वो भारतीय, जिसने आयरलैंड क्रिकेट टीम को दी नई जिंदगी

वो कई साल पहले भारत से आकर आयरलैंड में बस गए. वो आयरलैंड के सबसे धनी लोगों में हैं. दुनियाभर में उनकी कारोबारी कंपनियां हैं


Updated: July 24, 2019, 6:10 PM IST
वो भारतीय, जिसने आयरलैंड क्रिकेट टीम को दी नई जिंदगी
शापोरजी पालोनजी मिस्त्री

Updated: July 24, 2019, 6:10 PM IST
आयरलैंड की टीम इन दिनों लार्ड्स के मैदान पर इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच खेल रही है. जिस तरह उसने वर्ल्ड कप चैंपियन इंग्लैंड टीम की हालत पतली की हुई है, उससे हर कोई इस टीम का कायल हो गया है. लेकिन आयरलैंड की क्रिकेट टीम एक भारतीय की कायल है, जिसने इस टीम को पिछले कुछ सालों में नई जान दे दी है.

वैसे ये भारतीय आयरलैंड की सबसे धनी शख्सियत भी है. करीब 16 साल पहले वो भारत से आयरलैंड जाकर बस गए. उन्होंने वहां की नागरिकता ले ली. अब वो ना केवल वहां के सबसे धनी शख्स हैं बल्कि लगातार आयरलैंड क्रिकेट को लगातार बड़ी आर्थिक मदद करते रहते हैं. कहा जा सकता है कि उनकी आर्थिक मदद से ही आयरिश क्रिकेट अपने पैरों पर खड़ी हो सकी और वहां घरेलू क्रिकेटा का ढांचा खड़ा हो सका है.

उनका नाम शापोरजी पालोनजी मिस्त्री है. मिस्त्री का आयरलैंड में कोई कारोबार नहीं है लेकिन वो डब्लिन में आयरिश पत्नी के साथ रहते हैं. यद्यपि वो वहां के प्रसिद्ध लोगों में शुमार किए जाते हैं लेकिन वो लोप्रोफाइल जिंदगी जीते हैं. ना तो आयरलैंड में उनका कोई बिजनेस है और ना ही कोई निवेश. लेकिन आयरलैंड के कई कल्याणकारी कामों में वो पैसा जरूर लगाते हैं.

पूरी दुनिया में फैला है कारोबार 

शापोरजी पालोनजी का बिजनेस पूरी दुनिया में फैला हुआ है. खासकर भारत में उनका बड़ा बिजनेस  है. संपत्ति का बड़ा हिस्सा भारत में ही है. मुंबई के मालाबार हिल्स में बड़ा बंगला है. पुणे में 200 एकड़ का फार्महाउस, जहां बड़ी तादाद में उनके घोड़े पाले जाते हैं. इसके लिए पुणे में एक बड़ा बंगला. साथ में और भी प्रापर्टीज.

18.7 बिलियन डॉलर की संपत्ति
फोर्ब्स के अनुसार वर्ष 2017 में शापोरजी पालोनजी के पास कुल 18.7 बिलियन डॉलर की संपत्ति थी. दुनिया के सबसे बड़े बिजनेस ग्रुप टाटा में उनके सबसे ज्यादा 18.4 फीसदी शेयर हैं, जो उन्हें हर साल खासा मोटा मुनाफा देते हैं. इसके अलावा वो भारत की सबसे बड़ी कंस्ट्रक्शन कंपनी शापोरजी पालोनजी ग्रुप के पूर्व चेयरमैन रह चुके हैं.
Loading...

शापोरजी पालोनजी मिस्त्री पद्मभूषण सम्मान स्वीकार करते हुए (फाइल फोटो)


मुंबई की बड़ी इमारतें उनके पिता ने बनवाईं
करीब 140 पुरानी ये कंपनी उनके बाबा ने 1865 में एक अंग्रेज के साथ मिलकर शुरू की थी. तब इसका नाम लिटिलवुड्स पालोनजी एंड कंपनी था. इसने मुंबई के फोर्ट कई बड़ी ऐतिहासिक इमारतें और होटल बनाए, जो आज भी देखते बनते हैं. कहा जा सकता है कि मुंबई की ज्यादातर बड़ी इमारतें इसी कंपनी के हाथों बनी हुई हैं. यहीं नहीं इसी कंपनी ने ओमान के सुल्तान का महल भी बनाया है. 1921 में जब बाबा का निधन हुआ तो पालोनजी के पिता ने कंपनी को और मजबूती दी.

पालोनजी की कई बड़ी कंपनियां
पालोनजी ने अपने पिता शापोरजी के 1975 में निधन के बाद कंपनी को संभाला और इसे तेजी से और आगे बढ़ाया. टाटा ग्रुप में व्यक्तिगत तौर पर बड़ी हिस्सेदारी के अलावा उन्होंने कई और बड़ी कंपनियां खड़ीं कीं. ये कंपनियां एफकांस इंफास्ट्रक्चर, एसपीसीएल, एसपी इंटरनेशनल, स्टर्लिंग एंड विल्सन और एसपी रियल एस्टेट. इन कंपनियों का सालाना रेवेन्यू चार बिलियन डॉलर है. इसके अलावा गोकाक टैक्सटाइल और यूरेका फोर्ब्स पालोनजी के ग्रुप की ही दो और बड़ी कंपनियां हैं.



फेंटम हैं वो लोगों के लिए
पालोनजी की पढाई लंदन में हुई. अब वो 88 साल के हैं. टाटा ग्रुप में उन्हें लोग फेंटम के नाम से जानते हैं. वो अब तक एक्टिव हैं. उनके दो ही शौक हैं. व्हिस्की और घोड़े. हार्सरेसिंग उनका पसंदीदा शगल है. पालोनजी सार्वजनिक तौर पर कम ही नजर आते हैं. उनका ज्यादातर समय पुणे के फार्महाउस और आयरलैंड में गुजरता है. आमतौर पर उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता. उनके साथ काम किए लोग उन्हें जेंटलमैन बताते हैं. वो आमतौर पर लोगों की राय सुनना पसंद करते हैं लेकिन आखिरी फैसला उन्हीं का होता है.

आयरलैंड क्रिकेट पिछले कई सालों से पालोनजी आर्थिक मदद से दे रहे हैं


आयरलैंड क्रिकेट को बढाया
वैसे आयरलैंड में पिछले डेढ़ दशकों से वो वहां की क्रिकेट को आगे बढ़ा रहे हैं. क्रिकेट आयरलैंड के साथ उनका करार पिछले करीब डेढ़ दशकों से चल रहा है. चार साल पहले उनकी कंपनी ने फिर क्रिकेट आयरलैंड के साथ दस साल की कई करोड़ यूरो की डील की है. आयरलैंड के क्रिकेटर मानते हैं कि उनके देश की क्रिकेट टीम आज जहां तक भी पहुंची है, उसका श्रेय पालोनजी को ही जाता है.

पालोनजी का परिवार
पालोनजी के परिवार में दो बेटे और दो बेटियां हैं. दो बेटों में एक सायरस मिस्त्री टाटा ग्रुप के चेयरमैन रह चुके हैं तो शापोर एसपी ग्रुप की कामकाज देखते हैं. बेटियों में एक आलू की शादी टाटा ग्रुप के नोएल टाटा से हुई. पालोनजी जब लंदन में कालेज में पढ़ रहे थे, तभी उनकी भेंट पेस्टी पेरिन डबास से हुई. फिर वो शादी के बंधन में बंध गए. पत्नी के कारण ही वो आयरलैंड में अब ज्यादातर समय गुजारते हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 24, 2019, 6:05 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...