Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    जानिए प्लूटो के पर्वतों पर पृथ्वी से कितनी अलग तरह से बनती है खास ‘बर्फ’

    प्लूटो (Pluto) के पर्वतों (Mountain) पर भी खास बर्फ (Ice) की चादरें छाई रहती हैं. (तस्वीर: Pixabay)
    प्लूटो (Pluto) के पर्वतों (Mountain) पर भी खास बर्फ (Ice) की चादरें छाई रहती हैं. (तस्वीर: Pixabay)

    प्लूटो (Pluto) ग्रह के पर्वत पृथ्वी (Earth) के बर्फ की चादर से ढके (Ice Capped) पहाड़ों की तरह दिखते हैं जिसकी वजह वहां की खास तरह की बर्फ है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 15, 2020, 12:02 PM IST
    • Share this:
    हमारे सौरमंडल (Solar System) के ग्रहों (Planets) के बहुत अलग अलग हालात है. सूर्य (Sun) से दूरी और अन्य वजहों से हर ग्रह के भौगोलिक स्थितियों में काफी अंतर है. वैसे तो खगोलविदों की दिलचस्पी इन ग्रहों में जीवन की संभावना के संकेतों की तलाश में ज्यादा होती है, लेकिन कई बार कुछ विलक्षण स्थितियां भी उन्हें चौंका देती है. पृथ्वी (Earth) का प्राकृतिक सौंदर्य किसी और ग्रह पर नहीं है, लेकिन प्लूटो (Pluto) पर खगोलविदों को ऐसे पहाड़ दिखे हैं जो बर्फ की तरह ढंके बिलकुल वैसे ही दिखाई देते हैं जैसे पृथ्वी पर.

    एवरेस्ट से भी ऊंचे हैं वहां के पर्वत
    नासा के न्यू होराइजन अंतरिक्ष यान ने 2015 में दिखाया कि कथूलू श्रेणी के कई पर्वत हमारे हिमालय के एवरेस्ट से भी ऊंचे हैं. इसके साथ ही इन पर्वतों में एक खासियत और है यह बर्फ से ढके हैं, लेकिन यह बर्फ पानी की बल्कि मीथेन की है.

    मीथेनी की बर्फ
    नेचर जर्नल में प्रकाशित इस अध्ययन में इस बौने (Dwarf) ग्रह पर मीथेन के निर्माण और उसकी वजह से बनने वाली प्रक्रियाओं को जानने का प्रयास किया गया है. शोधकर्ताओं ने इस पर खास तौर से कथूलू में मीथेन की बर्फ पर खास तौर से ध्यान दिया.



    खास सिम्यूलेशन का उपयोग
    शोधकर्ताओं ने प्लूटो की जलवायु के हाई रिजोल्यूशन न्यूमेरिकल सिम्यूलेशन्स का उपयोग किया. उन्होंने इसके जरिए यह जानने का प्रयास किया कि वहां पर मीथेन की बर्फ बनने की प्रक्रिया पृथ्वी के पर्वतों की चोटियों पर बनने वाली बर्फ की प्रक्रिया से कितनी अलग है.

    Earth, , Pluto
    प्लूटो (Pluto) के पर्वतों (Mountain) पर मीथेन बर्फ बनने की प्रक्रिया पृथ्वी पर बर्फ बनने की प्रक्रिया से काफी अलग होती है. (तस्वीर: Pixabay). (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


    पृथ्वी की प्रक्रिया से अलग होती है
    शोधकर्ताओं ने पाया कि मीथेन का प्लूटो के पर्वतों पर जमने की प्रक्रिया पृथ्वी पर ऊपर उठने वाली हवा की ‘एडियाबैटिक कूलिंग’ से अलग प्रक्रिया से होती है. प्लूटो के मैदान से मीथेन गैस प्रवाह के कारण कई किलोमीटर ऊपर उठने के बाद पर्वतों की चोटियों पर संघनन के कारण जम जाती हैं.

    जानिए कैसे वैज्ञानिकों ने Black Hole को तारा निगलते हुए देखा

    दोनों ग्रहों में अंतर
    वहीं पृथ्वी पर पवनें नमी वाली हवा को ऊपर ले जाती हैं जहां ठंडे तापमान के कारण पानी ठंडा होता और बर्फबारी होने से पर्वतों की चोटियां ढंक जाती है. यह खोज दोनों ग्रहों के वायुमंडलीय हालातों में अंतर के बारे में बताती है.

    यह है इस अंतर की वजह
    सूर्य और प्लूटो के बीच बहुत ही ज्यादा दूरी होने के कारण वहां का वायुमंडल बहुत ही पतला है जो लगभग खत्म होने की कगार पर लगता है. इसलिए प्लूटो के वायुमंडल में ऊंचाई के साथ तापमान बढ़ता जाता है.

    Planet, Solar System, Rotation,
    सूर्य (एहल) से प्लूटो (Pluto) की बहुत अधिक दूरी होने के कारण यह अंतर आया है. . (प्रतीकात्मक फोटो)


    यूं पर्वतों पर जमती है ये बर्फ
    वहां दिन के समय ज्यादातर जमी हुई मीथेन सीधे गैस में बदल जाती है लेकिन कथूलू की ऊंचाइयों में मीथेन जमी हुई रहती है जिससे वह समय के साथ बढ़ती गई. शोधकर्ताओं ने प्लूटो के न्यूमेरिकल क्लाइमेट मॉडल का उपयोग मेथेन की बर्फ के बनने का कारण जानने की कोशिश की.

    जानिए कैसे सूर्य के धब्बे होंगे बाह्यग्रहों में जीवन की खोज में मददगर

    उनके सिम्यूलेसन ने भी ऊंचाइयों पर मीथेन की बर्फ का जमना पाया जिससे वहां के पर्वत बर्फ से ढके नजर आए. ऐसे पूर्वी कथूलू के पिगाफेटा और एल्कानो मोन्टेस की चोटियों और ऊंचाइयों पर खास तौर से पाया गया. अध्ययन से स्पष्ट हुआ कि मीथेन का संघनन जमीन पर बनने वाले मीथेन के प्रवाह के कारण होता है जो मौसम के अनुसार तीव्र भी हो जाता है जिससे गैसीय मीथेन ऊंचे इलकों पर जाकर जम जाती है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज