लाइव टीवी

पीएम मोदी का ऐतिहासिक सऊदी अरब दौरा, होंगे ये अहम करार

News18Hindi
Updated: October 29, 2019, 9:49 AM IST
पीएम मोदी का ऐतिहासिक सऊदी अरब दौरा, होंगे ये अहम करार
रियाद एयरपोर्ट पर पीएम मोदी

पीएम मोदी (PM Modi) दो दिन के सऊदी अरब (Saudi Arab) के दौरे पर हैं. इस दौरान दोनों देशों के बीच कुछ अहम करार होने वाले हैं...

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 29, 2019, 9:49 AM IST
  • Share this:
प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) सऊदी अरब (Saudi Arab) के दौरे पर रियाद (Riyadh) पहुंच चुके हैं. प्रधानमंत्री मोदी की ये दौरा काफी महत्वपूर्ण होने वाला है. एकतरफ कश्मीर (Kashmir) में अनुच्छेद 370 हटाने के बाद पहली बार यूरोपिय सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल कश्मीर का दौरा करेगा. वहीं प्रधानमंत्री मोदी सऊदी अरब में वहां के शाह सलमान बिन अब्दुल अजीज (Salman Abdul Aziz) और युवराज मोहम्मद बिन सलमान (Mohammad Bon Salman) के साथ मुलाकात करेंगे.

पाकिस्तान, कश्मीर में अनुच्छेद 370 को खत्म करने को लेकर भारत के खिलाफ पूरी दुनिया में दुष्प्रचार में लगा है. ऐसे समय में प्रधानमंत्री का ये दौरा बेहद अहम हो जाता है.

प्रधानमंत्री मोदी के सऊदी अरब दौरे की टाइमिंग महत्वपूर्ण है. भारत को दुनिया के सामने कश्मीर को लेकर चलाए जा रहे पाकिस्तानी एजेंडे का पर्दाफाश भी करना है. साथ ही सऊदी अरब के साथ भारत की स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप भी बढ़ानी है. इस दौरे की सबसे बड़ी बात ये है कि दोनों देश आपसी रिश्तों को मजबूती देने के लिए भारत-सऊदी अरबिया स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप काउंसिल बना सकते हैं.

भारत-सऊदी अरब के बीच होंगे एक दर्जन करार

प्रधानमंत्री मोदी के सऊदी अरब दौरे में करीब एक दर्जन करार होने की संभावना है. इसमें उर्जा, रक्षा और सिविल एविएशन के क्षेत्र में होने वाले करार शामिल हैं. भारतीय अधिकारी प्रधानमंत्री मोदी के इस दो दिन के दौरे को बेहद अहम मान रहे हैं.

pm modi saudi arabia visit sign dozen agreements one on strategic partnership council hold talks with king salman
सऊदी अरब के साथ होंगे एक दर्जन करार


रियाद में भारत के राजदूत औसाफ सईद ने बताया है कि दोनों देशों के बीच 12 करार पर हस्ताक्षर होने हैं. इसमें सबसे अहम रक्षा खरीद, रिन्यूएबल एनर्जी और सिविल एविएशन के क्षेत्र में होने वाले करार हैं. औसाफ सईद ने बताया है कि प्रधानमंत्री मोदी की 2016 में सऊदी अरब दौरे के बाद, ये सबसे ऐतिहासिक दौरा होने वाला है.
Loading...

पीएम मोदी करेंगे व्यापार और निवेश पर चर्चा

प्रधानमंत्री मोदी रियाद में होने वाले फ्यूचर इन्वेस्टमेंट इनिशिएटिव फोरम को संबोधित करेंगे. यहां वो भारत में ग्लोबल इन्वेस्टर के लिए व्यापार के बढ़ते अवसर और निवेश पर चर्चा करेंगे. रियाद में ये कार्यक्रम दावोस इन द डेजर्ट के नाम से मशहूर है. 2017 में शुरू हुए इस कार्यक्रम में सऊदी अरब में निवेश के अवसरों पर चर्चा होती है. भारत की सरकार देश की इकोनॉमी को 5 ट्रिलियन तक ले जाने कि दिशा में काम कर रही है. ऐसे में ये समिट काफी अहम हो जाता है.

भारत और सऊदी अरब के बीच पेट्रोलियम के क्षेत्र में बड़े करार हो सकते हैं. इसमें वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी प्रोजेक्ट समेत कुछ प्रमुख उर्जा करार होंगे. महाराष्ट्र में 44 अरब डॉलर की लागत से वेस्ट कोस्ट रिफाइनरी प्रोजेक्ट पर दोनों देश काम कर रहे हैं. इस प्रोजेक्ट में सऊदी अरब की भी हिस्सेदारी है.

दोनों देशों के बीच पेट्रोलियम रिजर्व प्रोग्राम पर भी करार हो सकता है. इसमें पेट्रोलियम के बड़े भूमिगत भंडारण की दिशा में होने वाले करार शामिल है. भारत अपनी उर्जा की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए तीन बड़े भूमिगत भंडारण केंद्र बना रहा है. इसमें सऊदी अरब की मदद मिल रही है.

भारत-सऊदी अरब के बीच स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप काउंसिल का गठन

इस दौरे की सबसे अहम बात होगी दोनों देशों के बीच स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप काउंसिल का गठन. इस काउंसिल के गठन से दोनों देशों के रिश्ते मजबूत होंगे. प्रधानमंत्री मोदी और सऊदी के किंग सलमान इस काउंसिल के गठन को लेकर बातचीत करेंगे. इस काउंसिल के जरिए दोनों देश अपनी स्टैटेजिक पार्टनरशिप के प्रोग्रेस को मॉनिटर करेंगे.

pm modi saudi arabia visit sign dozen agreements one on strategic partnership council hold talks with king salman
भारत और सऊदी अरब के बीच स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप काउंसिल का गठन होगा


काउंसिल एक साथ दो समानातंर मैकेनिज्म पर काम करेगा- पहला दोनों देश अपने पॉलिटिकल और डिप्लोमैटिक संबंधों पर नजर रखेंगे और दूसरा व्यापारिक और उर्जा के क्षेत्र में अपने संबंधों को आगे बढ़ाएंगे. इनदोनों मैकेनिज्म के साथ काउंसिल प्रधानमंत्री मोदी और सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को रिपोर्ट करेंगे.

पहले मैकेनिज्म  की कमान भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और सऊदी अरब के विदेश मंत्री के हाथ में होगी. वहीं दूसरे मैकेनिज्म को वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और सऊदी अरब के वाणिज्य मंत्री हेड करेंगे. इस काउंसिल के गठन को लेकर पहली बार किंग सलमान के नई दिल्ली दौरे के दौरान प्रस्ताव आया था.

सऊदी अरब में लॉन्च होगा रुपे कार्ड

सऊदी अरब ने अपने 2030 के विजन के तहत दुनियाभर के 8 देशों की पहचान की है, जिसके साथ वो अपने स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप पर काम करेगा. इन देशों में भारत के अलावा चीन, यूके, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, साउथ कोरिया और जापान शामिल है. औसाफ सईद ने बताया है कि भारत चौथा देश है जो सऊदी अरब के साथ स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप काउंसिल के करार पर हस्ताक्षर करने जा रहा है.

इस दौरे की एक और अहम बात सऊदी अरब में भारत के रुपे कार्ड को लॉन्च करना है. इससे सऊदी अरब में रहने वाले भारतीयों को काफी मदद मिलेगी. हज यात्रा पर जाने वाले भारतीयों को भी इससे मदद मिलेगी. यूएई और बहरीन के बाद खाड़ी देशों में सऊदी अरब तीसरा देश होगा, जहां भारत का रुपे कार्ड चलन में होगा.

भारत अपनी उर्जा की जरूरतों को पूरा करने के लिए सऊदी अरब पर निर्भर है. दोनों देशों के बीच कारोबारी रिश्ता चला आ रहा है. लेकिन अब इस रिश्तों को स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप में बदलने की कोशिश चल रही है. इस दिशा में दोनों देश मिलकर काम कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: खराब वायु गुणवत्ता के बावजूद जानें कैसे पहले से बेहतर हैं दिल्ली के हालात

महाराष्ट्र: बीजेपी-शिवसेना में सरकार गठन को लेकर फंसा पेंच, 50-50 के फॉर्मूले पर अड़े अद्धव ठाकरे

कश्मीर पर पाकिस्तान की तमाम कोशिशों के बावजूद क्यों खामोश हैं खाड़ी देश?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 29, 2019, 9:49 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...