होम /न्यूज /नॉलेज /किन्नर यानी थर्ड जेंडर शिशु के जन्म की क्या होती है वजह

किन्नर यानी थर्ड जेंडर शिशु के जन्म की क्या होती है वजह

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

दरअसल जन्म के दौरान जब महिला और पुरुष के क्रोमोजम्स में गड़बड़ी हो जाती है तो फिर ये थर्ड जेंडर के जन्म के रूप में सामन ...अधिक पढ़ें

    हिजड़ा यानी किन्नर को अंग्रेजी में eunuch (युनक) और थर्ड जेंडर कहा जाता है. ऐसे शिशु कैसे जन्म लेते हैं, इसका अपना विज्ञान है. पहले मेल और फीमेल भ्रूण बनने का विज्ञान समझिए. महिला में x-x क्रोमोजम्स होते हैं. पुरुष में x-y. महिला के x क्रोमोजम्स पुरुष के x क्रोमोजम्स से मिलने पर फीमेल भ्रूण बनता है. महिला के x क्रोमोजम्स और पुरुष के y क्रोमोजम्स के मिलने पर मेल भ्रूण बनता है. लेकिन क्रोमोजम्स डिसऑर्डर के चलते ही थर्ड जेंडर भ्रूण विकसित होने लगता है.

    क्रोमोजम्स स्पर्म और अंडाशय
    क्रोमोजम्स स्पर्म और अंडाशयों में होते हैं. जब स्पर्म यानी शुक्राणु, अंडे में प्रवेश कर उसके साथ क्रिया करते हैं, तब भ्रूण बनने की शुरुआत होती है. क्रोमोजम्स x-x से फीमेल जननांग और x-y से मेल जननांग वाला भ्रूण बनता है. क्रोमोजम्स के डिसऑर्डर से थर्ड जेंडर भ्रूण बनने की शुरुआत होती है.

    साइंस ने इसे मेटाबोलिक डिसऑर्डर, congenital adrenal hyperplasia और क्रोमोजम्स का असामान्य होना कहा है. क्रोमोजम्स डिसऑर्डर होने की वजह फिक्स नहीं है. बहुत से जेनेटिक डिसऑर्डर्स की वजह से सेक्स क्रोमोजम्स मिसिंग होते हैं, जैसे कि xyyy क्रोमोजम्स के साथ मिलने से बर्थ डिफेक्ट हो सकता है. अगर ऐसा हुआ तो शिशु अस्पष्ट जननांग के साथ जन्म लेगा.

    द्विलिंग 
    हिजड़े जैविक रूप से (biologically) स्त्री या पुरुष हो सकते हैं. जननांगों की बात करें तो वे वजाइना, पेनिस या द्विलिंग के साथ भी जन्म लेते हैं. हिजड़े वे कहलाते हैं, जिस शिशु के जननांग साफतौर पर मेल या फीमेल जैसे नहीं होते, इनके लिए intersex टर्म भी इस्तेमाल किया जाता है. इस कंडीशन को pseudo-hermaphrodites भी कहा जाता है. जिसका मतलब है, उनके अस्पष्ट गुप्तांग होते हैं. उनके ओवरी और टेस्टिस दोनों हो सकते हैं. या एक भी नहीं.

    News18 Hindi

    असामान्य जननांग
    जननांग एबनॉर्मल होने में पेनिस, टेस्टिस के साथ भग-शिश्न (clitoris) होना भी शामिल हो सकता है. कुछ शिशु पुरुष शरीर के साथ जन्म लेते हैं. लेकिन प्रौढ़ता के दौरान हॉर्मोनल डिसबैलेंस की वजह से उनके शरीर में ब्रेस्ट डेवलेप होते हैं. उस स्थिति को Gynacomastia कहते हैं. विज्ञान के मुताबिक वे हिजड़ा नहीं हैं.

    भ्रूण का जननांग डेवलेपमेंट
    शुरुआत में मेल-फीमेल भ्रूण के जननांग एक ही टिश्यू से बनते हैं. टेस्टास्टरोन हार्मोन मेल रिप्रोडक्टिव टिश्यू बनाने में अहम रोल निभाते हैं. इसका हाई लेवल जननांगों को पेनिस बनाने में मदद करता है. वहीं scrotum और penile urethra भ्रूण को फीमेल बनाते हैं.

    टेस्टास्टरोन का लेवल कम या न होने से क्लिटर्स, लाबिया (दोनों फीमेल जननांग का हिस्सा) और वजाइना के लिए अलग नाल का निर्माण भ्रूण को फीमेल बनाता है.

    मेल जननांग में कमी
    मेल जननांग पूरी तरह डेवलेप न होने की वजहों में टेस्टास्टरोन हार्मोन में कमी होना भी शामिल है. जिस वजह से मेल शिशु छोटे पेनिस और टेस्टिस के साथ जन्म लेता है. इनके टेस्टिस की स्किन उम्र के साथ कम या ज्यादा नहीं होती.

    News18 Hindi

    फीमेल जननांग में कमी
    फीमेल जननांग में क्लिटर्स बड़े होते हैं और लाबिया (आउटर लिप्स) आपस में जुड़े होते हैं. इसे fused labia कहा जाता है. अमूमन शिशुओं का लाबिया जुड़ा नहीं होता. यदि हो भी तो 6 माह तक नॉर्मल हो जाता है. लेकिन शिशु हिजड़ा हो तो उसका लाबिया उम्र बढ़ने के साथ प्राकृतिक रूप से अलग नहीं होता. जिसकी वजह शरीर में मेल हार्मोन की तादाद ज्यादा होना मानी जाती है.

    बड़े क्लिटर्स, छोटे पेनिस बनने को दर्शाते हैं. यदि शिशु को फीमेल जेंडर ठहराना तय किया जाए तो उभरे बाहरी जननांग की सर्जरी की जाती है. इस प्रोसेस में क्लिटर्स साइज घटाकर, मूत्रमार्ग (urethra) को ठीक कर वजाइना को नॉर्मल करते है.

    ट्रांसजेंडर जन्म के समय खुद को निर्दिष्ट लिंग से नहीं जोड़ते. हिजड़ा समुदाय ट्रांसजेंडर का ही एक उप-समूह है. इसका चलन भारतीय उप-महाद्वीप में ज्यादा है.

    ट्रांसजेंडर कौन होते हैं-
    मेल टू फीमेल (M2F): ये पुरुष शरीर के साथ जन्म लेते हैं लेकिन खुद को फीमेल जेंडर से जोड़ते हैं. या अपनी पहचान बतौर स्त्री ही देते हैं.

    फीमेल टू मेल F2M: ये स्त्री शरीर के साथ जन्म लेते हैं लेकिन खुद को पुरुष जेंडर से जोड़ते हैं. या अपनी पहचान भी बतौर मेल जेंडर ही देते हैं.

    ये भी पढ़ें-
    इंडोनेशिया प्लेन क्रैश: ये हैं दुनिया के सबसे बड़े 10 प्लेन क्रैश

    कौन है वो 'पंडलम रॉयल फैमिली' जो सबरीमाला का मालिक होने का दावा करती है

    Tags: Baby Care, Health Explainer, Health News, Transgender

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें