Home /News /knowledge /

कौन ज्यादा प्रदूषण फैलाते हैं विमान या कारें

कौन ज्यादा प्रदूषण फैलाते हैं विमान या कारें

कार और विमान (Cars And Planes) के बीच में हमेशा ही प्रदूषण को लेकर तुलना की जाती रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

कार और विमान (Cars And Planes) के बीच में हमेशा ही प्रदूषण को लेकर तुलना की जाती रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

लंबे समय से यह माना जाता रहा है कि विमान (Aeroplanes) कार (Cars) की तुलना में ज्यादा प्रदूषण (Pollution) करते हैं. कई आंकड़े यह भी इशारा करते हैं कि कार की तुलना में विमान अधिक मात्रा में CO2 प्रति यात्री, प्रति किलोमीटर उत्सर्जन करते हैं. लेकिन दोनों की तुलना करने आसान काम नहीं हैं. औसत यात्रियों जैसेकई कारकों को इसमें पहले से मान कर चलना ऐसे आंकड़ों की व्यापकता कम कर देता है. वहीं ताजा अध्ययन भी बताते हैं कि नई तकनीकों ने भी ऐसे आंकड़ों का प्रासंगिकता खत्म कर रहे हैं. वहीं विमान कई लिहाज से कार से बेहतर हैं तो उनसे कुछ समस्याएं भी है.

अधिक पढ़ें ...

    दुनिया में जीवाश्म ईंधन (Fossil Fuel) का उपयोग सबसे ज्यादा यातायात के लिए ही होता है. इस पर निर्भरता को खत्म करने के लिए लंबे समय से प्रयास चल रहे हैं. विमानन और सड़क परिवहन में अब भी जीवाश्म ईंधन प्रमुख रूप से विद्यमान है. लंबे समय से ग्रीनहाउस गैसों (Greenhouse Gases) के उत्सर्जन के लिए वायुयानों को भी एक बड़ा कारक माना जाता रहा है. समय के सात ट्रेन, बस यहां तक की कारों में भी विद्युत विकल्प देने पर काम चल रहा है. क्या अब भी वायुयान (Aeroplanes) सबसे ज्यादा उत्सर्जन कर रहे हैं, इस सवाल के जवाब के लिए नए आंकड़ों की जरूरत है.

    आसान नहीं है दोनों की तुलना
    अगर कारों और विमानों के बीच ग्रीन हाउसगैस उत्सर्जन के लिहाज से तुलना की जाए तो वह सीधी और आसान नहीं होगी.  इसके लिए हमें दोनों के ईंधन खपत प्रति किलोमीटर को जानना होगा. इसके बाद इसे खास उत्सर्जन कारकों से गुणा करना होगा. जो ईंधन के प्रकार पर निर्भर करता है. इसके अलावा कई और भी कारकों को शामिल करना होगा. लेकिन उन आंकड़ों को प्रति यात्री के हिसाब में भी बदलना होगा.

    कई बातें मान कर चलना
    समस्या ये है कि इस तरह के आंकलन में बहुत सारी चीजों को मान कर चलना पड़ा है. कितने किलोमीटर कीयात्रा हुई. वाहन का मॉडल एक ही मानक नहीं हो सकता, यात्रियों की संख्या व्यापक नहीं हो सकती. फिर भी यूरोपीय पर्यावरण एजेंसी रिपोर्ट ने कुछ प्रदूषण के में आंकड़े जारी किए थे, जो CO2 उत्सर्जन प्रति यात्री प्रति किलोमीटर की ईकाई में निकाले गए थे. ट्रेन का 14 ग्राम, छोटी कार का 42, औसत कार का 55, बस का 68, दो पहिया वाहन का 72 और विमान का 285 ग्राम है.

    सही तस्वीर नहीं
    क्या ऐसे में यह माना जाता सकता है कि हवाई जहाज कार से ज्यादा प्रदूषक है. वैसे तो एक  बार देखने पर लगता है की हवाई जहाज ज्यादा प्रदूषण फैला रहे हैं, लेकिन ये आंकड़े पूरी तरह से सही तस्वीर पेश नहीं कर रहे हैं. जहां कार के मामले में माना गया कि कार में चार लोग होते हैं, ऐसा हमेशा नहीं होता है. वहीं विमान यात्रियों की औसत संख्या 88 मानी गई है. जबकि कई देशों में औसत इससे कहीं अधिक होता है. जहां कार में चार यात्रियों का 55 ग्राम का आंकड़े एक होने पर 220 ग्राम हो जाएगा, वहीं 115 यात्रियों का ही औसत उसके आंकड़े को बहुत बदल देगा.

    environment, Global Warming, greenhouse gases, pollution, Cars, Planes, CO2 Emissions,

    पहले कार विमान से कम प्रदूषण (Pollution) फैलाती थीं अब विमान और कारों का प्रदूषण एक सा हो गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    सटीक नहीं रहे  ये आंकड़े
    साफ है कि अन्य अध्ययनों में आंकड़े अलग ही आएंगे. यानी ईईए के आंकड़े पूरी तरह से सही तस्वीर पेश नहीं करते. इन आंकड़ों की उपयोगिता में कारगरता अब नहीं रह सकती है क्योंकि कारों से लेकर विमानों में जबर्दस्त तकनीकी बदलाव हुए हैं विमान में नई तकनीकों ने ईंधन कारगरता बढ़ा दी है. इससे भी ईईए के आंकड़ों को वैसे का वैसा ही लेने की जरूरत नहीं है जबकि कई बार इनका उपयोग सीधे ही किया जाता रहा है.

    प्रदूषण के लिए कोयला सबसे खतरनाक लेकिन भारत क्यों नहीं रह सकता इसके बगैर

    एक से स्तर पर आ रहे हैं कार और विमान
    हाल के कुछ अध्ययन यह तक सुझा रहे हैं कि अब प्रदूषण के मामले में कार और विमान एक स्तर पर आ गए हैं और कई मामले में तो कारें विमानों से आगे हैं.  मिशिगन यूविर्सिटी ट्रांसपोर्टेशन रिसर्च इसंटीट्यूट का अध्ययन बताता है कि कार परिवहन की औसत ऊर्जा वायु परिवहन की तुलना में 57 प्रतिशत ज्यादा होती है.

    environment, Global Warming, greenhouse gases, pollution, Cars, Planes, CO2 Emissions,

    विमान प्रदूषण (Planet Pollution) वैश्विक CO2 उत्सर्नज का 2-3 प्रतिशत ही है, लेकिन फिर भी यह एक बड़ा प्रदूषण उत्सर्जक है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    लंबी दूरी के लिए उड़ान बेहतर
    इंटरनेशनल काउंसिल ऑन क्लीन ट्रांस्पोर्टेशन (ICCT) के मुताबिक लंबे यात्रा में औसतन दो लागों वाली कार दो लोगों की उड़ान की  तुलना में थोड़ा ज्यादा CO2 उत्सर्जन करती है. जबकि 3 लोगों की कार उनकी उड़ानों की तुलना में 15 प्रतिशत कम उत्सर्जन करती है. लेकिन यह लंबी दूरी के लिए ही सही है, वैसे भी हर उड़ान के लिए कार का विकल्प नहीं होता है.

    Green Houses को लेकर दुनिया को क्या सिखा रहा है नीदरलैंड    

    फिर भी कार की तुलना में छुट्टियों पर विमान से जाना बेहतर ही है. कारों में जाम और एसी के उपयोग के कारण ज्यादा ईंधन खपत करते हैं.  इसका मतलब यह नहीं है कि विमान से प्रदूषण कम हो रहा है. वे आज भी एक बहुत बड़े प्रदूषणकर्ता हैं. आज विमानन वैश्विक CO2 उत्सर्जन का 2-3 प्रतिशत के आसपास है, लेकिन सड़क परिवहन का 10 प्रतिशत तक योगदान है.

    Tags: Environment, Global warming, Research, Science

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर