रानी दुर्गावती बलिदान दिवस: वीरता, सौंदर्य और कुशल शासन की बेमिसाल कहानी

रानी दुर्गावती (Rani Durgawati) को गोंडवाना का महान शासक माना जाता है. (फाइल फोटो)

Rani Durgawati Balidan diwas: गोंडवाना (Gondwana) की इस वीरांगना की कहानी में शौर्य, सौदर्य और लोकप्रिय शासन का मिलाजुला रूप है.

  • Share this:
    इतिहास में महिला वीरांगनाओं की कम संख्या नहीं हैं. लेकिन उनमें से केवल रानी दुर्गावती (Rani Durgawati) ऐसी हैं जिन्हें उनके बलिदान और वीरता के साथ गोंडवाना (Gondwana) का एक कुशल शासक के तौर पर भी याद किया जाता है.  24 जून को देश उनका बलिदान दिवस (Balidan Diwas) मनाता है जब उन्हें मुगलों की आगे हार स्वीकार नहीं की और आखिरी दम तक मुगल सेना का सामना कर उसकी हसरतों को कभी पूरा नहीं होने दिया.

    इस क्षेत्र में था शासन
    रानी दुर्गावती का जन्म 1524 में हुआ था. उनका राज्य गोंडवाना में था. वे कलिंजर के राजा कीर्तिसिंह चंदेल की एकमात्र संतान थीं. दुर्गावती के पति दलपत शाह का मध्य प्रदेश के गोंडवाना क्षेत्र में रहने वाले गोंड वंशजों के 4 राज्यों, गढ़मंडला, देवगढ़, चंदा और खेरला, में से गढ़मंडला पर अधिकार था. दुर्भाग्यवश रानी दुर्गावती से विवाह के 4 वर्ष बाद ही राजा दलपतशाह का निधन हो गया.

    खुद संभाली बागडोर
    पति के निधन के समय समय दुर्गावती का पुत्र नारायण 3 वर्ष का ही था अतः रानी को स्वयं ही गढ़मंडला का शासन संभालना पड़ाय वर्तमान जबलपुर उनके राज्य का केंद्र था. रानी ने 16 साल तक इस क्षेत्र में शासन किया और एक कुशल प्रशासक की अपनी छवि निर्मित की. लेकिन उनके पराक्रम और शौर्य के चर्चे ज्यादा थे. कहा जाता है कि कभी उन्हें कहीं शेर के दिखने की खबर होती थी, वे तुरंत शस्त्र उठा कर चल देती थीं और और जब तक उसे मार नहीं लेती, पानी भी नहीं पीती थीं.

    Indian History, Rani Durgawati, Rani Durgawati Balidan diwas, Jabalpur, Gondwana, Akbar,
    रानी दुर्गावती (Rani Durgawati) ने बार बार अदम्य साहस का परिचय दिया था.(तस्वीर: Wikimedia Commons)


    खूबसूरती की तारीफ अकबर तक
    रानी दुर्गावती बेहद खूबसूरत भी थीं. जब मानिकपुर के सूबेदार ख्वाजा अब्दुल मजीद खां ने रानी दुर्गावती के विरुद्ध अकबर को उकसाया था. अकबर अन्य राजपूत घरानों की विधवाओं की तरह दुर्गावती को भी रनिवासे की शोभा बनाना चाहता था. बताया जाता है कि अकबर ने उन्हें एक सोने का पिंजरा भेजकर कहा था कि रानियों को महल के अंदर ही सीमित रहना चाहिए, लेकिन दुर्गावती ने ऐसा जवाब दिया कि अकबर तिलमिला उठा.

     कैसे हुई थी झांसी की इस ‘मर्दानी’ की शहादत

    मुगलों के विरूद्ध
    रानी दुर्गावती ने मुगल शासकों के विरुद्ध कड़ा संघर्ष किया था और उनको अनेक बार पराजित किया था और हर बार उन्होंने जुल्म के आगे झुकने से इंकार कर स्वतंत्रता और अस्मिता के लिए युद्ध भूमि को चुना. दो हमलों के बाद 24 जून 1564 को मुगल सेना ने फिर हमला किया तब तक रानी की सैन्य शक्ति कम हो गई थी. ऐसे में रानी ने अपने पुत्र नारायण को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया.

    , Indian History, Rani Durgawati, Rani Durgawati Balidan diwas, Jabalpur, Gondwana, Akbar
    रानी दुर्गावती (Rani Durgawati) का मदन महल उनकी धरोहर माना जाता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)


    ऐसे हुआ अंत
    युद्ध के दौरान पहले एक तीर उनकी भुजा में लगा, रानी ने उसे निकाल फेंका. दूसरे तीर ने उनकी आंख को बेध दिया, रानी ने इसे भी निकाला पर उसकी नोक आंख में ही रह गयी. इसके बाद तीसरा तीर उनकी गर्दन में आकर धंस गया. अंत समय निकट जानकर रानी ने वजीर आधारसिंह से आग्रह किया कि वह अपनी तलवार से उनकी गर्दन काट दे, पर वह इसके लिए तैयार नहीं हुआ. अतः रानी अपनी कटार स्वयं ही अपने सीने में भोंककर आत्म बलिदान के पथ पर बढ़ गयीं.

    अपनी लेखन क्षमता तक समर्पित कर दी थी आजादी के लिए बिस्मिल ने

    आज भी याद किया जाता है रानी को
    जबलपुर के पास जहां यह ऐतिहासिक युद्ध हुआ था, उस स्थान का नाम बरेला है. मंडला रोड पर स्थित रानी की समाधि बनी है, जहां गोण्ड जनजाति के लोग अपने श्रद्धासुमन अर्पित करते हैं. रानी के ही नाम पर जबलपुर में स्थित रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय रखा गया है. रानी की मृत्यु के बाद उनका देवर चंद्रशाह ने मुगलों की अधिनता स्वीकार कर ली और शासक बना.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.