Coronavirus का खौफ: वेंटिलेटर खरीद कर घर में रख रहे हैं रूस के रईस लोग

Coronavirus का खौफ: वेंटिलेटर खरीद कर घर में रख रहे हैं रूस के रईस लोग
रूस में एक दिन में संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले दर्ज हुए हैं.

मॉस्को टाइम्स की इन्वेस्टिगेशन में ये सामने आया है कि रईस लोग अपने घर में सिर्फ वेंटिलेटर ही नहीं बल्कि इलाज की पूरी व्यवस्था करवा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2020, 9:23 AM IST
  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
कोरोना महामारी (Corona Pandemic) फैलने के साथ दुनियाभर से ये भी खबरें आने लगी थीं कि लोग घरेलू इस्तेमाल की चीजों का स्टॉक भर रहे हैं. दुनियाभर से ऐसी तस्वीरें आईं जिनमें स्टोर खाली दिखाई दे रहे थे. अब रूस के मॉस्को टाइम्स अखबार में एक ऐसी खबर प्रकाशित हुई है जो दिल दहला देने वाली है.

मॉस्को टाइम्स में प्रकाशिक एक रिपोर्ट के मुताबिक रूस में रईस लोग कोरोना के डर से वेंटिलेटर खरीद रहे हैं. रूस की सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक देशभर में करीब 43 हजार वेंटिलेटर मौजूद हैं. ऐसे में अमीर लोगों को ये डर सताने लगा है कि अगर वो भी बीमार हुए और वेंटिलेटर नहीं मिल पाया तो क्या होगा?

डर की एक और वजह ये भी है कि रूस में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों का इलाज सरकारी अस्पतालों में ही रहा है. रईस लोगों के बीच ये भी उलझन है कि उन्हें संक्रमित होने की स्थिति में सरकारी अस्पतालों में आम लोगों के साथ इलाज कराना पड़ेगा. अगर उनके पास खुद का वेंटिलेटर होगा तो वो बीमार पड़ने की स्थिति में अपने घर में ही इलाज करवा सकेंगे.



प्रतीकात्मक तस्वीर




मॉस्को टाइम्स की इन्वेस्टिगेशन में ये सामने आया है कि रईस लोग अपने घर में सिर्फ वेंटिलेटर ही नहीं बल्कि इलाज की पूरी व्यवस्था करवा रहे हैं. जिससे देश में कोरोना की स्थिति और भयावह होने की स्थिति में उन्हें इलाज के दौरान किसी तरह की तकलीफ का सामना न करना पड़े.

रिपोर्ट में रूस के बेहद रईस परिवार के व्यक्ति के साथ बातचीत में यह खुलासा भी किया कि एक वेंटिलेटर खरीदा गया है और अभी दूसरे के लिए बात चल रही है.

गौरतलब है कि जब कोरोना के मरीजों की तबीयत ज्यादा खराब होती है और उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने लगती है तब वेंटिलेटर की आवश्यकता पड़ती है. दुनियाभर में इस समय कोरोना वायरस की वजह से वेंटिलेटर की मांग बहुत ज्यादा बढ़ गई है. अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों ने स्वीकार किया है कि उनके पास वेंटिलेटर की संख्या कम पड़ सकती है.

यही कारण है कि अब ज्यादातर देशों ने दूसरे देशों को वेंटिलेटर बेचना बंद कर दिया है. पहले वो अपनी जरूरतें पूरी कर रहे हैं. हालांकि रूस में अभी अन्य देशों की तुलना में मरीजों की संख्या कम है. यहां अभी तक 495 कंफर्म केस आए हैं.

प्रतीकात्मक तस्वीर


अगर तुलनात्मक रूप से देखा जाए तो रूस में वेंटिलेटर की संख्या ठीक है. जहां इटली में एक लाख लोगों पर केवल आठ वेंटिलेटर ही मौजूद हैं वहीं रूस के पास एक लाख की आबादी पर 29 वेंटिलेटर हैं.
ये भी पढ़ें:

धर्मस्थलों के पास अकूत संपत्ति, क्या कोरोना से लड़ाई में सरकार लेगी उनसे धन

ग्राफिक्स से समझिए कि कैसे शरीर में घुसकर इंसान को बीमार बनाता है कोरोना वायरस!

देश के 30 राज्यों में लॉकडाउन, जानिए जनता को इस दौरान क्या करने की आजादी?

इटली और अमेरिका के हालात खतरनाक, महीनेभर में आंकड़ा दहाई से हजारों में
First published: March 25, 2020, 9:22 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading