Home /News /knowledge /

वो 09 नियम क्या हैं, जिनका पालन राज्यसभा में सांसदों के लिए जरूरी

वो 09 नियम क्या हैं, जिनका पालन राज्यसभा में सांसदों के लिए जरूरी

राज्यसभा के 12 सांसदों को निलंबित कर दिया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

राज्यसभा के 12 सांसदों को निलंबित कर दिया गया है. (सांकेतिक तस्वीर)

Rule To Follow by Rajya Sabha Members : राज्यसभा में अभूतपूर्व कार्रवाई में 05 सियासी दलों के 12 सांसदों को पूरे शीतकालीन सत्र (Winter Session) के लिए निलंबित (Suspend) कर दिया गया है. ये सांसद मानसून सत्र (Monsoon Session) के आखिरी दिन जबरदस्त हंगामा करने के अलावा हिंसात्मक कार्रवाई पर उतारू थे. राज्य सभा की नियमावली क्या कहती है कि एक सांसद का आचरण कार्यवाही के दौरान कैसा होना चाहिए. इसमें ऐसे 09 नियम हैं, जिनका पालन जरूर हर सदस्य को करना चाहिए

अधिक पढ़ें ...

    अभी राज्यसभा में 05 विपक्षी दलों के 12 सांसदों को पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया गया है. पहली बार राज्यसभा में इतने सांसदों पर इतनी कड़ी कार्रवाई हुई है. विपक्ष इससे नाराज है, लेकिन राज्यसभा के कुछ ऐसे नियम हैं, जिनका पालन उसके सदस्यों को करना चाहिए. कुछ ऐसी भी बातें जो राज्यसभा में कभी नहीं करनी चाहिए.

    क्या नहीं करना चाहिए, उसे लेकर राज्यसभा में एक नियमावली है. ये नियमावली हर सांसद को तभी दे दी जाती है, जब वो राज्यसभा के लिए चुने जाते हैं. वैसे हम आपको बता दें कि राज्यसभा के सभापति ने नियम 256 के तहत जिन 12 सांसदों का निलंबन किया है. उन्हें मानसून सत्र के आखिरी दिन जबरदस्त हिंसा और सुरक्षाकर्मियों के प्रति हिंसात्मक रुख के कारण इस अनुशासनात्मक कार्रवाई का सामना करना पड़ा है.

    अब हम जानते हैं कि राज्यसभा की नियमावली के अनुसार वो कौन सी 09 बातें हैं जो राज्यसभा के सदस्य उच्च सदन में नहीं कर सकते. अगर वो ऐसा करते हैं तो तुरंत कार्रवाई की जद में आ जाते हैं. कुछ बातें ऐसी भी हैं जो उनसे करने की अपेक्षा की जाती है.

    राज्यसभा की नियमावली हर सदस्य से 09 नियमों को मानने की बात कहती है (फाइल फोटो)

    क्या हैं वो 09 बातें
    ये बातें राज्यसभा की नियमावली में नियम 235 के तहत दर्ज हैं, जिसके पालन की उम्मीद हर राज्यसभा सदस्य से सत्र की कार्यवाही के दौरान की जाती है.
    जब राज्य सभा की बैठक हो रही हो तब कोई सदस्य :-
    1. ऐसी पुस्तक, समाचार-पत्र या पत्र नहीं पढ़ेगा जिसका राज्य सभा की कार्यवाही से संबंध न हो
    2. किसी सदस्य के भाषण देते समय उसमें अव्यवस्थित बात या शोर या किसी अन्य अव्यवस्थित तरीके से बाधा नहीं डालेगा.
    3. राज्य सभा में प्रवेश करते समय या राज्य सभा से बाहर जाते समय और अपने स्थान पर बैठते समय या वहां से उठते समय भी सभापीठ के प्रति नमन करेगा.
    4. जब सभापीठ और कोई सदस्य भाषण दे रहा हो तो उसके बीच से नहीं गुजरेगा.
    5. जब सभापति राज्य सभा को संबोधित कर रहे हों तो राज्य सभा से बाहर नहीं जाएगा.
    6. सदैव सभापीठ को संबोधित करेगा.
    7. राज्य सभा को संबोधित करते समय अपने सामान्य स्थान पर ही रहेगा
    8. जब वह राज्य सभा में नहीं बोल रहा हो तो शांत रहेगा
    9. कार्यवाही में रुकावट नहीं डालेगा. हल्ला नहीं मचाएगा. बाधा नहीं डालेगा. जब राज्य सभा में भाषण दिए जा रहे हों तो साथ-साथ उनकी टीका-टिप्पणी नहीं करेगा.

    संसद सदस्यों से आमतौर पर सदन की कार्यवाही के दौरान बेहतर आचरण की उम्मीद की जाती है, जिसके बारे में संसद की नियमावली में उल्लेख किया गया है लेकिन हाल के दशकों में आचरण के स्तर में लगातार गिरावट देखने को मिली है.

    आमतौर पर टूटते ही रहते हैं ये नियम
    हालांकि ये नियम बने तो जरूर हैं लेकिन हम ये देखते हैं कि आमतौर पर राज्यसभा में कार्यवाही के दौरान इन सभी नियमों को तोड़ने की प्रथा सी ही बन गई है. अनुशासन की दृष्टि से अगर सदस्य ये नियम हल्के फुल्के तौर पर तोड़ते हैं तो नजर अंदाज ही किया जाता है, लेकिन ज्यादा हंगामा करने या तोड़फोड़ करने पर कार्रवाई की जाती है.

    Tags: Parliament, Rajya sabha, Rajya Sabha MP

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर