राजीव गांधी हत्या की दोषी नलिनी की बेटी ने हासिल की है लंदन में ऊंची शिक्षा

नलिनी की बेटी का जन्म उस वक्त हुआ था, जब वो राजीव गांधी की हत्या के आरोप में जेल में बंद थी. 6 साल तक नलिनी अपनी मां के साथ जेल में रही, उसके बाद वो अपने दादी के पास चली गई..

News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 2:49 PM IST
राजीव गांधी हत्या की दोषी नलिनी की बेटी ने हासिल की है लंदन में ऊंची शिक्षा
नलिनी की बेटी हरिद्रा श्रीहरन लंदन में रह रही है
News18Hindi
Updated: July 25, 2019, 2:49 PM IST
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दोष में उम्रकैद की सजा काट रही नलिनी श्रीहरन जेल से बाहर आ चुकी है. उसे अपनी बेटी की शादी में शामिल होने के लिए 30 दिन की पैरोल मिली है. नलिनी ने अपनी बेटी की शादी के लिए 6 महीने के लिए पैरोल मांगी थी. हालांकि उसे 30 दिन की ही पैरोल मिली. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारे दंपति नलिनी और मुरुगन की बेटी हरिद्रा लंदन में रहती है. नलिनी और मुरुगन की बेटी, जिसे पहले मेगारा के नाम से भी जाना जाता था, उसकी कहानी दिलचस्प है. हत्या की दोषी मां की बेटी ने लंदन में रहकर ऊंची शिक्षा हासिल की है.

जेल में हुआ था नलिनी की बेटी का जन्म
नलिनी ने जून 1991 में अपनी गिरफ्तारी के कुछ दिनों पहले ही तिरुपति में मुरुगन से शादी की थी. नलिनी श्रीहरन पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के आरोप में जेल में बंद थी. उसी दौरान 1992 में वेल्लोर जेल में ही नलिनी की बेटी का जन्म हुआ. 21 जनवरी 1992 को नलिनी ने एक बेटी को जन्म दिया, जिसे पहले मेगारा के नाम से जाना गया. बाद में उसे हरिद्रा श्रीहरन का नाम मिला.

rajiv gandhi assassination case know all about nalini murugan daughter megara harithra sriharan
नलिनी की बेटी का जन्म वेल्लोर जेल में राजीव गांधी हत्याकांड के ट्रॉयल के दौरान ही हुआ


ये बड़ा ही संवेदनशील मसला था. एक तरफ पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या जैसा भीषण आरोप, दूसरी तरफ आरोपी का जेल के अंदर ही मां बनना. एक बेटी को अपनी मां के किए की सजा भुगतनी पड़ी.
नलिनी की बेटी हरिद्रा जन्म के बाद के कुछ वर्षों तक अपनी मां के साथ जेल में ही रही. छह साल की उम्र तक नलिनी की बेटी हरिद्रा श्रीहरन अपनी मां के साथ जेल में ही रही. 6 साल के बाद उसके जेल में रहने का प्रावधान नहीं रह गया. उसके बाद वो जेल से बाहर अपनी दादी के पास आ गई. मुरुगन की मां उसे लेकर श्रीलंका चली गईं.

नलिनी की बेटी हरिद्रा के बचपन की कड़वी यादें
Loading...

हरिद्रा श्रीहरन के मन में बचपन की कड़वी यादें आज भी जिंदा है. वो बताती रही हैं कि किस तरह बचपन में उसे स्कूल में मुश्किलों का सामना करना पड़ा. जब उसे अपनी मां के अपराध की गंभीरता का अंदाजा हुआ तो उसे बड़ी शर्मिंदगी महसूस हुई. वो स्कूल में बिल्कुल शांत रहती. शर्मिंदगी की वजह से वो किसी भी स्कूल फंक्शन में हिस्सा नहीं लिया करती थी. 13 साल की उम्र में एक बार जेल में वो अपने पैरेन्ट्स से मुलाकात करने पहुंची. उसने पूछा, 'आप लोगों ने ऐसा रास्ता क्यों अख्तियार किया.' पैरेन्ट्स के पास कोई जवाब नहीं था.

rajiv gandhi assassination case know all about nalini murugan daughter megara harithra sriharan
6 साल की उम्र तक नलिनी की बेटी उसके साथ जेल में ही रही


श्रीलंका में पूरी की शुरुआती स्कूली पढ़ाई
श्रीलंका में ही हरिद्रा ने अपनी शुरुआती स्कूली पढ़ाई की. हरिद्रा को श्रीलंकाई पासपोर्ट के जरिए भारत से श्रीलंका ले जाया गया था. हरिद्रा के पिता और दादी दोनों ही श्रीलंकाई नागरिक हैं. इसी आधार पर वो श्रीलंका गई. बाद में उसकी नागरिकता का मुद्दा कोर्ट में जिरह का सबब बना. कोर्ट में हरिद्रा के पैरेन्ट्स ने अर्जी डाली थी कि चूंकि हरिद्रा का जन्म भारत में हुआ है और उसकी मां भी भारतीय है, इसलिए उसे भारत की नागरिकता दी जाए. लेकिन इंडियन अथॉरिटी ये मानने को तैयार नहीं थी.

मद्रास हाईकोर्ट में ये मामला खूब चर्चित हुआ. मद्रास हाईकोर्ट ने भी माना कि जन्म के आधार पर हरिद्रा को भारतीय नागरिकता दी जाए और उसे भारत आने का वीजा जारी किया जाए. हालांकि भारतीय एजेंसियां इससे बचती रहीं.

rajiv gandhi assassination case know all about nalini murugan daughter megara harithra sriharan
नलिनी की शुरुआती पढ़ाई श्रीलंका में हुई बाद में वो लंदन चली गई


2006 में भारत आई थी नलिनी की बेटी
जनवरी 2006 में भारतीय एजेंसियों को हरिद्रा को भारत आने का वीजा देना पड़ा. हरिद्रा ने वेल्लोर जेल में अपने पैरेन्ट्स से मुलाकात की. भारतीय एजेंसियों की इस बात के लिए आलोचना की जाती रही कि वो नलिनी की बेटी पर नजर नहीं रख पाए. कहा जाता है कि श्रीलंका में शुरुआती पढ़ाई के बाद नलिनी की बेटी हरिद्रा अपने पिता के भाई के पास लंदन चली गई. बीच में भारतीय एजेंसियों को पता चला कि वो नॉर्वे में रह रही है.

नलिनी की बेटी ने की थी अपने पैरेन्ट्स की सजा माफ करने की अपील
नलिनी और मुरुगन दोनों को फांसी की सजा हुई थी. हरिद्रा के जन्म की वजह से ही सोनिया गांधी ने उसकी फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने की अपील की थी. 2000 में नलिनी की फांसी की सजा उम्रकैद में बदल दी गई. 2008 में प्रियंका गांधी ने वेल्लोर जेल में नलिनी से मुलाकात की थी. प्रियंका ने नलिनी से पूछा कि आखिर उसने उसके पिता राजीव गांधी को क्यों मारा. नलिनी की बेटी हरिद्रा ने बड़े होने पर अपने पैरेन्ट्स की सजा माफ किए जाने की अपील की. कुछ टेलीविजन चैनल्स के साथ बातचीत में उसने कहा कि उसके पैरेन्ट्स को अब माफ कर दिया जाना चाहिए.

rajiv gandhi assassination case know all about nalini murugan daughter megara harithra sriharan
नलिनी को अपनी बेटी की शादी में शामिल होने के लिए 30 दिन की पैरोल मिली है


लंदन में नलिनी की बेटी ने हासिल की है ऊंची शिक्षा
लंदन में हरिद्रा ने उच्च शिक्षा हासिल की है. बताया जाता है कि 2011 में हरिद्रा श्रीधरन ने यूके की ग्लास्गो यूनिवर्सिटी में दाखिल लिया. उसने बॉयो मेडिसिन की पढ़ाई शुरू की. हरिद्रा ने अपनी पढ़ाई पूरी कर ली है. अब उसकी शादी हो रही है. नलिनी को अपनी बेटी की शादी में शामिल होने के लिए ही पैरोल मिली है.

ये भी पढ़ें: कारगिल दिवस: शहीद बेटे की आखिरी झलक के लिए मां को करना पड़ा 43 दिन का इंतजार

नॉर्थ कोरिया ने फिर किया मिसाइल परीक्षण, जानें किम जोंग उन के ‘एटम बम’ में कितना दम

एक नदी की ‘हत्या’ की तहकीकात : जानें कैसे यमुना को मौत की नींद सुला रहे हैं हाइड्रो पावर प्लांट्स
First published: July 25, 2019, 2:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...