Home /News /knowledge /

russian european mars mission suspended over ukraine war viks

रूस यूक्रेन युद्ध के चलते रद्द हुआ रूस- यूरोपीय मंगल अभियान

रूस और यूरोप मिलकर मंगल (Mars) पर एक रोवर भेजनेवाले थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

रूस और यूरोप मिलकर मंगल (Mars) पर एक रोवर भेजनेवाले थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

यूक्रेन (Ukraine के साथ युद्ध के पहले रूस (Russia) अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष कार्यक्रमों में एक प्रमुख भागीदार था. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन इसका सबसे बड़ा उदाहरण है. इसके अलावा रूस और यूरोपीय स्पेस एजेंसी भी कई कार्यक्रमों में भागीदारी कर रहे थे. जिसमें दोनों का एक संयुक्त मंगल अभियान पर काम चल रहा था जिसे इस साल सितंबर में लॉन्च होना था. एसा (ESA) ने इस अभियान को रद्द कर दिया है.

अधिक पढ़ें ...

    रूस यूक्रेन युद्ध ( Russia Ukraine War) में रूस से केवल अमेरिका और नाटो देशों के साथ ही संबंध खराब नहीं  हुए हैं. रूस को यूक्रेन का यूरोपीय संघ के प्रति झुकाव पर भी ऐतराज था. यूक्रेन की के साथ कुछ नजदीकियां रही हैं तो यूरोपीय संघ से भी वह काफी निकट रहा है और यूरोपीय संघ भी यूक्रेन के साथ कई बार दिखा है. लेकिन युद्ध से रूस ने एक तरह से पूरे यूरोप को अपने खिलाफ कर लिया है. इसका सीधा असर रूस यूरोप के अंतरिक्ष  संबंधों पर हुआ है और रूस एवं यूरोप का संयुक्त मंगल अभियान इस युद्ध की भेंट चढ़ गया है.

    रद्द कर दिया है अभियान
    यूरोपीय स्पेस एजेंसी ने बयान में कहा है रूसी योरोपीय अभियान जो मंगल पर रोवर भेजने केलिए तैयार किया जा रहा था रूस के यूक्रेन पर हमले के कारण रूस पर लगाए गए प्रतिबंधों के लगने से रद्द कर दिया गया है. एजेंसी ने ने अपना एक्सोमार्स अभियान के रद्द करने की पुष्टि करते  हुआ है कि यूक्रेन में लोगों के मारे जाने और युद्ध से होने वाली अन्य नुकसान की निंदा की.

    इस साल सितंबर में रूस को करना था प्रक्षेपण
    एक्सोमार्स अभियान इस साल सितंबर को लॉन्च किए जाने की तैयारी थी जिसके लिए रूस लॉन्चर से रोवर मंगल ग्रह पर भेजे जाना था जो मंगल पर मिट्टी का अध्ययन कर वहां जीवन के संकेतों की  पड़ताल करने वाला था. वहीं रूसी स्पेस एजेंस रोसकोसमोस ने भी यूरोपीय यूनियन के प्रतिबंधों पर प्रतिक्रिया दी और फ्रेंच गुयाना स्थिति यूरो के स्पेस पोर्ट कोउरोउ से अपने सौ से भी ज्यादा कर्मचारी वापस बुला लिए हैं और प्रक्षेपण रद्द कर दिए हैं.

    दूसरे विकल्पों पर होगा विचार
    यूरोपीय स्पेस एजेंसी की रूलिंग काउंसिल ने गुरुवार को अपने बयान में कहा कि उसके डायरेक्टर जनरल एक फास्ट ट्रैक उद्यम अध्ययन करेगें जिससे एक्सोमार्स रोवर अभियान को आगे ले जाने के लिए उपलब्ध विकल्पों को बेहतर तरीके से परिभाषित किया जा सके. एक्सो मार्स की साल 2020 में प्रक्षेपित करने की योजना थी.

    Space, Mars, Russia, Europe, ESA, Roscosmos, Russia Ukraine War, ISS, Exomars,

    यूरोपीय स्पेस एजेंसी (ESA) ने इस अभियान के रद्द होने का ऐलान किया. (तस्वीर: Wikimedia Commons)

    मगंल की मिट्टी का अध्ययन होना था
    साल 2019 में ही कोविड महामारी फैलने से यह अभियान टाल दिया गया था और अब इसे सितंबर में कजाकिस्तान के बाइकोनूर कॉज्मोड्रोम से रूस के प्रोटोन रॉकेट द्वारा प्रक्षेपित किया जाना तय हुआ था, जहां इसे मंगल की मिट्टी तक रूस के काजाचोक लैंडर के द्वारा पहुंचाना था.

    यह भी पढ़ें: रूस यूक्रेन युद्ध ने उठाए सवाल, अंतरिक्ष पर है किसका राज

    और ज्यादा टल जाएगा रोवर प्रक्षेपण
    यूरोपीय स्पेस एजेंसी का इस रोवर का नाम अंग्रेज कैम्स्ट और डीएनए विशेषज्ञ रोजालिंद फ्रैंकलीन के नाम पर रखा गया है. बताया जा रहा है कि बिना रूसी मदद के इस रोवर पर बहुत सारा काम करने की जरूरत पड़ेगी और मंगल के लिए प्रक्षेपण समय केवल दो साल में एक बार ही आता है.

    Space, Mars, Russia, Europe, ESA, Roscosmos, Russia Ukraine War, ISS, Exomars,

    एसा ने अपने सभी सुयोज (Suyoz) प्रक्षेपण भी रद्द कर दिए हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    सुयोज रॉकेट वाले अभियान रद्द
    एजेंसी का कहना है कि उसके सभी अभियान जो रूस के सुयोज रॉकेट का उपयोग करने वाले थे, रद्द कर दिए गए हैं. इसमें यूरोप के गैलीलियो जीपीएस सिस्टम, यूक्लिड स्पेस टेलीस्कोप अभियान का प्रक्षेपण और यूरोपीय जापानी अर्थकेयर अवलोकन सैटेलाइट का प्रक्षेपण शामिल है. ईसा ने अपने बयान में जोड़ा है कि इस बीच इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन कार्यक्रम काम करता रहेगा.

    यह भी पढ़ें: यूक्रेन के राष्ट्रपति ने अमेरिका को क्यों दिलाई 9/11 की याद

    एक आशंका यह भी
    इससे पहले रूसी स्पेस एंजेसी रोसकोसमोस के प्रमुख दिमित्रि रोगोजिन ने फिर से चेताया है कि  पश्चिमी देशों के रूस पर प्रतिबंध लगाना इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन के नष्ट होने का कारण बन सकते हैं. आशंका जताई जा रही है कि अमेरिका और रूस के बीच तनाव के कारण अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री मारक वैंड हेई  इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में फंसे रह सकते हैं जिन्हें इस महीने के अंत में सुयोज रॉकेट से बाइकोनूर में लौटना है.

    Tags: Mars, Research, Russia, Science, Space

    अगली ख़बर