लॉकडाउन के बाद भी सामाजिक दूरी बनी रहेगी यात्रा का हिस्सा, हवाई सफर के नियम और होंगे सख्त

लॉकडाउन के बाद भी सामाजिक दूरी बनी रहेगी यात्रा का हिस्सा, हवाई सफर के नियम और होंगे सख्त
ये हादसा कराची एयरपोर्ट के पास हुआ है.

लॉकडाउन (Lockdown) के बाद भी हवाई सफर के दौरान यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) के नियम फॉलो करने होंगे. एविएशन कंपनियों (Aviation Companies) को सख्ती से इन नियमों का पालन कराना होगा.

  • Share this:
नई दिल्ली. 15 अप्रैल को भारत में 24 मार्च से चल रहा लॉकडाउन समाप्त हो सकता है. इसके बाद सरकार फैसला करेगी कि लॉकडाउन (Lockdown) को पूर्ववत लागू रखना है या फिर कुछ ढील दी जाए. इस क्रम में सबसे बड़ी समस्या आने वाले यात्री उपक्रमों जैसे ट्रेन और हवाई जहाजों में. लॉकडाउन खुलने के बाद क्षमता से आधी संख्या में यात्रियों के साथ प्लेन को चलाना एविएशन कंपिनियों के लिए सबसे बड़ी समस्या होगी. बिजनेस स्टैंडर्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक इंडियन एयरलाइंस और एयरपोर्ट्स को कई ऐसे सख्त नियमों का पालन करना पड़ेगा जिसमें बहुत ज्यादा सतर्कता की जरूरत होगी.

WHO की क्लीन चिट तक चलेंगी मुश्किलें
एयरलाइंस को इन नियमों का तब तक पालन करना पड़ेगा जब तक विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कोरोना वायरस की वैश्विक समाप्ति की क्लीन चिट नहीं दे देगा. जानकारी के मुताबिक एविएशन इंडस्ट्री को आगामी कई महीनों तक कड़े नियमों से गुजरना पड़ सकता है. माना जा रहा है कि सरकार डोमेस्टिक और इंटरनेशनल फ्लाइट्स से कई चरणों में रोक हटा सकती है. सरकार पूरे प्रयत्न करेगी कि एयरपोर्ट्स कोरोना महामारी दोबारा फैलने के केंद्र न बनने पाएं.


लगाए जा सकते हैं कई सख्त नियम


Directorate General of Civil Aviation (DGCA) द्वारा बनाए जा रहे नियमों के मुताबिक 186 सीटों वाले Airbus A320 प्लेन में सिर्फ 106 यात्री ही सफर कर सकेंगे. इससे प्लेन के भीतर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया जा सकेगा. एक सरकारी अधिकारी के मुताबिक बीच की सीटें खाली रखने से यात्रियों के बीच पर्याप्त दूरी बनी रहेगी. आखिरी तीन लाइन खाली रखने के पीछे कारण है कि अगर कोई विपरीत परिस्थिति बने तो यात्रियों को अलग-किया जा सके.

खाने-पीने की चीजों पर भी पाबंदी
एयरलाइंस को प्लेन के भीतर मिलने वाली खाने-पीने की चीजों पर पाबंदी का निर्देश भी दिया जाएगा जिससे यात्रियों और स्टाफ के बीच पर्याप्त दूरी रहे. यात्रियों की सीट पर पहले पैक्ड फूड के पैकेट की व्यवस्था की जाएगी. संभव है एयरलाइंस यात्रियों से अपने साथ खाना लाने की सिफारिश भी कर सकती हैं.

एयरपोर्ट के लिए भी बनेंगे नियम
एयरपोर्ट पर सोशल डिस्टेंसिंग का नियम पालन करने के लिए नियम बनाए जाएंगे. एयरपोर्ट्स को व्यवस्था करनी होगी कि चेक इन और सुरक्षा जांच के दौरान यात्रियों के बीच कम से कम 2 मीटर की दूरी रहे. एयरलाइंस से यात्रियों की थर्मल चेकिंग का नियम भी जारी किया जा सकता है. स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक थर्मल चेकिंग तब तक जारी रखी जा सकती है जब तक कोरोना पर पूरी तरह नियंत्रण न लग जाए.



सख्त नियमों पर ऐतराज
लेकिन इन सख्त नियमों पर कंपनियों के भी अपने ऐतराज हैं. माना जा रहा है कि यात्रियों की कम संख्या को देखते हुए एयरलाइंस किराए में वृद्धि कर सकती हैं. हालांकि यह भी माना जा रहा है कि लॉकडाउन हटने के तुरंत बाद लोग खुद भी यात्रा करने से कुछ दिनों तक परहेज करेंगे. विशेष रूप से ऐसे लोग जिन्हें पहले से कोई बीमारी है.

बड़ा घाटा
एविएशन कंसल्टेंसी फर्म CAPA के मुताबिक इंडस्ट्री को इस तिमाही में करीब साढ़े तीन बिलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ सकता है. बेहद सख्त नियम एयरलाइंस कंपनियों के मुश्किल खड़ी करने वाले हैं.

ये भी पढ़ें:-

भारत में क्यों बढ़ रहा डॉक्टरों और नर्सों पर कोरोना का ख़तरा

Coronavirus: 10 जिलों में हैं देश के कुल मरीजों के 30 फीसदी संक्रमित

गुलाबी नहीं इन रंगों में भी दिखाई देता है चांद, जानिए क्यों होता है ऐसा

कोरोना के लॉकडाउन में बढ़ा इन बीमारियों का ख़तरा

400 साल पहले महामारी के समय ली प्रतिज्ञा को अब तक निभा रहे गांववाले

Ozone Layer में बन रहा है एक और Hole, कहां बन रहा है यह और कितना है खतरनाक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज