राहुल गांधी की जिंदगी की 10 बातें, मां सोनिया ने रोते हुए कहा था- सत्ता जहर है

राहुल गांधी ने कहा था, कल रात मां मेरे कमरे में आईं, वो मेरे पास बैठी और रोने लगी. वो इसलिए रोई क्योंकि जो ताकत बहुत लोग पाना चाहते हैं वो असल में जहर है.

News18Hindi
Updated: May 25, 2019, 2:17 PM IST
राहुल गांधी की जिंदगी की 10 बातें, मां सोनिया ने रोते हुए कहा था- सत्ता जहर है
राहुल गांधी ने कहा था, कल रात मां मेरे कमरे में आईं, वो मेरे पास बैठी और रोने लगी. वो इसलिए रोई क्योंकि जो ताकत बहुत लोग पाना चाहते हैं वो असल में जहर है.
News18Hindi
Updated: May 25, 2019, 2:17 PM IST
राहुल गांधी के राजनीति में आए आठ साल हो गए थे. जयपुर में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) के अधिवेशन में उन्हें कांग्रेस उपाध्यक्ष का पद सौंपा गया. 20 जनवरी 2013 को कांग्रेस उपाध्यक्ष बनने के बाद उन्होंने पहला भाषण दिया, "बीती रात मां सोनिया गांधी मेरे पास आईं और कहा कि सत्ता जहर के समान है, जो ताकत के साथ खतरे भी लाती है.

राहुल गांधी की ये बात दूसरे मायनों में 2019 के लोकसभा चुनावों के परिणामों के बाद जोर पकड़ रही है. राहुल अपनी अमेठी सीट पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) की स्मृति ईरानी से हार गए. लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी का 17 राज्यों में खाता नहीं खुला. इस करारी हार की समीक्षा के लिए कांग्रेस कार्यकारी समिति (CWC) की बैठक चल रही है. इसमें राहुल गांधी की ओर से अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश चर्चाएं गर्म रहीं. बताया जा रहा है कि पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और मां सोनिया गांधी ने उन्हें इस्तीफा देने से रोका.



राहुल गांधी से जुड़ी कुछ उन बातों पर डालते हैं नजर, जो आमतौर पर कम मीडिया में आती है.

1. राहुल गांधी, गांधी परिवार के सबसे पढ़े-लिखे शख्स हैं. उन्होंने कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी के ट्रिनिटी कॉलेज से डेवलपमेंट इकॉनॉमिक्स में एम.फिल किया है. पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने कुछ सालों तक एक प्रबंधन कंपनी में काम भी किया. फिर वो भारत लौट आए.



2. जनवरी 2004 में पहली बार राहुल गांधी अमेठी गए. यह उनके पिता का लोकसभा क्षेत्र था. पूर्व पीएम राजीव गांधी अमेठी से चुनाव लड़ते थे. तब उस सीट पर मां सोन‌िया गांधी सांसद थीं. जब उन्होंने अमेठी का दौरा किया तब साफ हो गया कि वो राजनीति में उतर रहे हैं. मार्च 2004 में राहुल ने लोकसभा चुनाव 2004 लड़ने की घोषणा की. हालांकि जनवरी में उन्होंने कहा था, "मेरा राजनीति में आना अभी तय नहीं है."

3. अपने जीवन के पहले चुनाव में राहुल ने अमेठी से करीब तीन लाख वोटों से बड़ी जीत हासिल की. राहुल गांधी को पहले चुनाव में 3,90,179 वोट मिले. उनके निकटतम प्रतिद्वंदी बीएसपी के चंद्र प्रकाश मिश्रा को 9,326 वोट और बीजेपी के राम विलास वेदांती को 55,438 वोट मिले.
Loading...

4. साल 2004 में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) की सरकार बनी. राहुल गांधी युवा नेता के तौर पर स्‍थापित हुए. जनवरी 2006 हैदराबाद में कांग्रेस का एक सम्मेलन चल रहा था. इसमें हजारों युवा कांग्रेसी कार्यकर्ता व नेता चाहते थे कि वो पार्टी में बड़ी भूमिका लें. राहुल ने तब बड़ा पद लेने से मना दिया.



5. साल 2007 में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों के दौरान राहुल गांधी ने कुछ जगहों पर चुनाव प्रचार किया.  उन्होंने कहा कि अगर बाबरी मस्जिद विध्वंस के वक्त अगर गांधी परिवार का कोई शख्स राजनीति में प्रमुख रूप से सक्रिय होता तो ऐसा नहीं होता. राहुल के इस बयान को तब विपक्षी पार्टी बीजेपी ने प्रमुख मुद्दा बनाया. एम वेंकयानायडू लगातार उनपर प्रहार करते रहे. कई मौकों पर उन्होंने राहुल के इस बयान को पीवी नरसिम्हा राव के साथ हिंदू विरोधी बताया.

इसे भी पढ़ें :- Lok Sabha Election में हार के बाद राहुल गांधी की डेस्क पर लगा इस्तीफों का अंबार

6. साल 2008 में यूपी की मुख्यमंत्री मायावती ने राहुल को चंद्रशेखर आजाद कृषि विश्वविद्यालय में छात्रों के सामने संबोधन की अनुमति नहीं दी. तब वो राष्ट्रीय मीडिया में बड़ी खबर बने. इसी घटना के कुछ दिनों बाद प्रदेश के राज्यपाल टीवी राजेश्वर ने विवि के कुलपति वीके सूरी को हटा दिया. इसे राहुल की ताकत से जोड़कर देखा गया.

7. साल 2009 आम चुनावों में राहुल दोबारा अमेठी से चुनाव में मैदान में कूदे. उन्होंने प्रतिद्वंदी को तीन लाख से ज्यादा वोटों से हराया. उनके निकटतम प्रतिद्वंदी बीएसपी के आशीष शुक्ला को 93,997 वोट मिले थे. जबकि 71.78 फीसदी वोटों के साथ राहुल गांधी को 4,64,195 वोट मिले.



8. लोकसभा चुनाव 2009 में यूपीए 2 की सरकार बनी. राहुल गांधी पार्टी में युवा नेता के तौर पर प्रमुख चेहरे बन चुके थे. तब राहुल के पीएम पद पर ताजपोशी पर पार्टी में ही सहमति नहीं बन पाई. ऐसा जिक्र कई किताबों में बाद में किया गया. हालांकि कांग्रेस ने हमेशा ऐसी बातों को कोरी कल्पना ही बताया.

9. जनवरी 2013 में राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी के उपाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई. तब उन्होंने कहा, "कल रात मां मेरे कमरे में आईं, वो मेरे पास बैठी और रोने लगी. वो इसलिए रोई क्योंकि जो ताकत बहुत लोग पाना चाहते हैं वो असल में जहर है. राहुल ने कहा कि सत्ता की ताकत का अच्छा और बुरा दोनों असर पड़ता है। हमें अच्छे को साथ रखना है."

इसे भी पढ़ें :- PM नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रियों ने राष्ट्रपति को सौंपा इस्तीफा

10. साल 2014 के आम चुनाव में यूपीए की करारी हार हुई. कांग्रेस पार्टी 44 सीटों पर सिमट गई. तब विरोधियों ने उन्हें सबसे ज्यादा निशाने पर रखा. हालांकि राहुल अमेठी की सीट बचाने में कामयाब रहे. लेकिन बीजेपी उम्मीदवार स्मृति ईरानी ने कड़ी टक्कर दी. राहुल के 4,01,651 वोटों की तुलना में स्मृति को 3,00,748 वोट मिले. यहीं से लगने लगा कि अमेठी का किला राहुल के लिए खिसकने लगा है साथ ही कांग्रेस पार्टी का भी पतन इसी चुनावों के साथ शुरू हो चुका था.



देश में कांग्रेस पार्टी के लिए चल रहे कठ‌िन दिनों में दिसंबर 2017 में राहुल गांधी को अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी गई. लोकसभा चुनाव 2019 में वो कांग्रेस को उबार नहीं पाए बल्कि कांग्रेस को फिर बुरी पराजय का सामना करना पड़ा है. खुद राहुल अमेठी से अपनी सीट नहीं बचा पाए. हालांकि वायनाड से सात लाख वोटों से कहीं ज्यादा अंतर से जीत के साथ वो लोकसभा में जरूर पहुंचने में कामयाब रहे हैं. अब ये कांग्रेस में अध्यक्ष पद से उनके इस्तीफे की चर्चाएं जोरों पर हैं.

बीजेपी से हार के बाद CWC की मीटिंग आज, राहुल गांधी कर सकते हैं इस्तीफे की पेशकश
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...