• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • कभी बीजेपी की तारीफों के पुल बांधा करते थे इतिहासकार रामचंद्र गुहा

कभी बीजेपी की तारीफों के पुल बांधा करते थे इतिहासकार रामचंद्र गुहा

बेंगलरु पुलिस ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा को हिरासत में लिया.

बेंगलरु पुलिस ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा को हिरासत में लिया.

पुलिस की तरफ से कहा जा रहा है कि रामंचद्र गुहा (Ramchandra Guha) जिस टाउन हॉल एरिया में खड़े थे, वहां धारा 144 लागू थी. इसलिए उन्हें हिरासत (detained) में लिया गया.

  • Share this:
    मशहूर इतिहासकार (Famous Historian) और टिप्पणीकार रामचंद्र गुहा (Ramchandra Guha) को बेंगलुरु की पुलिस (Bengaluru Police) ने हिरासत में ले लिया है. रामचंद्र गुहा नागरिकता संशोधन एक्ट (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने पहुंचे थे. एक टीवी चैनल को इंटरव्यू देने के दौरान उन्हें पुलिस ने हिरासत में लिया. दो-तीन पुलिसकर्मी रामचंद्र गुहा को खींचते हुए अपने साथ ले गए. देश के एक सम्मानजनक और मशहूर इतिहासकार के साथ पुलिसिया ज्यादती पर सोशल मीडिया में तीखी प्रतिक्रिया जताई जा रही है.

    पुलिस की तरफ से कहा जा रहा है कि रामंचद्र गुहा जिस टाउन हॉल एरिया में खड़े थे, वहां धारा 144 लागू थी. इसलिए उन्हें हिरासत में लिया गया. हालांकि जिस वक्त उन्हें हिरासत में लिया गया, वहां रामचंद्र गुहा के अलावा एक टीवी रिपोर्टर ही मौजूद था.

    रामचंद्र गुहा इतिहासकार होने के साथ-साथ मशहूर टिप्पणीकार हैं. उन्होंने मौजूदा राजनीतिक दौर के बारे में वक्त-वक्त पर अपनी राय खुलकर जाहिर की है. कई मौकों पर उन्होंने कांग्रेस को लेकर बड़ी बात कही है तो कभी बीजेपी के भविष्य को लेकर बड़ी संभावना जताई.

    2014 से पहले कर दी थी बीजेपी के अच्छे दिनों की भविष्यवाणी
    रामचंद्र गुहा ने 2014 के चुनाव से पहले ही बीजेपी के अच्छे दिनों की भविष्यवाणी कर दी थी. लोकसभा चुनाव से पहले ही रामचंद्र गुहा ने कह दिया था कि मौजूदा राजनीतिक दौर में कांग्रेस का भविष्य अच्छा नहीं है. अगले 5 से 10 वर्षों में कांग्रेस पार्टी या तो खत्म हो जाएगी या पार्टी बिना गांधी परिवार के ही चलेगी. पार्टी के अंदर नया नेतृत्व उभरेगा. उन्होंने कहा था कि एक वक्त ऐसा था, जब कांग्रेस को गांधी परिवार की जरूरत थी लेकिन अब गांधी परिवार को कांग्रेस की जरूरत है. गांधी परिवार अपने आखिरी दौर से गुजर रहा है.

    ramchandra guha detained by bengaluru police in protest of citizenship amendment act know what guha said for bjp earlier
    रामचंद्र गुहा


    रामचंद्र गुहा ने 2014 के चुनावों में मोदी लहर होने की बात स्वीकार की थी. उन्होंने कहा था कि ऐसा लगता है कि नरेंद्र मोदी ने बीजेपी को लाभ पहुंचाया है. इसके दो साल बाद 2016 में बीजेपी को लेकर रामचंद्र गुहा ने फिर बड़ी बात कही. एक इंटरव्यू में रामचंद्र गुहा ने कहा था कि देश के भीतर बीजेपी इतनी ताकतवर हो चुकी है, जितनी 1960 और 1970 के दशक में कांग्रेस पार्टी हुआ करती थी. भविष्य में बीजेपी एकलौती राष्ट्रीय पार्टी होने की ओर आगे बढ़ रही है.

    रामचंद्र गुहा ने कहा था कि राष्ट्रीय पार्टी के स्तर पर बीजेपी का कोई विकल्प नहीं दिख रहा है. अगले 15-20 वर्ष बीजेपी के होंगे. इस दौरान बीजेपी चारों ओर से ताकतवर बनकर उभरेगी. भारतीय राजनीति की दशा और दिशा तय करने वाली सिर्फ यही एकमात्र राजनीतिक ताकत होगी.

    राहुल के नेतृत्व पर उठाया था बड़ा सवाल
    2017 में रामचंद्र गुहा ने एक और बड़ा राजनीतिक स्टेटमेंट देकर सनसनी मचा दी थी. एक टीवी इंटरव्यू के दौरान रामचंद्र गुहा ने कहा था कि कांग्रेस बिना नेता की पार्टी है और नीतीश कुमार बिना पार्टी के नेता. रामचंद्र गुहा के कहने का मतलब था कि कांग्रेस के पास मजबूत कार्यकर्ताओं का संगठन हैं लेकिन राहुल गांधी नेतृत्व देने में असमर्थ हैं. वहीं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में गजब की नेतृत्व क्षमता है लेकिन उनके पास मजबूत और बड़ी कार्यकर्ताओं वाली पार्टी नहीं है. उन्होंने सुझाव दिया था कि अगर नीतीश कुमार कांग्रेस पार्टी की कमान संभाल लें तो पार्टी का कायापलट हो सकता है. उस वक्त रामचंद्र गुहा के इस बयान ने काफी सुर्खियां बटोरी थीं.

    ramchandra guha detained by bengaluru police in protest of citizenship amendment act know what guha said for bjp earlier
    पूरे देश में CAA का विरोध हो रहा है


    रामचंद्र गुहा ने बताई थी प्रधानमंत्री मोदी की राजनीतिक ताकत
    इसी के बाद मार्च 2017 में रामचंद्र गुहा ने एक और बड़ा पॉलिटिकल स्टेटमेंट दिया. उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के बाद तीसरे सबसे सफल प्रधानमंत्री बनने के करीब हैं. उन्होंने कहा कि मोदी का करिश्मा और अपील जाति और भाषा की सीमाओं के परे है.

    रामचंद्र गुहा ने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के इंडिया समिट को संबोधित करते हुए ये बात कही थी. उन्होंने कहा था कि नेहरू और इंदिरा के बाद भारत में ऐसा कोई प्रधानमंत्री नहीं हुआ, जिसकी देश में उस तरह की पकड़ हो, इस तरह के अधिकार हों.

    पिछले साल कुछ दलित एक्टिविस्ट की गिरफ्तारी पर भी रामचंद्र गुहा ने कड़ा बयान दिया था. उन्होंने मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर छापे और उनकी गिरफ्तारी पर कहा था कि ये सरकार का क्रूर, सत्तावादी, दमनकारी. मनमाना और अवैध कदम है. ये लोग आदिवासियों की भूमि, वन और खनिज संसाधनों पर कब्जा करना चाहते हैं.

    उस वक्त उन्होंने ट्वीट करके लिखा था कि 'गांधी की जीवनी लिखने की वजह से मुझे इस बात में कोई संदेह नहीं कि अगर आज महात्मा जिंदा होते तो वो वकालत करने कूद पड़ते और सुधा भारद्वाज के पक्ष में कोर्ट में खड़े होते. अगर मोदी सरकार ने उन्हें गिरफ्तार या हिरासत में नहीं लिया होता. '

    ये भी पढ़ें:

    तो क्या फिर सच साबित होगी डोनाल्ड ट्रंप को लेकर प्रोफेसर की भविष्यवाणी
    क्या डोनाल्ड ट्रंप के हाथ से चली जाएगी राष्ट्रपति की कुर्सी? जानें महाभियोग मामले में आगे की राह
    विरोध प्रदर्शन में सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान किया तो हो सकती है इतने साल की सजा
    क्या यूनिवर्सिटी कैंपस में पुलिस को घुसने की अनुमति है, क्या कहता है कानून?

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज