hindu Leaders in Pakistan) थे. इस पार्टी का नाम था पाकिस्तान हिंदू पार्टी (Pakistan Hindu Party)  ये पार्टी जितनी धूमधाम से बनी, उतने ही चुपचाप तरीके से कुछ सालों बाद वह हाशिए पर भी सरक गई. पाकिस्तान में कुछ हिंदू सियासत में जरूर हैं लेकिन या प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakiskan Prime Minister Imran Khan) की तहरीक ए इंसाफ पार्टी से या फिर नवाज शरीफ की पाकिस्तान मुस्लिम लीग या पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी से.

इस पार्टी को पाकिस्तान के उमरकोट रियासत के हिंदू राजा राणा चंद्र सिंह ने 1990 में बनाया था. माना गया था कि ये पार्टी हिंदुओं की आवाज बनेगी. लेकिन ऐसा कुछ हो नहीं पाया. ये पार्टी पाकिस्तान चुनाव आयोग में तो रजिस्टर्ड नहीं है लेकिन कागजों पर अब भी इसका वजूद है. अब राणा चंद्र सिंह के बेटे राणा हमीर सिंह इस पार्टी के प्रमुख हैं.

किन हालात में बनी थी ये पार्टी
राणा चंद्र सिंह की रियासत अमरकोट पाकिस्तान के गठन के समय वहां की सबसे ताकतवर और बड़ी रियासत थी. ये रियासत 22,000 किलोमीटर में फैली हुई थी. पाकिस्तान के गठन के समय इस रियासत के शासक ने सत्ताधारी पार्टी से हाथ मिलाये.
ये भी पढ़ें - राजस्थान सियासी संकट : सिंघवी ने क्यों दिए सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट के हवाले?



बाद में राणा चंद्र सिंह उन लोगों में शामिल हुए, जिन्होंने जुल्फिकार अली भुट्टो के साथ मिलकर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी का गठन किया. फिर कुछ सालों बाद उन्हें लगा कि पाकिस्तान में हिंदुओं की ठीकठाक संख्या तो जरूर है लेकिन कोई पार्टी उनकी सही तरीके से आवाज नहीं उठाती. राणा संपन्न भी थे और संपर्कों वाले भी. उन्होंने 1990 में पाकिस्तान हिंदू पार्टी का गठन किया.

1990 में पाकिस्तान के कद्दावर हिंदू नेता राणा चंद्र सिंह ने पाकिस्तान हिंदू पार्टी का गठन किया था


इन पार्टी का झंडा या संविधान भी था
इस पार्टी का एकमात्र नारा हिंदूओं की मजबूती था. ये प्राचीन हिंदू मूल्यों की पैरवी करती थी. इसका झंडा भगवा रंग का वैसा ही झंडा था, जो शिवाजी इस्तेमाल करते थे. उनके झंडे पर ऊं और त्रिशूल प्रतीक के तौर पर उभरे हुए थे.

कौन थे राणा चंद्र सिंह
राणा चंद्र सिंह पाकिस्तान की अमरकोट (अब उमरकोट) के शासक थे. वो हिंदू सोढा राजपूत थे. वो पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के संस्थापक संदस्य थे. वो उमरकोट ने सात बार नेशनल असेंबली के लिए चुने गए. उन्होंने पाकिस्तान हिंदू पार्टी का गठन किया.

दो बार पाकिस्तान सरकार में मंत्री भी रहे

वो दो बार पाकिस्तान सरकार में मंत्री भी रहे. वो पाकिस्तान अल्पसंख्यक कमेटी के चेयरमैन भी थे. उन्हें पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो का करीबी मित्र भी माना जाता था. उनका वर्ष 2003 में निधन हो गया. उनके बेटे राणा हमीर सिंह उनके उत्तराधिकारी हैं.

पाकिस्तान हिंदू पार्टी उस तरह का असर पैदा नहीं कर सकी. हिंदुओं के बीच ही वो अपना आधार नहीं बना पाई थी


ये पार्टी कभी मजबूत क्यों नहीं हो पाई
राणा चंद्र सिंह ने पाकिस्तान हिंदू पार्टी का गठन तो किया लेकिन इस पार्टी के ज्यादातर पदाधिकारी या तो उनके ही रिश्तेदार थे या बड़े ओहदेदार हिंदू. इसमें पाकिस्तान की निचली हिंदू जातियों का कोई प्रतिनिधित्व नहीं था. ऐसे में ये पार्टी अपना जनाधार बनाने में विफल रही.

ये भी पढ़ें - जानें कौन हैं हरीश साल्वे, जो राजस्थान में लड़ रहे हैं सचिन पायलट गुट का केस

दूसरे इस पार्टी के लोगों को जमीन पर उतर हिंदुओं को जिस तरह साथ लेना था, वो भी नहीं हो सका. वहीं पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी ने जिन हिंदु अल्पसंख्यकों को प्रांतीय असेंबली और नेशनल असेंबली की रिजर्व सीटों पर भेजा, वो निचली जाति के हिंदुओं से भी ताल्लुक रखते थे. बेशक पीपीपी ने हिंदुओं के लिए ज्यादा कुछ किया नहीं हो लेकिन उन्हें अपनी पार्टी से जरूर जोड़ा. अब भी पाकिस्तान में सबसे ज्यादा हिंदू पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी से जुड़े हुए हैं.

पाकिस्तान में हिंदुओं का कोई मजबूत संगठन नहीं होने की वजह से पिछले कुछ सालों में वहां हिंदुओं के खिलाफ अत्याचार या मानवाधिकार हनन की कई घटनाएं हुई हैं


पाकिस्तान हिंदू पार्टी ने चुनावों में क्या असर दिखाया
पीएचपी को जिला स्तर और प्रांतीय स्तर पर चुनावों में सफलता की उम्मीद थी लेकिन ऐसा नहीं हुआ. नतीजतन कुछ ही सालों में इस पार्टी दौड़ से बाहर हो गई. इसका नतीजा ये हुआ कि इसे गठिन करने वाले राणा चंद्र सिंह ने ही वापस पीपीपी को ज्वाइन कर लिया. उसके बाद से पाकिस्तान में कभी हिंदुओं ने अपना कोई सियासी दल गठित करने की कोशिश भी नहीं की जबकि वहां ईसाइयों के कई सियासी दल हैं, जो रजिस्टर्ड भी हैं. वो इस तरह हैं

पाकिस्तान हिंदू पार्टी का झंडा और चिन्ह


पाकिस्तान क्रिश्चियन नेशनल पार्टी
मसीह मिल्लत पार्टी
क्रिश्चियन नेशनल एंड लिब्रेशन फ्रंट
आल पाकिस्तान मसीही इत्तिहाद
पाकिस्तान क्रिश्चियन मूवमेंट
क्रिश्चियन लेबर पार्टी
पाकिस्तान क्रिश्चियन लीग
पाकिस्तान क्रिश्चियन कांग्रेस

ये भी पढ़ें - कौन हैं शकुंतला देवी, जिनका ट्रेलर यूट्यूब पर मचा रहा है धूम, फिल्म है तैयार

पाकिस्तान में क्यों नहीं बन पाती हिंदुओं की सियासी पार्टी
पाकिस्तान में आए दिन हिंदुओं के खिलाफ आने वाली उत्पीड़न, मानवाधिकार हनन और अत्याचार के बावजूद पाकिस्तान की नेशनल असेंबली, सीनेट और राज्य असेंबली के हिंदू नेताओं की चुप्पी हैरान करने वाली रही है.

उऩ्होंने कभी कोशिश नहीं की कि हिंदूओं के हितों के मद्देनजर कोई सियासी दल बनाया जाए. विशेषज्ञ मानते हैं कि अगर पाकिस्तान में ऐसा कुछ होता है तो उसका सकारात्मक असर हिंदुओं के विकास पर पड़ेगा.

निचली जाति के हिंदू पाकिस्तान में क्यों खराब हाल में हैं
पाकिस्तान में निचली जाति के हिंदुओं की दिक्कतें ज्यादा हैं, क्योंकि ऊंची जाति के हिंदू आमतौर पर संपन्न और बेहतर संपर्कों वाले हैं, वो सामाजिक, धार्मिक सियासी तौर पर निचली जाति के हिंदुओं से खुद को अलग रखते हैं. इसलिए निचली जाति के हिंदू ना केवल ज्यादा अत्याचार का शिकार होते हैं बल्कि किसी मजबूत संगठन के अभाव में उनकी कोई सुनवाई भी नहीं हो पाती.

राणा हमीर सिंह सिंध प्रांत में तीन बार विधायक रह चुके हैं. वो उमरकोट के हिंदू शासक घराने के उत्तराधिकारी हैं


राणा चंद्र सिंह के बेटे भी क्या राजनीति में सक्रिय हैं
कुछ हद तक, वो तीन बार सिंध प्रांत में विधायक रह चुके हैं. उनकी छवि दबंग राजपूत की है. इस इलाके में उनका खासा असर है. उमरकोट का प्रसिद्ध किला उन्हीं के परिवार की मिल्कियत है, इसी किले में अकबर का जन्म हुआ था. शेर शाह सूरी से हारने के बाद जब हुमांयू भाग रहा था तब उन्हें इस किले में शरण दी गई थी.

बड़ी संख्या में थार परकार, उमरकोट और मिठी के हिंदू और मुसलमान आज भी इस परिवार को अपना शासक मानते हैं. वो तीन बार विधायक रह चुके हैं. जब उनका अभिषेक हुआ तो बहुत बड़ा समारोह हुआ था. राणा हमीर के बेटे कर्णी सिंह की शादी जयपुर में हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज