चीनी सेना में शामिल हुआ है नया रोबोट, जानिए कैसे बढ़ा रहा है उसकी सैन्य ताकत

चीनी सेना में शामिल हुआ है नया रोबोट, जानिए कैसे बढ़ा रहा है उसकी सैन्य ताकत
चीनी सेना में रोबोट के आने से उसके सैनिकों की क्षमता बढ़ गई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

चीनी सेना PLA में एक नया रोबोट योद्धा (Robot Warrior) शामिल किया गया है जो उसकी सैन्य क्षमता को बढ़ाने में काफी मददगार साबित होगा.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली: इस समय पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Corona virus) के जूझ रही है. फिर भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सैन्य तनाव भी कम नहीं हैं. इस तनाव के केंद्र में चीन (China) है. अमेरिका चीन के बीच संबंध पहले से ही तनावपूर्ण हैं और हाल ही में दोनों देशों के बीच तल्खी बढ़ने के बाद चीन ने अपनी सेना को तैयार रहने को कहा. उसका सैन्य विकास कार्यक्रम बदस्तूर जारी है. इस कड़ी में चीनी सेना में एक खास तरह के रोबोट योद्धा (Robot warriors) शामिल किए हैं.

किस तरह के रोबोट हैं ये
चीन हमेशा से ही अपनी सैन्य ताकत को बढ़ाने के साथ ही उसका प्रदर्शन भी करता रहता है. हाल ही में चीन ने अपनी सैना ने बहुत से रॉबोट योद्धा शामिल किए हैं. इस बार शामिल होने वाले रॉबोट मशीन गन और मिसाइल लोड करने वाली क्रैन जैसे मॉडल हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि ऐसे रॉबोट इंसानी सैनिकों का शारीरिक श्रम कम करने के साथ-साथ उनके खतरे को भी कम करेंगे.

क्या क्या कर सकते हैं ये रोबोट



चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी यानि PLA के पास अब छोटे मैदानी रोबोट आ गए हैं, जो मुश्किल इलाकों में आ जा सकते हैं, जंग के मैदान का सटीक मुआयना कर सकते हैं और घातक हथियार उपलब्ध करा सकते हैं. सोमवार को इस रोबोट के बारे में चीनी सेंट्रल टेलीविजन (CCTV) पर रिपोर्ट देते समय पीएलए की ईस्टर्न थिएटर कमांड ने सिना वेबियो पर कहा.



Robot
रोबोट खतरनाक टोही मिशन पर भी इंसान की जगह भेजे जा सकेंगे.(प्रतीकात्मक तस्वीर)


लड़ाई के मैदान में एक टैंक की तरह
 सीसीटीवी रिपोर्ट के अनुसार, एक मीटर से भी कम ऊंचाई वाला ये रोबोट एक छोटे से हमला करने वाले वाहन की तरह दिखता है. यह टैंक की ही तरह चल सकता है, खुद को लड़ाई के समय मुश्किल इलाकों के मुताबिक ढाल सकता है, तेजी से आने जाने के अलावा यह सीढ़ियां भी चढ़ सकता है.

खतरनाक मिशन में भी काम आ सकता है यह रोबोट
यह रोबोट मशीन गन से लैस है और इसमें अवलोकन करने के अलावा नाइट विजन उपकरणों के साथ अन्य उपकरणों को पहचानने की क्षमता भी है. खतरनाक टोही जासूसी मिशन में यह इंसानी सैनिकों की भी जगह ले सकता है. लक्ष्य अभ्यास से पता चलता है कि के रोबोट की स्वीकार्य सटीकता है और इसके जरिए हथियारों के उपयोग के लिए अब भी इंसानी नियंत्रण की जरूरत होगी. सीसीटीवी का कहना है कि नए रोबोट योद्धाओं के चीन शामिल में होना एक आम बात होती जा रही है.

इंसानी सैनिकों का बोझ करेंगे हलका
पीएलए में ये रोबोट बड़ी संख्या में शामिल हो रहे हैं. ये रॉकेट लॉन्चर में मिसाइल लोड करने का काम करेंगे जिससे एक ही लॉन्चर से जल्दी जल्दी मिसाइल लॉन्च की जा सकेगी. परंपरागत क्रेन धीरे काम करती है और उसे मानवीय सहयोग की जरूरत पड़ती है, लेकिन ये रोबोट योद्धा इस समस्या को हल कर देंगे.

China
रोबोट चीनी सैनिकों का काफी बोझ हलका कर सकते हैं.


इंसानी सैनिकों को मिलेगा यह फायदा
एक सैन्य विशेषज्ञ ने बताया कि इस तरह के गैर इंसानी सिस्टम धीरे धीरे इंसानी सैनिकों से भारी कार्यों और बहुत खतरनाक कामों का बोझ हटा देंगे. इससे वे अपना ध्यान लड़ाई के समय लिए जाने वाले फैसलों, तकीनीकी और रणनीति गतिविधियों पर पर केंद्रित कर सकेंगे. विशेषज्ञ का कहना है कि लड़ाकू रोबोट लोगों का ध्यान ज्यादा खींचते हैं, लेकिन इस तरह का सहयोग करने वाले रोबोट भी सैना की लड़ाकू क्षमता के लिए बहुत अहम साबित होगी.

चीन की सेना में ऐसे रोबोट का शामिल होना बताता है कि वह सैन्य तकनीक में कितना आगे जा रहा है. हाल ही में भारत और चीन सीमा तनाव को लेकर भी चीन को बयान देने सामने आना पड़ा था. भारत और चीन के बीच सीमा संबंध बहुत ही संवेदनशील और तनाव भरे रहे हैं. ऐसे में चीन का अपनी सैन्य ताकत बढ़ाने का यह प्रयास भारत के लिए अहम संकेत है.

यह भी पढ़ें:

हम सभी में छिपा है एक जीनियस, क्या सक्रिय किया जा सकता है उसे?

क्या है मंगल का वह खास नक्शा जो बताता है कि वहां का वायुमडंल कैसे हुआ खाली

अंतरिक्ष के कचरे का Tax है बेहतर इलाज, जानिए यह शोध क्यों कहता है ऐसा

खगोलविदों को दिखी, Ring of fire galaxy, जानिए क्यों दिया गया इसे यह नाम
First published: May 29, 2020, 12:59 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading