लाइव टीवी
Elec-widget

कांग्रेसी CM रहे अशोक चह्वाण को हरा चुके हैं प्रताप चिखलीकर, जिनसे मिले अजित पवार

News18Hindi
Updated: November 30, 2019, 11:28 AM IST
कांग्रेसी CM रहे अशोक चह्वाण को हरा चुके हैं प्रताप चिखलीकर, जिनसे मिले अजित पवार
2019 के लोकसभा चुनाव में नांदेड़ की हाईप्रोफाइल सीट पर प्रताप चिखलीकर ने कांग्रेसी दिग्गज अशोक चह्वाण को मात दी थी.

प्रतापराव गोविंदराव चिखलीकर (Prataprao Govindrao Chikhalikar) भारतीय जनता पार्टी के नांदेड से सांसद हैं. उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रह चुके अशोक चह्वाण (Ashok Shankarrao Chavan) को चुनाव हराकर राज्यभर में सुर्खियां बटोरी थीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 30, 2019, 11:28 AM IST
  • Share this:
राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के दिग्गज नेता अजित पवार की नजह से महाराष्ट्र में राजनीतिक हलचल रुकने का नाम नहीं ले रही है. भले ही कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना का गठबंधन हो गया है लेकिन अजित पवार की वजह से तीनों दलों में उलझन बनी हुई है. अब अजित पवार ने बीजेपी के उस नेता से मुलाकात की है जिसने पिछले चुनाव में कांग्रेसी दिग्गज अशोक चह्वाण को मात दी है. बीजेपी के प्रताप चिखलीकर नांदेड़ से सांसद हैं जो कांग्रेस का गढ़ माना जाता रहा है. अशोक चह्वाण के पिता शंकरराव चह्वाण देश के गृहमंत्री रह चुके हैं और नांदेड़ को उनके मजबूत दुर्ग माना जाता है.

कौन हैं प्रताप चिखलीकर
प्रतापराव गोविंदराव चिखलीकर ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रह चुके अशोक चह्वाण को चुनाव हराकर राज्यभर में सुर्खियां बटोरी थीं. इस सीट को कांग्रेस का गढ़ माना जाता है. ये अशोक चह्ववाण के परिवार की पारंपरिक सीट मानी जाती है. लोकसभा चुनाव के दौरान जब प्रताप चिखलीकर मैदान में उतरे थे तब माना जा रहा था कि बीजेपी की लहर के बावजूद अशोक चह्वाण अपना गढ़ बचा लेंगे. लेकिन कांग्रेस को निराशा हाथ लगी और प्रताप चिखलीकर विजेता बने.

प्रताप चिखलीकर कई राजनीतिक पार्टियां बदल कर बीजेपी में पहुंचे थे.
प्रताप चिखलीकर कई राजनीतिक पार्टियां बदल कर बीजेपी में पहुंचे हैं.


कई पार्टी बदल चुके हैं प्रताप
दिलचस्प बात ये है कि खुद प्रताप चिखलीकर महाराष्ट्र की राजनीति में शंकर राव चह्वाण के शिष्य के रूप में मशहूर हैं. वो शंकर राव चह्वाण के बेहद नजदीकियों में शुमार किए जाते थे. लेकिन बाद में शंकर राव चह्वाण के बेटे अशोक चह्वाण के प्रताप धुर विरोधी बन गए. तब वो पाला बदलकर विलास राव देशमुख के खेमे में चले गए थे. साल 2004 में उन्होंने पहला विधानसभा चुनाव कांग्रेस के टिकट पर जीता. लेकिन तीन साल बाद ही जब निकाय चुनाव हुए तो उन्होंने 'प्रताप पाटिल चिखलीकर मित्र मंडल' के नाम से पार्टी बनाकर प्रत्याशी खड़े किए. इसके बाद कांग्रेस के साथ उनकी रार शुरू हो गई.

एनसीपी के बाद शिवसेना फिर बीजेपी
Loading...

2012 में प्रताप ने शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ज्वाइन की थी लेकिन दो ही साल बाद पाला बदल कर शिवसेना में पहुंच गए. शिव सेना में रहने के दौरान ही नांदेड़ डिस्ट्रिक्ट सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के डायरेक्टर का चुनाव जीते. जब 2019 का लोकसभा चुनाव नजदीक आया तो वो भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए. पार्टी ने उन्हें नांदेड़ से टिकट भी थमा दिया. नांदेड़ से चुनाव जीतकर प्रताप ने कांग्रेस को बड़ा झटका दिया था.

घरवापसी के बावजूद अजित पवार के कदम एनसीपी-कांग्रेस को समझ नहीं आ रहे हैं.
घरवापसी के बावजूद अजित पवार के कदम एनसीपी-कांग्रेस को समझ नहीं आ रहे हैं.


अजित पवार की नाखुशी की मायने
अजित पवार ने देवेंद्र फडणवीस के साथ डिप्टी सीएम पद की शपथ लेकर महाराष्ट्र से दिल्ली तक की राजनीति में तूफान ला दिया था. एनसीपी और कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व इस घटना से बिल्कुल हिल गया था. शरद पवार की राजनीतिक सूझ-बूझ और परिवार के दबाव की वजह से अजित पवार मान तो गए हैं लेकिन वो भाजपाई नेताओं से लगातार मिल भी रहे हैं. अजित पवार की वजह से महाराष्ट्र के राजनीतिक गलियारों में अब भी सुगबुगाहटों का दौर जारी है. माना जा रहा है कि अजित पवार के भीतर अब भी नाखुशी है और आगे परेशानियां भी पैदा कर सकते हैं.
ये भी पढ़ें -
अपने बेटे के बारे में बाल ठाकरे ने क्यों लिखा था-वो लड़का एक त्रासदी है
जब PAK से उड़ी अफवाह, उद्धव ठाकरे की भतीजी नेहा ने मुस्लिम से कर ली है शादी
जिस मर्डर से तय हो गया कि बाल ठाकरे की गद्दी राज नहीं उद्धव ही संभालेंगे
रश्मि-उद्धव की शादी का राज ठाकरे से क्या है कनेक्शन!
क्या राज ठाकरे के लिए संजीवनी साबित होगा उद्धव का ये राजनीतिक कदम?

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 30, 2019, 10:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com