Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    जानिए पाकिस्तान के किस देवी शक्तिपीठ में दुनियाभर से आते हैं श्रृद्धालु

    हिंगलाज माता (Hinglaj Mata) के मंदिर के पाकिस्तान (Pakistan) में होने के बाद भी वहां श्रद्धालुओं की कमी नहीं होती
    हिंगलाज माता (Hinglaj Mata) के मंदिर के पाकिस्तान (Pakistan) में होने के बाद भी वहां श्रद्धालुओं की कमी नहीं होती

    हिंग्लाज माता का मंदिर (Hinglaj Mata mandir) पाकिस्तान (Pakistan) के बलूचिस्तान इलाके में हैं. इस मंदिर में पाकिस्तान के मुस्लिमों में भी आस्था पायी जाती है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 22, 2020, 4:39 PM IST
    • Share this:
    कोरोना (Corona) और लॉकडाउन (Lockdown) के कारण भी देशवासियों में नवरात्रि (Navratri) का उत्साह कम नहीं हुआ है. जगह जगह तमाम सीमाओं के बाद भी देवी मां का पूजन किया जा रहा है. भारत में यूं तो देवी के कई प्रसिद्ध और सिद्ध मंदिर हैं. लेकिन पाकिस्तान (Pakistan) में भी देवी का सिद्ध मंदिर है जिसकी देखरेख तो पाकिस्तानी करते ही हैं, उनकी इस मंदिर में भी आस्था कम नहीं है. यह हिंगलाज माता (Hinglaj Mata) का मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है.

    कहां है यह मंदिर
    इस मंदिर को हिंगलाज भवानी मंदिर नानी मां का मंदिर के नाम से भी जाना जाता है. यह मंदिर पाकिस्तान के बलूचिस्तान में हिंगोल नदी के तट पर चंद्रकूप पर्वत पर बसा यह मंदिर बहुत सिद्ध माना जाता है. यहां जाने का रास्ता एक संकरी घाटी से होता हुआ जाता है जो कि बहुत मुश्किल है लेकिन भक्त और श्रद्धालु साल भर इस मंदिर में आते हैं.

    हजारों की तादात में आते हैं लोग
    नवरात्रों के दौरान यहां मेला लगता है जहां हजारों की संख्या में हिंदू और मुसलमान आते हैं. जिसमें सबसे ज्यादा संख्या आसपास के सिंधी समुदाय के लोगों की होती है. माना जाता है कि यह मंदिर 200 साल से अधिक पुराना है. यह एक छोटी सी गुफा में बना हुआ मंदिर है जिसमें एक छोटे आकार की शिला को ही हिंगलाज माता के रूप के में पूजा जाता है.



    Temple, Hingloj Mata mandir,
    यह मंदिर (Temple) एक दुर्गम संकरी पहाडी के रास्ते होकर मिलता है.


    कैसे बना यह मंदिर
    इस मंदिर के बारे में कई कहानियां प्रचलित हैं. इनमें से एक मत के अनुसार, भगवान शिव और देवी सती का विवाह होने के बाद देवी सती के पिता दक्ष ने भगवान शंकर का अपमान किया तो देवी सती ने आत्मदाह कर लिया. आत्मदाह के बाद देवी के शरीर के 51 हिस्से अलग-अलग स्थानों पर गिरा. इन्हीं में से एक स्थान हिंगलाज भी माना जाता है. कहा जाता है कि यह मंदिर वहां स्थित है जहां देवी सती का सिर गिरा था. इसीलिए मंदिर में माता अपने पूरे रूप में नहीं दिखतीं, बल्कि उनका सिर्फ सिर नजर आता है.

    जानिए क्या है राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ओर क्यों चर्चा में है ये

    एक अन्य मान्यता यह भी
    वहीं एक अन्य कथा के अनुसार पौराणिक कथानुसार जब भगवान शंकर माता सती के मृत शरीर को अपने कंधे पर लेकर तांडव नृत्य करने लगे, तो ब्रह्माण्ड को प्रलय से बचाने के लिए भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से माता के शरीर को 51 भागों में काट दिया. इस मान्यता के अनुसार भी हिंगलाज ही वह जगह है जहां माता का सिर गिरा था.

    Hingloj Mata Mandir, Pilgirm,
    हर साल इस मंदिर (Temple) में लगने वाले मेले में हजारों की संख्या में श्रद्धालु (pilgrims) पहुंचते हैं.


    नानी का हज
    यहां पर श्रद्धालुओं में हिंदू-मुसलमान का फर्क नहीं दिखता है. यहां मुसलमान भी देवी के सामने उतनी ही श्रद्धा से सिर झुकाए नजर आते हैं. पाकिस्तानियों के लिए यह मंदिर नानी का मंदिर है. कई लोग यहां कि कठिन यात्रा को नानी का हज भी कहते हैं. नानी के इस मंदिर में दुनिया भर से हजारों की संख्या में श्रद्धालु आकर अपना सिर झुकाते हैं.

    एक साइंटिस्ट ने ये बताया कि हम अब तक Aliens से क्यों नहीं मिल पाए

    यह शक्तिपीठ बहुत सिद्ध और दुनियाभर के हिन्दुओं के लिए बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है यह भी मान्यता है कि जो भी भक्त 10 फीट लंबी अंगारों की एक सड़क पर चलते हुए माता के दर्शन करने पहुंचे, तो उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी. आज कल यह प्रथा भले ही समाप्त हो गई हो, लेकिन इस मंदिर और माता के प्रति आस्था कम नहीं हुई है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज