• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • Happy Birthday Sachin Tendulkar: सचिन तेंदुलकर की जिंदगी की 6 अनजानी बातें, जो सभी को जाननी चाहिए

Happy Birthday Sachin Tendulkar: सचिन तेंदुलकर की जिंदगी की 6 अनजानी बातें, जो सभी को जाननी चाहिए

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का आज 46वां जन्मदिन है

महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का आज 46वां जन्मदिन है

Happy Birthday Sachin Tendulkar: सचिन मुंबई के एनजीओ अपनालय के करीब 200 बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाते हैं. इसके अलावा एक दर्जन से ज्यादा चैरिटी आर्गनाइजेशन हैं, जिनसे वह जुड़े हुए हैं.

  • Share this:
    महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का आज 46वां जन्मदिन है. सचिन ने वर्ष 2014 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया था. इसके बावजूद उनकी मौजूदगी कहीं भी लोगों को चमत्कृत करती है. उनकी जिंदगी में इतना कुछ है कि जो शायद अब भी लोगों के लिए अनजानी और दिलचस्पी से भरी हुई हैं. ये हैं सचिन की जिंदगी के ऐसे ही कुछ खास किस्से-

    1. सचिन की भगवान में गहरी आस्था
    जब टीम इंडिया 02 अप्रैल 2011 को मुंबई के वानखेडे स्टेडियम में फाइनल जीतने की ओर आगे बढ़ रही थी तब सचिन आंख बंद करके भगवान की पूजा में जुटे हुए थे. यही नहीं उन्होंने भारतीय टीम की जीत की दुआ के लिए अपनी दाढी भी बढ़ा रखी थी. जब टीम जीत गई तो न केवल भगवान सिद्धिविनायक के दर्शनों के लिए गये बल्कि अपनी दाढ़ी भी साफ की.

    वैसे सचिन को जानने वाले बताते हैं कि वह बेहद धार्मिक हैं, भगवान में गहरी आस्था रखते हैं. लिहाजा नियमित तौर पर वह पूजा अर्चना तो करते ही हैं और समय मिलने पर मंदिर भी जाते हैं. मुंबई में जब वह होते हैं तो भगवान सिद्धिविनायक के मंदिर जरूर जाते हैं. लेकिन चूंकि दिन में उनके जाने पर मंदिर में अफरा-तफरी हो जाती है, ऐसे में उन्होंने ऐसे समय मंदिर जाने का फैसला किया जब मंदिर में भीड़भाड़ नहीं हो और किसी को उनके आने के बारे में पता भी नहीं चले ताकि वह शांति से भगवान के दर्शन कर सकें. अब वह या तो भोर में मंदिर जाते हैं या फिर रात में.

    sachin tendulkar, sachin tendulkar date of birth, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar photo, sachin tendulkar stats, sachin tendulkar biography, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar family, sachin tendulkar information, sachin birthday, सचिन तेंदुलकर बर्थडे

    जब उन्होंने एशिया कप में अपना सौवां शतक लगाया था तो वहां से लौटकर गुड़ी पड़वा के दिन सुबह तड़के भगवान विनायक के दर्शनों के लिए गये. उनके साथ पूरा परिवार भी था. तेंदुलकर का परिवार हमेशा से बेहद धार्मिक माना जाता रहा है. धार्मिकता उन्हें अपने माता-पिता से संस्कारों में मिली. मैचों के दौरान भी वह सुबह शाम पूजा करना नहीं भूलते थे. जब मैदान में उतरते थे तो सबसे पहला काम आसमान की ओर देखकर भगवान के प्रति नमन करना होता था.

    वह सत्य साईं बाबा के भी उपासक हैं. जब तक पुटुपर्थी के साईं बाबा जीवित थे, सचिन नियमित तौर पर वहां जाते थे और बाबा का आर्शीवाद ग्रहण करते थे. बाबा के निधन के बाद जब वह वहां गये, तो इतने विचलित हो गये कि उनकी आंखों से आंसू निकल पड़े. इसी के चलते उन्होंने अपने जन्मदिन के उपलक्ष्य पर होने वाली पार्टी भी कैंसिल कर दी. सचिन देश के अन्य मंदिरों में भी दर्शनों के लिए जाते रहते हैं. गणेश चतुर्थी धूमधाम से मनाते हैं.

    2. कैसा है साचिन का परिवार
    सचिन तेंदुलकर का परिवार मुंबई के काफी संस्कारिक और सुसंस्कृत परिवार के रूप में जाना जाता है. उनके पिता रमेश तेंदुलकर मराठी के जाने माने साहित्कार थे और इसी भाषा के प्राध्यापक. उनकी मां रजनी भारतीय जीवन बीमा निगम में नौकरी करती थीं. सचिन के भारतीय टीम में आने के बाद भी कई सालों तक वह नौकरी करती रहीं, बाद में रिटायरमेंट ले लिया.

    sachin tendulkar, sachin tendulkar date of birth, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar photo, sachin tendulkar stats, sachin tendulkar biography, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar family, sachin tendulkar information, sachin birthday, सचिन तेंदुलकर बर्थडे
    पत्नी बच्चे के साथ सचिन.


    सचिन के सबसे बड़े भाई नितिन क्रिकेट के काफी शौकीन थे. बाद में उन्होंने मराठी भाषा में कविताएं लिखनी शुरू कीं. फिर एयर इंडिया में पायलट हो गये. दूसरे नंबर के अजित, जिन्हें पूरा क्रिकेट जगत खूब जानता है, भी एयर इंडिया में सर्विस करते हैं. उन्होंने सचिन पर पिछले दिनों एक किताब लिखी और हाल के दिनों में वह एक ब्रांड में मॉडल के तौर पर भी आए. कई मशहूर मैगजीन्स में उनका ये एड छपा. अजित अपने जमाने में बहुत जबरदस्त क्रिकेटर थे लेकिन जब वह क्रिकेट में ज्यादा ऊपर तक नहीं खेल पाये तो उन्होंने सचिन को एक बड़े क्रिकेटर के रूप में तैयार करने की कोशिश की. सचिन की बड़ी बहन सविता का ब्याह पुणे में हुआ है. पूरे परिवार में अभी भी बहुत भाईचारा है.

    यह भी पढ़ेंः जन्मदिन विशेष: क्रिकेट के वो रिकॉर्ड्स, जो सिर्फ मास्टर ब्लास्टर सचिन के नाम दर्ज

    वहीं सचिन के ससुर यानि अंजलि के पिता आनंद मेहता जाने माने उद्योगपति हैं और उनका परिवार मुंबई में लंबे समय से रहता है. दरअसल आनंद पढ़ाई के लिए लंदन गये और उन्होंने वहां से लंदन स्कूल आफ इकोनामिक्स से बीए किया. वहीं पढ़ाई के दौरान ही उन्हें ब्रितानी मूल की अन्ना बेल से प्यार हुआ और दोनों ने प्रेम विवाह किया. सचिन मूल रूप से जहां मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते हैं तो अंजलि बेहद रईस परिवार की थीं. लेकिन दोनों में ये ऊंच-नीच कभी आड़े नहीं आई.

    सचिन के दो बच्चे हैं. बड़ी बेटी का नाम है सारा और बेटे का नाम है अर्जुन. उनके बेटे को काफी प्रतिभाशाली क्रिकेटर माना जा रहा है. उसने स्कूल लेवल और फिर अंडर 14 क्रिकेट में अपने खेल से काफी सुर्खियां बटोरी हैं. वह सचिन की तरह बल्लेबाज नहीं बल्कि गेंदबाज है.

    3. पहली बार स्कोरर की गलती से छपा था नाम
    पहली बार तेंदुलकर का नाम अखबार में स्कोरर की गलती से छपा. ये 1987 की बात है. मुंबई में लोकल मैचों के लिए अखबारों ने नियम बना रखा था कि वो उसी क्रिकेटर का नाम प्रकाशित करेंगे, जिसने कम से कम 30 रन बनाये हों. सचिन ने मुंबई के स्थानीय लोकल मैच में बिना आउट हुए 24 रन बनाये थे, तभी मैच खत्म हो गया क्योंकि उनकी टीम मैच जीत चुकी थी. टीम को अतिरिक्त रन के रूप में वाइड, लेग बाई और नो बाल के रूप में भी काफी रन मिले थे.



    स्कोरर ने तय किया कि वो अतिरिक्त के छह रनों को सचिन के खाते में डाल देगा और उसने ऐसा किया भी. टीम के कुल रनों में बिना हेर फेर किये बगैर अतिरिक्त में से स्कोरर ने छह रन घटाये और सचिन के खाते में इसे दिखाकर उनका स्कोर अविजित 30 रन कर दिया. स्कोरर की अपनी सोच बहुत साफ थी. चूंकि टीम ने ये मैच जीत लिया था, लिहाजा इससे किसी को कोई आपत्ति नहीं होने वाली थी. अगले दिन जब पहली बार तेंदुलकर का नाम अखबार में छपा तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा.

    4. मारुति 800 थी सचिन की पहली कार
    आज तो सचिन के पास एक से बढक़र एक कारें हैं. वह कारों के जबदस्त शौकीन हैं. क्या आपको मालूम है कि उनकी पहली कार कौन सी थी. ये वर्ष 1990 की बात है सचिन इंग्लैंड दौरे से अपना पहला टेस्ट शतक लगाकर लौटे थे. पूरे देश में उनका नाम हो चुका था. इस दौरे से लौटते ही उन्होंने सेकेंड हैंड मारुति 800 कार खरीदी. तब उनके पास ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं था.

    यह भी पढ़ेंः आज ही के दिन शारजाह में आया था सचिन का तूफान, यूं उड़ गई थी ऑस्‍ट्रेलिया की धज्जियां

    बांद्रा में साहित्य सहवास कालोनी में रहने वाले उनके एक दोस्त सुुनील याद करते हैं कि इंग्लैंड से लौटते ही सचिन अपनी इस कार के साथ उनके पास आये और वो दोनों ड्राइविंग पर निकल गये. कारें शुरू से ही उन्हें आकर्षित करती थीं. तब बेशक उनके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं था लेकिन वह इसके बिना ही ड्राइविंग सीख चुके थे. जब वह कार लेकर मुंबई में अपनी कॉलोनी के आसपास निकले तो उन्हें डर भी था कि कहीं पुलिस वाले उन्हें रोक न लें. वह बचपन में अपने घर के करीब स्थित एक ड्राइव इन थिएटर में तमाम तरह की कारों को आते देखते रहते थे, इससे कारों को लेकर उनका आकर्षण भी बढ़ता चला गया.

    sachin tendulkar, sachin tendulkar date of birth, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar photo, sachin tendulkar stats, sachin tendulkar biography, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar family, sachin tendulkar information, sachin birthday, सचिन तेंदुलकर बर्थडे

    बाद में तो सचिन जैसे जैसे क्रिकेट में सफल होते गये. उनके पास एक से एक महंगी और शानदार कारें आती चली गईं. उन्हें फास्ट ड्राइविंग पसंद है, लेकिन मुंबई में ऐसा कर पाने का मौका नहीं मिल पाता लिहाजा अपने इस शौक को वह विदेशों में रहने के दौरान या फिर मुंबई - पुणे एक्सप्रेस वे पर पूरा करते हैं. बताया जाता है कि जब उनसे पास फेरारी कार थी तो वह रात में मुंबई में इसकी ड्राइविंग पर निकलते थे. इस फेरारी 360 माडेना कार का गियरबाक्स उन्हें खासा पसंद था, जो फार्मूला1 स्टाइल में बना था. बाद में उन्होंने ये कार सूरत के एक व्यवसायी को बेच दी. फिलहाल सचिन के गैराज में कई लक्जरी और स्पोट्र्स कारें हैं, जिसमें मर्सीडीज बेंज, फेरारी, पोर्श, बीएमडब्ल्यू जैसे ब्रांड्स हैं. पिछले दो दशकों में देश-विदेश में बेहतर प्रदर्शन करने पर उन्हें एक दर्जन से ज्यादा कारें इनाम के तौर पर मिल चुकी हैं.

    5. चैरिटी वर्क भी कम नहीं
    आमतौर पर कम ही लोगों को पता होगा कि सचिन तेंदुलकर जमकर चैरिटी वर्क भी करते हैं. वह तमाम ऐसी संस्थाओं के जुड़े हैं जो कल्याण का काम करती हैं. अपनी कमाई का एक हिस्सा वह ऐसे कामों पर खर्च करना नहीं भूलते. यही नहीं ऐसे कामों के लिए वह समय भी निकालते हैं.

    sachin tendulkar, sachin tendulkar date of birth, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar photo, sachin tendulkar stats, sachin tendulkar biography, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar family, sachin tendulkar information, sachin birthday, सचिन तेंदुलकर बर्थडे

    सचिन मुंबई के एनजीओ अपनालय के करीब 200 बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाते हैं. इसके अलावा एक दर्जन से ज्यादा चैरिटी आर्गनाइजेशन हैं, जिनसे वह जुड़े हुए हैं. वह कहते हैं कि इस तरह के कामों के लिए सबसे बड़ी प्रेरणा खुद उनके पिता ने दी, जो हमेशा सामाजिक दायित्वों में बढ़ चढक़र हिस्सा लेने की बात कहते थे.

    यह भी पढ़ेंः आज ही के दिन क्रिकेट के 'एवरेस्ट' पर चढ़े थे गावस्कर, जश्‍न के कारण 20 मिनट रोकना पड़ा था खेल

    एक चैरिटी प्रोग्राम के दौरान उन्होंने याद किया कि किस तरह पिता कम वेतन में इस तरह के काम करते थे. वह कॉलेज में प्रोफेसर थे और घर में अखबार देने वाले की पढ़ाई का खर्च उठाते थे. सचिन का कहना था कि तब हमारे घर की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी और हम एक एक पैसा बचाकर चलते में विश्वास रखते थे. पिता ने सारे भाई-बहनों को सिखाया कि जिंदगी में दान कितना महत्वपूर्ण है. सचिन ने इसी प्रोग्राम में याद किया कि किस तरह बचपन में उनके घर पर आने वाले वाचमैन या पोस्टमैन को भी चाय पिलाकर ही भेजा जाता था.

    6. बचपन के दोस्त अभी तक साथ
    मुंबई के बांद्रा की जिस साहित्य सहवास कालोनी में सचिन तेंदुलकर का बचपन बीता, जिनके साथ वह बचपन में खेले, वह अभी उनके दोस्त बने हुए हैं. बेशक सचिन का परिवार अब उस कालोनी में नहीं रहता लेकिन उस मकान को उन्होंने अपने पास रखा हुआ है. सचिन मुंबई में होने पर अक्सर वहां पुरानी यादें ताजा करने चले जाते हैं. महत्वपूर्ण मौकों पर वह यहां आना नहीं भूलते न ही यहां के परिचितों को घर बुलाना.

    इस कालोनी में सचिन अपने दो दोस्तों फोटोग्राफर अविनाश गोवारिकर और कांटै्रक्टर सुनील हर्षे के साथ काफी मस्ती करते थे. ये तिकड़ी कालोनी में काफी विख्यात थी. ये घरों में लगे पेड़ों से चोरीचुपके फल तोडऩे से नहीं चूकते थे. एक रविवार जब पूरी कालोनी टीवी पर गाइड फिल्म देखने में मशगूल थी. ये टोली पेड़ पर चढक़र आम तोड़ रही थी. पेड़ की डाली टूट गई. आवाज हुई. जब तक घर के लोग समझ पाते तब तक सचिन की मंडली वहां से भाग चुकी थी. सचिन अपनी उम्र से बड़े लडक़ों से भी पंगा लिया करते थे. ऐसी न जानी कितनी ही यादें उनके बचपन के दोस्तों के जुबान पर रहती हैं. बचपन के इन दोस्तों से उनका मिलना जुलना होता रहता है.

    sachin tendulkar, sachin tendulkar date of birth, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar photo, sachin tendulkar stats, sachin tendulkar biography, sachin tendulkar wife, sachin tendulkar family, sachin tendulkar information, sachin birthday, सचिन तेंदुलकर बर्थडे

    सचिन का एक दोस्त था रमेश, पिता वाचमैन थे. सचिन को जब दूध दिया जाता था तो वो इसे रमेश की ओर सरका देते थे. वह अपने इस दोस्त को साथ में खिलाना पसंद करते थे. कभी कभी ये दोनों दोस्त एक ही प्लेट में भी खा लेते थे. सचिन का ये दोस्त अब मास्टर ब्लास्टर का सेक्रेटरी है. उनके तमाम जरूरी मामलों को देखता है.

    पांच छह साल की उम्र से उनके साथ खेलने और स्कूल में पढ़ने वाले दोस्त अतुल रानाडे बताते हैं कि सचिन को अपने से ज्यादा उम्र के लडक़ों को चुनौती देने में खासा मजा आता था. एक बार स्कूल में उन्होंने ऐसा ही किया. मामला गंभीर हो गया. छुट्टी में वह लड़का अपने दोस्तों के साथ गेट पर खड़ा होकर उन्हें मजा चखाने का इंतजार कर रहा था. सचिन चुपके से वहां से खिसक गये. रानाडे से उनके रिश्ते बरकरार हैं. विनोद कांबली से उनकी मुलाकात शारदाश्रम स्कूल में हुई. जिसके चर्चे हर जुबान पर रहे हैं.

    इसी तरह सचिन के बचपन के दोस्त दलबीर सिंह को जब एक एक्सीडेंट के बाद अहमदाबाद के अस्पताल ले जाया गया तो सचिन बिजी शेड्यूल में से भी समय निकालकर उनको देखने पहुंचे बल्कि उसके अस्पताल के खर्च का जिम्मा भी उठाया.

    उनकी पत्नी अंजलि 'साहित्य सहवास' में होने वाले सभी कार्यक्रमों में शरीक होती है. सचिन की बेटी सारा का पहला बर्थ-डे भी इसी कालोनी में मनाया गया. जिसमें पूरी कालोनी के लोग शरीक हुए थे.

    यह भी पढ़ें: जन्मदिन विशेष: क्रिकेट के वो रिकॉर्ड्स, जो सिर्फ मास्टर ब्लास्टर सचिन के नाम दर्ज

    सचिन तेंदुलकर से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

    नॉलेज की खबरों को सोशल मीडिया पर भी पाने के लिए 'फेसबुक' पेज को लाइक करें

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज