लाइव टीवी

सुखदेव ने भगत सिंह को ताना मारा था, 'तुम उस लड़की की वजह से मरने से डरते हो'

News18Hindi
Updated: September 28, 2019, 1:08 PM IST
सुखदेव ने भगत सिंह को ताना मारा था, 'तुम उस लड़की की वजह से मरने से डरते हो'
शहीद-ए-आज़म भगत सिंह.

आज ही के दिन यानी 28 सितंबर 1907 को अमर क्रांतिकारी (Revolutionary) भगत सिंह (Sardar Bhagat Singh) का जन्म हुआ था. उनकी जयंती पर पढ़ें एक अनसुना और दिलचस्प किस्सा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 28, 2019, 1:08 PM IST
  • Share this:
भारत के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी और क्रांतिकारी भगत सिंह (Bhagat Singh) का आज जन्मदिन है. भगत सिंह लाहौर (Lahore) के नेशनल कॉलेज के छात्र थे. एक सुंदर-सी लड़की आते-जाते उन्हें देखकर मुस्कुरा देती थी और सिर्फ भगत सिंह की वजह से वह भी क्रांतिकारी दल के करीब आ गई. जब असेंबली में बम फेंकने (Bomb Blast) की योजना बन रही थी, तो भगत सिंह को दल की जरूरत बताकर साथियों ने उन्हें यह जिम्मेदारी सौपने से इनकार कर दिया. भगत सिंह के करीबी मित्र सुखदेव (Sukhdev) ने उन्हें ताना मारा कि तुम मरने से डरते हो और ऐसा उस लड़की की वजह से है. इसे सुन भगत सिंह ने दोबारा दल की मीटिंग बुलाई और असेंबली में बम फेंकने का जिम्मा जोर देकर अपने नाम करवाया.

ये भी पढ़ें : लव मैरिज, तलाक और मैरिटल रिलेशन को लेकर फेमिनिस्ट थे गांधीजी?

आठ अप्रैल, 1929 को असेंबली (Bhagat Singh Bombing Case) में बम फेंकने से पहले सम्भवतः 5 अप्रैल को दिल्ली (Delhi) के सीताराम बाजार के घर में उन्होंने सुखदेव को यह पत्र लिखा था, जिसे शिव वर्मा ने उन तक पहुंचाया. यह 13 अप्रैल को सुखदेव की गिरफ़्तारी के वक्त उनके पास से बरामद किया गया और लाहौर षड्यंत्र केस (Lahore Conspiracy Case) में सबूत के तौर पर पेश किया गया.

प्रिय भाई,

जैसे ही यह पत्र तुम्हे मिलेगा, मैं जा चुका हूंगा. दूर एक मंजिल की तरफ. मैं तुम्हें विश्वास दिलाना चाहता हूं कि आज बहुत खुश हूं. हमेशा से ज्यादा. मैं यात्रा के लिए तैयार हूं. अनेक-अनेक मधुर स्मृतियों और अपने जीवन की सब खुशियों के होते भी, एक बात जो मेरे मन में चुभ रही थी कि मेरे भाई, मेरे अपने भाई ने मुझे गलत समझा. मुझ पर बहुत ही गंभीर आरोप लगाए- कमजोरी का. आज मैं पूरी तरह संतुष्ट हूं. पहले से कहीं अधिक. आज मैं महसूस करता हूं कि वह बात कुछ भी नहीं थी, एक गलतफहमी थी. मेरे खुले व्यवहार को मेरा बातूनीपन समझा गया और मेरी आत्म स्वीकृति को मेरी कमजोरी. मैं कमजोर नहीं हूं. अपनों में से किसी से भी कमजोर नहीं.

Sukhdev taunted Bhagat Singh, bhagat singh afraid to die due to that girl, once Sukhdev taunted Bhagat Singh You afraid to die due to that girl, bhagat singh, birth anniversary, atheist, भगत सिंह, आस्तिक, नास्तिक, भगत सिंह नास्तिक थे, भगत सिंह शहीद दिवस, भगत सिंह, bhagat singh death anniversary was he atheist, bhagat singh love story

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदीभाई! मैं साफ दिल से विदा होऊंगा। क्या तुम भी साफ होगे? यह तुम्हारी बड़ी दयालुता होगी. लेकिन ख्याल रखना कि तुम्हें जल्दबाजी में कोई कदम नहीं उठाना चाहिए. गंभीरता और शांति से तुम्हें काम को आगे बढ़ाना है, जल्दबाजी में मौका पा लेने का प्रयत्न न करना. जनता के प्रति तुम्हारा कुछ कर्तव्य है. उसे निभाते हुए काम को निरंतर सावधानी से करते रहना.

सलाह के तौर पर मैं कहना चाहूंगा कि शास्त्री मुझे पहले से ज्यादा अच्छे लग रहे हैं. मैं उन्हें मैदान में लाने की कोशिश करूंगा, बशर्ते की वे स्वेच्छा से और साफ़-साफ़ बात यह है की निश्चित रूप से, एक अंधेरे भविष्य के प्रति समर्पित होने को तैयार हों. उन्हें दूसरे लोगों के साथ मिलने दो और उनके हाव-भाव का अध्यन्न होने दो. यदि वे ठीक भावना से अपना काम करेंगे तो उपयोगी और बहुत मूल्यवान सिद्ध होंगे. लेकिन जल्दी न करना. तुम स्वयं अच्छे निर्णायक होगे. जैसी सुविधा हो, वैसी व्यवस्था करना. आओ भाई, अब हम बहुत खुश हो लें.

खुशी के वातावरण में मैं कह सकता हूं कि जिस प्रश्न पर हमारी बहस है, उसमें अपना पक्ष लिए बिना नहीं रह सकता. मैं पूरे जोर से कहता हूं कि मैं आशाओं और आकांक्षाओं से भरपूर हूं और जीवन की आनंदमयी रंगीनियों ओत-प्रोत हूं, पर आवश्यकता के वक्त सब कुछ कुर्बान कर सकता हूं और यही वास्तविक बलिदान है. ये चीजें कभी मनुष्य के रास्ते में रुकावट नहीं बन सकतीं, बशर्ते कि वह मनुष्य हो. निकट भविष्य में ही तुम्हें प्रत्यक्ष प्रमाण मिल जाएगा.

किसी व्यक्ति के चरित्र के बारे में बातचीत करते हुए एक बात सोचनी चाहिए कि क्या प्यार कभी किसी मनुष्य के लिए सहायक सिद्ध हुआ है? मैं आज इस प्रश्न का उत्तर देता हूं – हां, यह मेजिनी था. तुमने अवश्य ही पढ़ा होगा की अपनी पहली विद्रोही असफलता, मन को कुचल डालने वाली हार, मरे हुए साथियों की याद वह बर्दाश्त नहीं कर सकता था. वह पागल हो जाता या आत्महत्या कर लेता, लेकिन अपनी प्रेमिका के एक ही पत्र से वह, यही नहीं कि किसी एक से मजबूत हो गया, बल्कि सबसे अधिक मजबूत हो गया.

जहां तक प्यार के नैतिक स्तर का संबंध है, मैं यह कह सकता हूं कि यह अपने में कुछ नहीं है, सिवाए एक आवेग के, लेकिन यह पाशविक वृत्ति नहीं, एक मानवीय अत्यंत मधुर भावना है. प्यार अपने आप में कभी भी पाशविक वृत्ति नहीं है. प्यार तो हमेशा मनुष्य के चरित्र को ऊपर उठाता है. सच्चा प्यार कभी भी गढ़ा नहीं जा सकता. वह अपने ही मार्ग से आता है, लेकिन कोई नहीं कह सकता कि कब?


हां, मैं यह कह सकता हूं कि एक युवक और एक युवती आपस में प्यार कर सकते हैं और वे अपने प्यार के सहारे अपने आवेगों से ऊपर उठ सकते हैं, अपनी पवित्रता बनाये रख सकते हैं. मैं यहां एक बात साफ़ करदेना चाहता हूं कि जब मैंने कहा था की प्यार इंसानी कमजोरी है, तो यह एक साधारण आदमी के लिए नहीं कहा था, जिस स्तर पर कि आम आदमी होते हैं. वह एक अत्यंत आदर्श स्थिति है, जहां मनुष्य प्यार-घृणा आदि के आवेगों पर काबू पा लेगा, जब मनुष्य अपने कार्यों का आधार आत्मा के निर्देश को बना लेगा, लेकिन आधुनिक समय में यह कोई बुराई नहीं है, बल्कि मनुष्य के लिए अच्छा और लाभदायक है. मैंने एक आदमी के एक आदमी से प्यार की निंदा की है, पर वह भी एक आदर्श स्तर पर. इसके होते हुए भी मनुष्य में प्यार की गहरी भावना होनी चाहिए, जिसे की वह एक ही आदमी में सिमित न कर दे बल्कि विश्वमय रखे.

Sukhdev taunted Bhagat Singh, bhagat singh afraid to die due to that girl, once Sukhdev taunted Bhagat Singh You afraid to die due to that girl, bhagat singh, birth anniversary, atheist, भगत सिंह, आस्तिक, नास्तिक, भगत सिंह नास्तिक थे, भगत सिंह शहीद दिवस, भगत सिंह, bhagat singh death anniversary was he atheist, bhagat singh love story

मैं सोचता हूं, मैंने अपनी स्थिति अब स्पष्ट कर दी है.एक बात मैं तुम्हे बताना चाहता हूं कि क्रांतिकारी विचारों के होते हुए हम नैतिकता के संबंध में आर्यसमाजी ढंग की कट्टर धारणा नहीं अपना सकते. हम बढ़-चढ़ कर बात कर सकते हैं और इसे आसानी से छिपा सकते हैं, पर असल जिंदगी में हम झट थर-थर कांपना शुरू कर देते हैं.

मैं तुम्हे कहूंगा कि यह छोड़ दो. क्या मैं अपने मन में बिना किसी गलत अंदाज के गहरी नम्रता के साथ निवेदन कर सकता हूं कि तुममे जो अति आदर्शवाद है, उसे जरा कम कर दो. और उनकी तरह से तीखे न रहो, जो पीछे रहेंगे और मेरे जैसी बिमारी का शिकार होंगे. उनकी भर्त्सना कर उनके दुखों-तकलीफों को न बढ़ाना. उन्हें तुम्हारी सहानभूति की आवश्यकता है.


क्या मैं यह आशा कर सकता हूं कि किसी खास व्यक्ति से द्वेष रखे बिना तुम उनके साथ हमदर्दी करोगे, जिन्हें इसकी सबसे अधिक जरूरत है? लेकिन तुम तब तक इन बातों को नहीं समझ सकते जब तक तुम स्वयं उस चीज का शिकार न बनो. मैं यह सब क्यों लिख रहा हूं? मैं बिल्कुल स्पष्ट होना चाहता था. मैंने अपना दिल साफ कर दिया है.

तुम्हारी हर सफलता और प्रसन्न जीवन की कामना सहित,

तुम्हारा भाई
भगत सिंह
(1929)

ये भी पढ़ें :

क्या होती है हार्ड लैंडिंग, जिसका शिकार हुआ लैंडर विक्रम
राम जन्मभूमि केस : फैसले से पहले ही CJI हो गए रिटायर तो क्या होगा?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लॉन्ग रीड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 28, 2019, 12:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर