एयरस्पेस बंद करने से पाकिस्तान को भी हुआ करोड़ों का नुकसान, जानें कैसे होती है कमाई

बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपने एयरस्पेस बंद कर दिए हैं. इसकी वजह से इंडियन फ्लाइट्स को अपना रूट डायवर्ट करना पड़ रहा है. लेकिन पाकिस्तान को भी इसका नुकसान उठाना पड़ रहा है.

News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 4:49 PM IST
News18Hindi
Updated: July 5, 2019, 4:49 PM IST
बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपनी एयरस्पेस बंद कर दी है. इससे भारतीय एयरलाइंस कंपनियों को नुकसान तो उठाना ही पड़ा है, लेकिन पाकिस्तान को भी करोड़ों की चपत लगी है. भारतीय एयरलाइंस के फ्लाइट्स पाकिस्तान के एयरस्पेस से होकर पड़ोसी देशों तक पहुंचते थे, लेकिन बालाकोट स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपनी एयरस्पेस बंद कर दी है. इसके बाद भारतीय फ्लाइट्स को अपने रूट डायवर्ट करने पड़े हैं. इसकी वजह से भारतीय एयरलाइंस कंपनियों को ज्यादा खर्च उठाना पड़ रहा है. लेकिन पाकिस्तान के एयरस्पेस का इस्तेमाल करने की वजह से उसे जो कमाई होती थी, वो भी रुक गई है. पाकिस्तान को इस वजह से फरवरी से तकरीबन 688 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है. पाकिस्तानी एयरस्पेस बंद होने की वजह से करीब 400 फ्लाइट्स रोज अपना रूट बदल रही हैं.

26 फरवरी को इंडियन एयरफोर्स के बालाकोट स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने अपने 11 में से सिर्फ 2 एयरस्पेस को खोले रखा है. ये दोनों एयरस्पेस दक्षिणी पाकिस्तान में आते हैं. अपनी तरफ से भारत ने कहा है कि बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद भारत ने अपने एयरस्पेस पर जो टेम्पररी पाबंदी लगाई है, वो 31 मई के बाद हटा ली जाएंगी. अब सवाल उठता है कि एयरस्पेस से कमाई किस तरह से होती है.

एयरस्पेस से किस तरह कमाई करते हैं देश?
किसी देश का एयरस्पेस इस्तेमाल करने पर एयरलाइंस कंपनियों को उस देश के सिविल एवियेशन एडमिनिस्ट्रेशन को पैसे चुकाने पड़ते हैं. ये रकम एयरक्राफ्ट किस टाइप का है, कितनी दूरी कवर की जा रही है और एयरक्राफ्ट का वजन कितना है, इन बातों पर निर्भर करती है. मसलन पाकिस्तान के एयरस्पेस से अगर बोइंग 737 गुजरता है तो करीब 580 डॉलर यानी तकरीबन 40,600 रुपए चुकाने पड़ते हैं. यही रकम एयरबस 380 और या बोइंग 747 के लिए बढ़ जाएगी.

क्या सभी देशों में एयरस्पेस के लिए एकसमान चार्ज किया जाता है
अलग-अलग देशों का एयरस्पेस चार्ज अलग होता है. मसलन कनाडा में एयरक्राफ्ट के वजन और ट्रैवल की दूरी के आधार पर चार्ज किया जाता है. वहीं अमेरिका में सिर्फ ट्रैवल की दूरी के आधार पर चार्ज लिया जाता है.

pakistan lost millions due to airspace closure after balakot strike know how countries earn from air space
हर देश का एयरस्पेस चार्ज अलग-अलग होता है

Loading...

भारत में कितना चार्ज किया जाता है ?

भारत में डीजीसीए ओवरफ्लाइट और लैंडिंग चार्ज वसूल करता है. ये डोमेस्टिक फ्लाइट्स के लिए कम और इंटरनेशनल फ्लाइट्स के लिए ज्यादा होता है. कुल मिलाकर फ्लाइट्स के वजन और उसके द्वारा तय की गई दूरी को कैलकुलेट कर चार्ज तय किया जाता है. अगर फ्लाइट भारत में लैंड करती है तो 5,330 रुपए एक्सट्रा देने पड़ते हैं. अगर फ्लाइट्स बिन लैंड किए भारतीय एयरस्पेस से होकर गुजरती है तो सफर की दूरी और फ्लाइट्स के वजन के आधार पर तय किए गए चार्ज के अतिरिक्त 5,080 रुपए अलग से देने पड़ते हैं.

पाकिस्तान के एयरस्पेस बंद होने की वजह से एयर इंडिया को हुआ नुकसान
बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के एयरस्पेस बंद होने की वजह से एयर इंडिया को भी नुकसान उठाना पड़ा है. 2 जुलाई तक एयर इंडिया को करीब 491 करोड़ का नुकसान हुआ है. सिविल एवियेशन मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में जवाब देते हुए कहा था कि पाकिस्तान के एयरस्पेस बंद होने की वजह से प्राइवेट एयरलाइंस स्पाइसजेट को 30.73 करोड़, इंडिगो को 25.1 करोड़ और गो एयर को 2.1 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है.

ये भी पढें: जानिए आजादी के बाद कांग्रेस में कितने हुए गैर गांधी अध्यक्ष और क्या हुआ उनका हश्र

 ऐसे ही गर्मी पड़ती रही तो भारत से खत्म हो जाएंगी 3.4 करोड़ नौकरियां !

 सिंगापुर में बसों की छत पर उगाए जा रहे हैं पौधे, एसी की जरूरत नहीं पड़ती, ईंधन भी बचता है

 #MissionPaani: पानी-पानी मुंबई क्यों नहीं जुटा पाता अपने लिए पीने का पानी ?
First published: July 5, 2019, 9:26 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...