जब सऊदी के आधुनिक शहजादे ने अपनी मां को बना लिया था बंदी

सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की छवि महिलाओं के हक में बात करने वाले शख्स की है (Photo- news18 english via Reuters)

सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की छवि महिलाओं के हक में बात करने वाले शख्स की है (Photo- news18 english via Reuters)

सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Mohammed bin Salman) की छवि महिलाओं के हक में बात करने वाले शख्स की है. हालांकि कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने काफी दिनों तक अपनी मां को कैद कर रखा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 3:01 PM IST
  • Share this:
सऊदी अरब अपने एक फैसले की वजह से चर्चा में है. वहां के नागरिक पाकिस्तान, बांग्लादेश, चाड और म्यांमार की महिलाओं से अब उतनी आसानी से शादी नहीं कर सकेंगे, बल्कि इससे पहले सरकारी सहमति लेनी होगी. सऊदी प्रिंस ने इस बारे में फिलहाल कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया लेकिन चर्चा है कि ऐसा अपने ही देश की महिलाओं से किसी तरह की नाइंसाफी रोकने के लिए किया जा रहा है.

किताब और मीडिया में है जिक्र 

सऊदी प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की छवि महिलाओं के हक में बात करने वाले शख्स की है. हालांकि बहुत कम ही लोग जानते हैं कि उन्होंने गुस्से में अपनी मां को काफी समय तक नजरबंद कर रखा था. सऊदी में लंबे समय तक काम करने वाले अमेरिकी पत्रकार और लेखक बेन हबर्ड ने अपनी किताब 'एमबीएस: द राइज़ टू पावर' में उनसे जुड़े बहुत से राज जाहिर किये हैं. लेखक ने कई साक्षात्कारों के आधार पर उनकी मां, पत्नी और जिंदगी में रहती महिलाओं के बारे में बताया है.

saudi prince MBS
अमेरिकी खुफिया विभाग ने कहा था कि प्रिंस ने अपनी मां को बंदी बनाकर कहीं छिपाकर रखा था- सांकेतिक फोटो

महल के तहखाने में रखा गया था

ब्रिटिश और अमेरिका में भी इस तरह की मीडिया रिपोर्ट्स आई थीं कि उन्होंने अपनी मां को बंदी बनाकर कहीं छिपाकर रखा है. इस रिपोर्ट को प्रकाशित करने वालों में टेलीग्राफ और एबीसी न्यूज भी था. उसने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि उन्होंने अपनी मां को साल 2016 के आसपास ऐसी जगह छिपा दिया था कि उनका पता नहीं चले. यहां तक कि किंग भी उनसे नहीं मिल सकें. किंग को भी लंबे समय तक ये पता नहीं चला कि इसके पीछे उनके बेटे का हाथ है. टेलीग्राफ ने बताया था कि खुद अमेरिकी खुफिया विभाग के 18 अफसरों ने इसकी पुष्टि की थी. बाद में कहा ये गया कि मां महल के ही खुफिया तहखाने में थीं.

ये भी पढ़ें: Explained: महिलाओं से जुड़ा वो समझौता, जिससे अलग हो तुर्की राष्ट्रपति घिर गए हैं 



पत्नी के साथ भी आक्रामक व्यवहार के चर्चे 

गल्फ इंस्टीट्यूट नामक वेबसाइट ने तो उनके गुस्सैल व्यवहार और बेगम को लेकर भी बहुत कुछ लिखा. उसके लिए उसने सऊदी रॉयल फैमिली के साथ बॉडीगार्ड के रूप में काम कर चुके मार्क यंग का सहारा लिया. यंग ने करीब 15 साल रॉयल फैमिली की सेवा में बिताए थे. इसके बाद वो इंग्लैंड चले गए. वहां उन्होंने रॉयल फैमिली के साथ अपने अनुभवों को लेकर सऊदी बॉडीगार्ड के नाम से एक किताब लिखी, जो अमेजन पर उपलब्ध भी है.

ये भी पढ़ें: Biden की लड़खड़ाहट के बीच जानें, उन अमेरिकी नेताओं को जो गंभीर बीमारियां छिपाते रहे  

गुस्से से पूरा देश वाकिफ

किताब और मार्क यंग से बातचीत का हवाला देते हुए वेबसाइट ने लिखा, प्रिंस का गुस्सा पूरे सऊदी अरब में चर्चित है. वो काफी एग्रेसिव हैं. अक्सर जब आपा खोते हैं तो फिर कुछ नहीं देखते. उनके इस व्यवहार को एंजाइटी डिसआर्डर बताते हुए कहा गया कि प्रिंस की शादी उनकी फर्स्ट कजिन से हुई. सऊदी रॉयल फैमिली में ये होता रहा है. लेकिन खबरें हैं कि प्रिंस कई बार अपनी बेगम पर भी आक्रामक हो उठते हैं. हालांकि बेगम के बारे में कहीं भी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं है और न ही उनकी किसी तस्वीर के बारे में कोई भी मीडिया दावा करता है कि ये उनकी ही तस्वीर है.

muslim woman saudi
इसी साल की शुरुआत में सऊदी में महिलाओं को अपना नाम अपनी मर्जी से बदलने की इजाजत मिली- सांकेतिक फोटो (pxhere)


पत्नी कभी किसी दौरे पर नहीं दिखीं 

सार्वजनिक या विदेशी दौरों पर जाते हुए उदार माने जाते प्रिंस कभी भी अपनी पत्नी को लेकर आते-जाते नहीं दिखे. हालांकि ये भी सच है कि सऊदी रॉयल फैमिली में आमतौर पर शासक अपने साथ अपनी बीवियों को ना तो विदेशी दौरों में साथ लेकर जाते हैं और ना ही उन्हें किसी सार्वजनिक कार्यक्रमों में साथ देखा जाता है. जबकि पश्चिमी देशों में विदेशी दौरों के दौरान अक्सर ऐसा देखा जाता रहा है.

ये भी पढ़ें: Explained: क्या है वैक्सीन का बूस्टर शॉट और क्यों जरूरी है?   

देश में महिलाओं को लेकर बनाए बेहतर नियम

निजी मामलों से आगे बढ़ें तो प्रिंस को दुनियाभर में महिलाओं को लेकर काफी उदार और आगे बढाने वाला माना जाता है. इसी साल की शुरुआत में सऊदी अरब में महिलाओं को अपना नाम अपनी मर्जी से बदलने की इजाजत मिली. इससे पहले इसके लिए महिलाओं को अभिभावकों की सहमति चाहिए होती थी. इससे पहले अकेले ड्राइविंग करने का हक भी मिला. हालांकि सऊदी प्रिंस के इन उदार कामों के पीछे ये अनुमान भी लगाया जा रहा है कि वे अपने देश को तेल से हटाकर पर्यटन में आगे ले जाना चाहते हैं. चूंकि सऊदी की छवि फिलहाल स्त्री-विरोधी है इसलिए वहां विदेशी सैलानी कम ही आते हैं. अब प्रिंस नए नियमों से इसी इमेज को बदलने की कोशिश कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज