पाकिस्तान की आजादी के दिन आवाम के सामने क्या मुंह लेकर जाएंगे इमरान खान?

पाकिस्तान (Pakistan) 14 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) मनाता है. इस बार आजादी की 73वीं सालगिरह पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) पाकिस्तान का झंडा फहराएंगे. लेकिन सवाल उठता है कि उसके बाद पाकिस्तान की आवाम के सामने इमरान खान क्या मुंह लेकर जाएंगे?

Vivek Anand | News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 7:44 AM IST
Vivek Anand | News18Hindi
Updated: August 14, 2019, 7:44 AM IST
14 अगस्त को पाकिस्तान (Pakistan) अपनी आजादी (Independence) की 72वीं सालगिरह मनाने जा रहा है. हिंदुस्तान से एक दिन पहले पाकिस्तान अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है. इस बार भी 14 अगस्त को पाकिस्तान में आजादी का जश्न मनाया जाएगा. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) पाकिस्तान का झंडा फहराएंगे. लेकिन सवाल उठता है कि उसके बाद पाकिस्तान की आवाम के सामने इमरान खान क्या मुंह लेकर जाएंगे? पाकिस्तान की जनता के सामने इमरान खान क्या बोलेंगे? जिस यकीन के साथ पाकिस्तान की जनता ने उन्हें चुना है, आजादी के दिन वो जनता को क्या जवाब देंगे?

ये भी पढ़ें : कश्मीर पर आखिर इसी वक्त क्यों लिया गया बड़ा फ़ैसला? 

ये सवाल इसलिए भी अहम हो गया है क्योंकि कश्मीर के ताजा हालात की वजह से भारत-पाकिस्तान के रिश्ते तल्ख हो चुके हैं. कश्मीर से अनुच्छेद 370 खत्म करने का फैसला भारत का अंदरूनी मामला था. लेकिन पाकिस्तान ने इसके खिलाफ बवाल खड़ा कर दिया.

कश्मीर भारत का अटूट हिस्सा है, इसलिए उससे जुड़ा हर फैसला केंद्र सरकार लेने के लिए स्वतंत्र है. लेकिन कश्मीर में अमनचैन की सुगबुगाहट से ही पाकिस्तान को मिर्ची लगने लगती है. वो किसी भी तरह से कश्मीर मसले को उलझाए रखना चाहते हैं. कश्मीर का नाम ले लेकर पाकिस्तान सरकार अपनी नाकामियों से आवाम का ध्यान हटाने का आजमाया फंडा अपनाती रही हैं.

ज़रूरी जानकारियों, सूचनाओं और दिलचस्प सवालों के जवाब देती और खबरों के लिए क्लिक करें नॉलेज@न्यूज़18 हिंदी

 

pakistan prime minister imran khan speech on independence day 14 august may be on kashmir issue and article 370 abrogation
इमरान खान कश्मीर का नाम लेकर फिर गरजेंगे

Loading...

इमरान खान की सरकार भी वही कर रही है और 14 अगस्त के उनके भाषण में भी उसी की झलक देखने को मिल सकती है.

फिर कश्मीर का नाम लेकर गरजेंगे इमरान खान
14 अगस्त को पाकिस्तान अपनी स्वतंत्रता की 72वीं सालगिरह मनाएगा. इस दिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान कश्मीर मसले पर एक बार फिर हिंदुस्तान के खिलाफ आग उगल सकते हैं. पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था अपने सबसे खराब दौर में है. पाकिस्तान कर्ज के बोझ तले दबा है. रोटी-रोजगार का वहां गंभीर संकट खड़ा हो गया है. जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने में इमरान सरकार नाकाम रही है. एक कश्मीर मसला ही है, जो पाकिस्तान की आवाम का ध्यान भटका सकता है. इसलिए बहुत संभव है कि इमरान खान अपने भाषण में भारत को जीभर के कोसें.

कश्मीर से अनुच्छेद 370 के खात्म के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाया हुआ है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भड़काऊ बयान दे रहे हैं. सबसे पहले उन्होंने कहा कि कश्मीर से स्पेशल स्टेट्स का दर्जा हटते ही वहां पुलवामा जैसी घटना होगी. ये एक तरह से पाकिस्तान की भारत को धमकी थी.

pakistan prime minister, imran khan, imran khan speech on independence day, imran khan speech on 14 august, kashmir issue, article 370 abrogation, पाकिस्तान की आजादी पर इमरान खान का भाषण, इमरान खान का भाषण, पाकिस्तान की आजादी, पाकिस्तान का स्वतंत्रता दिवस

उसके बाद इमरान खान ने कहा कि कश्मीर में आरएसएस नरसंहार की तैयारी कर रही है. ऐसे गैरजिम्मेदार बयान के बाद भी जब वो दुनिया के देशों में पाकिस्तान के लिए हमदर्दी पैदा नहीं कर पाए तो उन्होंने एक के बाद एक भारत के साथ रिश्ते खत्म करने वाले कदम उठाते चले गए.

पाकिस्तान ने हिंदुस्तान के साथ अपने राजनयिक रिश्ते कमतर कर लिए. भारतीय राजदूत को अपने यहां से हटाने और दिल्ली से पाकिस्तानी राजदूत को बुलाने का फैसला ले लिया. हिंदुस्तान के साथ अपने व्यापारिक रिश्ते कमतर कर लिए. भारत पाकिस्तान के बीच चलने वाले समझौता एक्सप्रेस ट्रेन को रद्द कर दिया गया. दिल्ली लाहौर बस सेवा स्थगित कर दी गई.

पाकिस्तान अपनी आजादी के दिन भुनाएगा कश्मीर मसला
इससे भी एक कदम आगे बढ़कर पाकिस्तान ने इस बार का स्वतंत्रता दिवस कश्मीरियों के समर्थन में मनाने का ऐलान किया है. 14 अगस्त को पाकिस्तान अपनी आजादी के दिन कश्मीरियों के संघर्ष को सलाम करेगा. उनकी स्वायत्तता की वकालत करेगा. इस पूरी कवायद के पीछे पाकिस्तान किसी तरह से कश्मीर में भारत विरोध की आग को हवा देगा. पाकिस्तानी अपने इसी दोहरे रवैये के बूते आज तक जीता आया है.

pakistan prime minister imran khan speech on independence day 14 august may be on kashmir issue and article 370 abrogation
कश्मीर का नाम लेकर पाकिस्तान सरकार अपनी नाकामियां छिपाती रही हैं.


पाकिस्तान अपने स्वतंत्रता दिवस को कश्मीर के नाम करेगा. और 15 अगस्त, जिस दिन हम अपनी आजादी का जश्न मना रहे होंगे, पाकिस्तान ने उस दिन को ब्लैक डे घोषित किया है. ये पाकिस्तान की बेशर्मी की इंतेहा है, जिसकी झलक इमरान खान के भाषणों में भी मिलेगी.

हालांकि ऐसा भी नहीं है कि पाकिस्तान की हालत का अंदाजा वहां के नेताओं को नहीं है. पाकिस्तान के कुछ बड़े नेताओं को अब हकीकत का अंदाजा होने लगा है. उन्हीं में से एक है पाकिस्तान के विदेशमंत्री शाह महमूद कुरैशी.

पाकिस्तान के कुछ नेताओं को है हकीकत का अंदाजा
पाकिस्तान के विदेशमंत्री शाह महमूद कुरैशी ने तल्ख लहजे में हकीकत बयानी की है. उन्होंने पाकिस्तानियों को चेताया है कि वो जन्नत का ख्वाब देखना छोड़ दें. ये मूर्खतापूर्ण है. उन्होंने अपनी ही सरकार की पोल खोलते हुए कहा है कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 के खत्म करने के बाद यूएन का सिक्योरिटी काउंसिल पाकिस्तान को फूलों का हार नहीं पहनाने जा रहा है.

शाह महमूद कुरैशी ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद में हुई एक तकरीर में कहा कि यूएन के सिक्योरिट काउंसिल में जाने के बाद भी ये मसला पाकिस्तान के हिसाब से नहीं चलेगा. उन्होंने कहा है कि दुनियाभर के मुस्लिम देश कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान का समर्थन नहीं करने वाले हैं. क्योंकि भारत उन देशों के लिए एक विशाल बाजार है. उन सारे देशों ने भारत में पैसा लगा रखे हैं. वो भारत के हितों की मुखालफत नहीं करेंगे.

pakistan prime minister imran khan speech on independence day 14 august may be on kashmir issue and article 370 abrogation
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी


शाह महमूद कुरैशी ने कहा, 'जज्बात उभारना बहुत आसान है, एतराज करना उससे भी आसान है, लेकिन एक मसले को समझकर आगे ले जाना पेंचीदा काम है. आगे वो लोग आपके लिए हार लेकर नहीं खड़े हैं.'

भारत के यूएई और सऊदी अरब के साथ अच्छे संबंध है और पाकिस्तान को इस बात का अंदाजा है कि ये मुस्लिम देश कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान के साथ नहीं आने वाले हैं. इसलिए पाकिस्तान के विदेशमंत्री अपने देश की कमजोरियों से देश की जनता को वाकिफ करवा रहे हैं. ताकि पाकिस्तान की आवाम अपनी हद में रहे और सरकार से ज्यादा की उम्मीद न रखे.

पाकिस्तान के विदेश मंत्री को अपनी सरकार और अपने देश का अंदाजा है. इसलिए वो पीओके में हकीकत बयान कर आए हैं. लेकिन इमरान खान उनके शब्दों पर चलेंगे ऐसा नहीं लगता. पाकिस्तान को अपनी नाकामी छुपाने के लिए कश्मीर के नाम पर खूब गरजना होगा. ताकि पाकिस्तान की जनता उनके बहकावे में आकर सरकार से सवाल करना बंद रखे.

ये भी पढ़ें: 15 अगस्त को ये देश भी मनाते हैं आजादी का जश्न

जानिए आजादी के दो दिन पहले देश में क्या हो रहा था?
First published: August 14, 2019, 7:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...