रातोंरात कहां गायब हो गया पाकिस्तान का द्वीप ?

पाकिस्तान में ग्वादर के पास का एक द्वीप रातोंरात गायब हो गया. नासा ने कुछ तस्वीरें जारी की हैं, उसमें वो द्वीप कहीं नजर नहीं आ रहा है.

News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 3:38 PM IST
रातोंरात कहां गायब हो गया पाकिस्तान का द्वीप ?
तस्वीर साभार: nbcnews.com
News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 3:38 PM IST
कुदरत कभी-कभी अजीबोगरीब कारनामे दिखाती है. यकीन नहीं होता कि ऐसा भी हो सकता है. पाकिस्तान में कुछ ऐसा ही हुआ है. पाकिस्तान के ग्वादर के समंदर के पास बना एक द्वीप रातोंरात गायब हो गया. वो द्वीप या जिसे टापू कह लें, पिछले कुछ वर्षों से लोगों के लिए आश्चर्य का सबब बना हुआ था. वो अचानक गायब हो गया. ये अपनेआप में एक रहस्य सरीखा है कि एक टापू अचानक से बनता है और फिर अचानक ही समंदर में छूमंतर हो जाता है. पाकिस्तान में ग्वादर के पास ये द्वीप 2013 में नजर में आया था. 6 साल बाद अब वो फिर से समंदर में विलीन हो गया.

2013 में भूकंप से बना था टापू



पाकिस्तान में 2013 में भयानक भूकंप आया था. 7.7 की त्रीवता वाले इस भूकंप की चपेट में आकर 330 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी. इस शक्तिशाली भूकंप का केंद्र बलूचिस्तान के अवारान प्रांत से करीब 69 किलोमीटर दूर था. भूकंप के झटके कराची, हैदराबाद, लरकाना और सिंध के शहरों में महसूस किए गए. लेकिन ग्वादर की कहानी अलग थी.

Pakistan island disappears which was formed in 2013 earthquake mystery of new island
तस्वीर साभार: dawn news


भूकंप के बाद यहां के लोगों ने समंदर में कुछ दूरी पर नया टापू बना देखा. किसी को समझ नहीं आ रहा था कि बीच समंदर में ये टापू अचानक से कैसे उभर आया. लोग नाव के सहारे टापू पर पहुंचे. वहां लोगों ने देखा कि टापू कीचड़, रेत और पत्थरों से भरा है. अंडे के आकार के इस टापू पर लोगों ने मरी हुई मछलियां देखीं. कहीं-कहीं से मीथेन जैसी गैस निकल रही थी. वहां पर माचिस की तीली जलाने से आग पकड़ ले रही थी. एक बार आग पकड़ने पर बड़ी मुश्किल से उसे वो बुझ पा रहा था.

टापू का नाम दिया गया था जलजला कोह

2013 में लोगों के लिए ये अजूबा सरीखा था. अंडे के आकार का ये टापू करीब 295 फीट लंबा और 130 फीट चौड़ा था. समंदर से इसकी ऊंचाई करीब 60 से 70 फीट थी. लोगों ने इसका नाम जलजला कोह रखा. जिसका मतलब होता है भूकंप का पहाड़. बाद में वैज्ञानिकों ने बताया कि भूकंप के दौरान टेक्टोनिक प्लेटों के टकराने की वजह से टापू का निर्माण हुआ है. अरेबियन टेक्टोनिक प्लेट और यूरेशियन प्लेट एकदूसरे से टकराए, इसकी वजह से समंदर की सतह पर प्रेशर बना और सतह पानी के ऊपर ऊभर आया.
Loading...

 Pakistan island disappears which was formed in 2013 earthquake mystery of new island
तस्वीर साभार: weather.com


2013 के भूकंप मे ये टापू बना था. अब नासा ने यहां की नई तस्वीरें जारी की हैं. जिसमें टापू कहीं नजर नहीं आ रहा है. टापू समंदर के बीच से गायब हो गया है.

2013 में भूकंप के बाद बने टापू को देखकर वहां के कुछ बुजुर्गों ने बताया था कि ऐसा यहां पहले भी हो चुका है. उन्होंने कहा था कि 60-70 साल पहले ऐसी ही एक घटना में टापू का निर्माण हुआ था. इसे नकारा भी नहीं जा सकता. क्योंकि 1945 में ग्वादर से करीब 100 किलोमीटर पूरब में तेज भूकंप आया था.

ये भी पढ़ें: वो ‘आर्मी’ जिसने पाकिस्तानी सेना की नाक में दम करके रखा है

वो कांग्रेसी अध्यक्ष जिन्होंने नेहरू-गांधी परिवार के इशारों पर चलने से मना कर दिया

जब कामसूत्र का 200 साल पहले अंग्रेजी में प्रकाशन हुआ तो क्यों तहलका मच गया
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...