जानिए पृथ्वी टकराने वाला उस पिंड के बारे में, जो चंद्रमा के बनने का था कारण

पृथ्वी के जिस प्रोटो प्लैनेट के टकराने से चंद्रमा (Moon) बना था वह पिछले अनुमानों से कहीं बड़ा था.  (तस्वीर: Pixabay)

पृथ्वी के जिस प्रोटो प्लैनेट के टकराने से चंद्रमा (Moon) बना था वह पिछले अनुमानों से कहीं बड़ा था. (तस्वीर: Pixabay)

चंद्रमा (Moon) के बनने की प्रक्रिया के बारे में माना जाता है कि वह पृथ्वी (Earth) से एक प्रोटोप्लैनेट थिया (Porotplanet Thia) के टकराव से बना था. यह शोध कहता है कि थिया के अवशेष पृथ्वी के मैंटल में मौजूद है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 6:14 PM IST
  • Share this:
हमारे सौर मंडल (Solar System) में चंद्रमा का निर्माण कैसे हुआ इस पर कई मत है. इनमें से प्रमुख मत है कि चंद्रमा पहले पृथ्वी का ही हिस्सा था. बहुत से वैज्ञानिकों का मानना है क चंद्रमा 4.5 अरब साल पहले पृथ्वी से थिया नाम के प्रोटो प्लैनेट के पृथ्वी से टकराने के बाद बना था. अब ताजा शोध का कहना है कि उस ग्रह के अवशेष पृथ्वी की मैंटल में आज भी मौजूद हैं.

मौजूद हैं उसके अवशेष

इस अध्ययन के मुताबिक थिया के अवशेष दो महाद्वीपों के आकार की परतों की चट्टानों के रूप में पृथ्वी की गहरे मैंटल में मौजूद हैं. पिछले सप्ताह हुई 52 लूनार एंड प्लैनेटरी साइस कॉन्फ्रेंस में टेम्पे की ऐरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के जियोडाइनानिक्स के पीएचडी छात्र कियान युआन ने बताया कि दशकों से सीजमोलॉजिस्ट पश्चिमी अफ्रीका और प्रशांत महासागर के नीचे के इलाकों की पड़ताल की है.

बहुत ही विशाल इलाका है ये
यह हजारों किलोमीर लंबा और उसके कई गुना चौड़ा, करीब दो महाद्वीपों के आकार की परतों की चट्टान पृथ्वी के मैंटल की सबसे बड़ी चट्टान वाला इलाका है. अपने शोधपत्र में युआन ने मॉडलिंग और नए आइसोटोपिक प्रमाणों का आधार पर चर्चा की.  उनके मुताबिक लार्ज  लोशियर वेलोसिटी प्रोविंस (LLSVPs)  के उस ग्रह के अवशेष हैं. पहले यह माना है कि LLSVP  केवल पृथ्वी की गहराई के मैग्मा के क्रिस्टलीकरण से बना है. एक मत यह भी था कि यह उस टकराव, जिससे चंद्रमा का निर्माण हुआ, के प्रभाव से बना था.

, Moon, Earth, Formation of moon, Impact theory, Protoplanet, Thia, Protoplanet Thia, LLSVP, Iceland, Mantle, History of earth,
चंद्रमा (Moon) के निर्माण में जो पिंड टकराया था उसका आकार पृथ्वी के बराबर था. (तस्वीर: Pixabay)


1970 की थ्योरी में अंतर



1970 के दशक में इम्पैक्ट थ्योरी का प्रतिपादन किया गया था जिसमें यह व्याख्या भी की गई थी कि चंद्रमा सूखा क्यों है और उसकी लौह क्रोड़ क्यों नहीं हैं. इसके मुताबिक थिया पृथ्वी की गहरी चट्टान से टकराया था और  पानी जैसे उड़नशील पदार्थ उड़ गए होंगे जबकि कम घनी चट्टानों से मिलकर चंद्रमा का निर्माण हुआ होगा. इस थ्योरी के मुताबिक टकराने वाला ग्रह मंगल या उससे छोटा रहा होगा. लेकिन युआन की कार्य बताता है कि थिया पृथ्वी जितना बड़ा ग्रह ही रहा होगा.

वैज्ञानिकों ने दिया चांद पर लाखों शुक्राणु-प्रजनन कोशिकाएं सहेजने का प्रस्ताव

किस तरह के मिले प्रमाण

साइंस मैग्जीन की रिपोर्ट के मुताबिक युआन का प्रस्ताव अभी पूरी तरह से प्रमाणित नहीं हुआ है, लेकिन डेविस की कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी के जियोकैमिस्ट सुजॉय मुखोपाध्याय का कहना है कि आइसलैंड और सैमोआ से मिले प्रमाण बताते हैं कि LLSVP का अस्तित्व तब से है जब से चंद्रमा का निर्माण हुआ था.

, Moon, Earth, Formation of moon, Impact theory, Protoplanet, Thia, Protoplanet Thia, LLSVP, Iceland, Mantle, History of earth,
शोध के मुताबिक थिया (Thia) के अवशेष पश्चिमी अफ्रीका से लेकर प्रशांत महासागर के नीचे तक मौजूद हैं. (फाइल फोटो)


कब हुआ होगा ये

सीजमिक इमेजिंग तकनीक से वैज्ञानिकों ने मैग्मा के संकेत देखे जो ज्वालामुखियों ने आइसलैंड और समोआ द्वीपों के दोनों ओर LLSVP तक देखे. उन्होंने पिछले कई दशकों से देखा कि इन द्वीपों में रेडियोधर्मी तत्वों के आइसोटोप मौजूद हैं जो पृथ्वी के इतिहास के पहले 10 करोड़ सालों के दौरान बने थे.

कितना संभव है चीन के लिए चंद्रमा पर लंबे समय तक एस्ट्रोनॉट्स को ठहरा पाना

इसी बीच युआन के कार्य से सीधे ना जुड़े हुए एक दूसरे वैज्ञानिक और एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी के सीजमोलॉजिस्ट एडवर्ड गार्नेरो का कहना है कि यह पहली बार है कि किसी इस तरह के इतने विविध प्रमाण प्रस्तुत किए हैं और इस संभावना का एक मजबूत पक्ष रखा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज