क्या वाकई एयरकंडीश्नर की जरूरत को खत्म कर देगा यह नया पेंट?

इस खोज के बारे में कहा जा रहा है कि यह एयर कंडिशनिंग (Air Conditioning) का एक विकल्प होगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)
इस खोज के बारे में कहा जा रहा है कि यह एयर कंडिशनिंग (Air Conditioning) का एक विकल्प होगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

Cooling के क्षेत्र में हुई नई खोज को लेकर शोधकर्ताओं का दावा है कि उनका बनाया पेंट (Paint) एयर कंडीशनर्स (Air Conditioners) की जरूरत को खत्म कर देगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 23, 2020, 7:54 PM IST
  • Share this:
घरों और कमरों को ठंडा (Cooling) रखने के लिए एयर कंडीशनर्स (Air conditioners) का उपयोग आम होता जा रहा है. ये बहुत महंगे और आम जरूरतों के लिहाज से ज्यादा ऊर्जा खपत (Energy consumption) करने के लिए जाने जाते हैं. हर साल इन कई उत्पाद सामने आते हैं कजो बेहतर ऊर्जा उपयोग का दावा करते हैं. अब एक नए पेंट (Paint)  के खोजकर्ताओं का दावा है कि उनके खोजे पेंट के उपोयग के बाद लोगों को एयर कंडिशनर्स की जरूर ही नहीं पड़ेगी.

क्लोरोफ्लोरोकार्बन की भूमिका
दुनिया को 1980 में पता चला कि क्लोरोफ्लोरो कार्बन ओजोन परत में छेद होने का प्रमुख कारण है. क्लोरोफ्लोरोकार्बन आसान और सस्ते कूलिंग एजेंट के तौर पर जाने जाते हैं, जो एयर कंडीशनर्स में भी उपयोग में लाए जाते हैं. और अब भी उनका कोई किफायती विकल्प भी नहीं है.

विकल्प अब भी बहुत महंगे
क्लोरोफ्लोरो कार्बन का उपयोग एयर कंडीशनर्स के अलावा रिफ्रीजरेटर्स, ऐरोसेल्स कैन्स आदि में होता है, लेकिन पर्यावरणविद इसके उपयोग पर पाबंदी लगाने की हिमायत करते हैं. फिर भी गैरसीएफसी उत्पाद अब भी बहुत मंहगे पड़ते हैं चाहे उनकी उपयोग का खर्चा हो या फिर निर्माण की लागत हो.



एयर कंडीशनिंग का सस्ता विकल्प
पर्ड्यू यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने एयर कंडीशनिंग का एक सस्ता विकल्प ढूंढ लिया है. लोग आजकल पर्यावरण बदलाव के कारण ऊर्जा उपयोग में किफायत का महत्व भी समझने लगे हैं. ऐसे में यह खोज पर्यावरणविदों का काफी प्रोत्साहन हासिल कर सकती है.

Cooling, Air conditioning, Paints,,
दावा किया गया है कि यह पेंट (Paint) कमरे के तापमान को 10 डिग्री कम तक ठंडा रखेगा जिससे एयर कंडीशनर (AC) की जरूरत नहीं होगी. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


कितना ठंडा रखता है यह सतह को
शोधकर्ताओं ने ऐसे सफेद पेंट का निर्माण किया है जिसके बारे में दावा किया गया कि वह सतह का तापमान आसापास के वातावरण की तुलना में 10 डिग्री सेंटीग्रेड कम तक कायम रख सकता है. यह अध्ययन सेल रिपोर्ट फिजिकल साइंस जर्नल में प्रकाशित हुआ है.

जानिए कैसे पहली बार सुपरकंडक्टर ने किया सामान्य तापमान पर काम

यह पेंट कम तापमान को कायम रखता है बिलुकल जैसा एयर कंडीशनर करता है. यहां तक कि अगर इस पेंट पर सीधा सूर्य प्रकाश पड़ता है तो यह पराबैगनी किरणों को परंपरागत सफेद पेंट के मुकाबले  ज्यादा प्रतिबिंबित करता है.

कैसे है यह अभी के पेंट से अलग
वैसे तो बाजार में बहुत से गर्मी खारिज करने वाले पेंट उपलब्ध हैं, लेकिन शोधकर्ताओं का दावा है कि अभी उपलब्ध पेंट केवल 80 से 90 प्रतिशत तक सूर्यप्रकाश प्रतिबिंबित कर पाते हैं जबकि नया पेंट 95.5 प्रतिशत सूर्यप्रकाश प्रतिबिंबित तकरता है और यहां तक कि यह कारगर तरीके से इंफ्रारेड गर्मी तक को विकीर्ण (Radiate) कर सकता है.

छह साल की मेहनत
इस पेंट को विकसित करना आसान नहीं था. इसके लिए शोधकर्ताओं का छह साल का अध्ययन करना पड़ा. वहीं एयर कंडीशनर्स के विकल्प के तौर पर एक विकरण करने वाला ठंडा करने वाले पेंट को बनाने का विचार 1970 के दशक से चला आ रहा है.

Paint, Reflecting, light, AC,
यह पेंट (Paint) प्रकाश को 95 प्रतिशत से ज्यादा तक प्रतिबिंबित (Reflect) करने में सक्षम है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)


100 पदार्थों पर काम
शोधकर्ताओं ने करीब 100 अलग पदार्थों के विकल्पों पर काम किया और अंत में केवल 10 पदार्थों पर 50 तरह के संयोजनों पर काम किया उन्होंने पाया कि अंतिम संयोजन कैल्शियम कार्बोनेट पर अधिक निर्भर करता है जो पृथ्वी पर चूने के तौर पर बहुतायत में उपलब्ध है.

जानिए वैज्ञानिकों ने कैसे नापी समय की सबसे छोटी अवधि

कैल्शियम कार्बोनेट पेंट में फिलर के तौर पर काम करता है. बाकी फार्मूले में व्यवसायिक सफेद पेंट के गुण हैं लेकिन उसमें ठंडा करने के गुण भी शामिल हैं. कैल्शियम कार्बोनेट का फिलर पराबैंगनी किरणों को अवशोषित नहीं करता है. वहीं इसमें अलग-अलग आकार के कण विभिन्न वेवलेंथ के प्रकाश को बिखेर देते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज