लाइव टीवी

भगवद् गीता की शपथ लेते हैं ब्रिटेन के नए वित्त मंत्री ऋषि सुनाक

News18Hindi
Updated: February 13, 2020, 7:19 PM IST
भगवद् गीता की शपथ लेते हैं ब्रिटेन के नए वित्त मंत्री ऋषि सुनाक
ब्रिटेन के वित्त मंत्री साजिद जावेद के इस्तीफा देने के बाद ऋषि को इस पद के लिए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने चुना है.

39 वर्ष की उम्र में ब्रिटेन के वित्त मंत्री बनाए गए ऋषि सुनाक मूल रूप से पंजाब से ताल्लुक रखते हैं. वो इंफोसिस के फाउंडर नारायण मूर्ति के दामाद हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2020, 7:19 PM IST
  • Share this:
भारतीय आईटी कंपनी इंफोसिस के फाउंडर नारायण मूर्ति (Narayan Murhthy) के दामाद ऋषि सुनाक (Rishi Sunak) को ब्रिटेन का वित्त मंत्री बनाया गया है. दरअसल ब्रिटेन के वित्त मंत्री साजिद जावेद के इस्तीफा देने के बाद ऋषि को इस पद के लिए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने चुना है. इसकी जानकारी खुद बोरिस जॉनसन के ट्विटर अकाउंट के जरिए दी गई है.

जावेद का इस्तीफा
ऋषि से पहले ब्रिटेन के वित्त मंत्री पद पर पाकिस्तानी मूल के साजिद जावेद काम कर रहे थे. उनके प्रवक्ता ने गुरुवार को मीडिया को जानकारी दी कि बोरस जॉनसन के पीएम बनने के बाद पहली बार मंत्रिमंडल में फेरबदल किया गया है. जावेद देश के गृहमंत्री भी रह चुके हैं. तब भी उनकी जगह एक भारतीय प्रीति पटेल को जगह दी गई थी. ब्रिटिश मीडिया में आई कुछ खबरों के मुताबिक बोरिस जॉनसन चाहते थे कि जावेद अपने मंत्रालय से कुछ लोगों को बाहर निकाल दें लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया.

ऋषि सुनाक रिचमंड संसदीय सीट से लगातार तीन बार सांसद चुने जा चुके हैं.


राजनीति से पहले करियर
ऋषि सुनाक ने अपने करियर की शुरुआत बिजनेस एनालिस्ट के तौर पर की थी. वो साल 2006 से 2009 तक हेग फंड के साथ मिलकर काम करते रहे. सुनाक नारायण मूर्ति की भी एक फर्म में डायरेक्टर ऑफ इनवेस्टमेंट के तौर पर काम करते रहे हैं.

राजनीतिक सफरसुनाक का राजनीतिक सफर साल 2015 में शुरू हुआ था जब वो कंजरवेटिव पार्टी के प्रत्याशी के तौर पर रिचमंड सीट से सांसद बने थे. तब देश के आम चुनाव में कंजरवेटिव पार्टी की सरकार बनी थी और डेविड कैमरन एक बार फिर देश के प्रधानमंत्री बने थे. चुनाव जीतने के बाद वो Environment, Food and Rural Affairs Select Committee के सदस्य रहे. उन्होंने यूरोपीय यूनियन से यूनाइटेड किंगडम के अलग होने के प्रस्ताव का समर्थन किया था.

2017 में हुए आम चुनाव में सुनाक एक बार फिर पहले से ज्यादा वोटों से सांसद चुने गए. इस बार भी कंजरवेटिव पार्टी की सरकार बनी और प्रधानमंत्री थेरेसा में की नीतियों का सुनाक खुलकर समर्थन करते रहे. लेकिन उन्हें महत्वपूर्ण दिया जाना शुरू हुआ बोरिस जॉनसन के पीएम बनने के बाद. बोरिस जॉनसन सरकार में उन्हें Chief Secretary to the Treasury जैसा महत्वपूर्ण पद दिया गया है. अब उन पर भरोसा जताते हुए ब्रिटिश पीएम ने वित्त मंत्री बनाया है.

पत्नी अक्षिता (सबसे दाएं) के साथ साथ ऋषि सुनाक.


गीता पर हाथ रख कर लेते हैं शपथ
साल 2017 में जब ऋषि सुनाक दूसरी बार सांसद बने थे तो उन्होंने भागवद्गगीता पर हाथ रख कर शपथ ली थी. इस साल जब वो चुनाव जीते तो भी ये सिलसिला कायम रखा. एक अखबार ने जब इसे लेकर उनसे सवाल किया तो उनका जवाब था-मैं पूर्ण रूप से ब्रिटिश हूं और ये मेरा देश है. लेकिन मेरी धार्मिक और सास्कृतिक विरासत भारतीय है. मेरी पत्नी भी वहीं हैं. मैं खुले रूप में कहता हूं कि मैं एक हिंदू हूं. ये मेरी पहचान है.'

नारायण मूर्ति के दामाद
ऋषि मूल रूप से भारत के पंजाब से ताल्लुक रखते हैं. उनका परिवार काफी पहले ब्रिटेन चला गया था. उनके दादा-दादी का जन्म पंजाब में हुआ था. उनके पिता ब्रिटेन में ही डॉक्टर थे. ऋषि सुनाक इंफोसिस के फाउंडर नारायण मूर्ति के दामाद हैं. नारायण मूर्ति की बेटी अक्षता मूर्ति और ऋषि की मुलाकात स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई के दौरान हुई थी. दोनों की शादी साल 2009 में हुई थी. कपल को दो बेटियां हैं.
ये भी पढ़ें:

वो ताकतवर और सुंदर महारानी जो अपने रियासत के दीवान पर ही फिदा थी
‘क्रिमिनल’ नेताओं को क्यों टिकट देती हैं पॉलिटिकल पार्टियां
इस कांग्रेसी सांसद पर हैं 204 क्रिमिनल केस, स्मृति ईरानी को 'धमकाने' के लगे थे आरोप
वो महिला जो गांधीजी को लिटिलमैन, जुलाहा या मिकी माउस कहती थी
तब ऋषि चार्वाक आयोजित करते थे वेलेंटाइन जैसा प्यार का पर्व, होता था खूब विरोध
जब 22 साल की एक लड़की ने खुफिया रेडियो सेवा शुरू कर अंग्रेजों को दिया था चकमा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 7:06 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर