• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • ऐसी दवा हुई तैयार जिसकी टेबलेट खत्म करेगी सांप के जहर की तुरंत काट

ऐसी दवा हुई तैयार जिसकी टेबलेट खत्म करेगी सांप के जहर की तुरंत काट

सांप का जहर तुरंत उतारने के लिए ब्रिटिश साइंटिस्ट ने खोजी असरदार दवा

सांप का जहर तुरंत उतारने के लिए ब्रिटिश साइंटिस्ट ने खोजी असरदार दवा

वैज्ञानिकों ने एक ऐसी दवा तैयार की है जो जहरीले से जहरीले सांपों के काटे जाने के बाद भी जहर के असर फटाफट खत्म कर देगी. ये दवा इंजेक्शन के रूप में नहीं बल्कि टेबलेट के रूप में होगी

  • Share this:
    साइंटिस्ट ने एक ऐसी दवा तैयार कर ली है, जिससे जहरीले से जहरीले सांपों के काटे जाने के बाद भी दवा खाते ही जहर का असर खत्म हो जाएगा. ये दवा बड़ी राहत दे सकती है. अक्सर ऐसा होता है कि जहरीले सांपों के काटे जाने के बाद लोग अस्पताल के रास्ते में ही दम तोड़ देते हैं. सबसे बड़ी बात ये है कि ये दवा खाने के लिए भी होगी.

    ब्रिटिश रिसर्चरों ने जानवरों पर इस दवा का प्रयोग करके देख लिया है. इसमें उन्हें सफलता भी मिली है. जानवरों में इसे आजमाने पर उन्हें जहरीले सांप के जहर से जिंदा बचाने में सफलता मिली.

    इस दवा में जो सक्रिय तत्व है, वो ‘डाईमेर्काप्रॉल' कहलाता है. ब्रिटेन के लिवरपूल की इस रिसर्च टीम ने् सांप के जहर के असर को काटने में इस तत्व से लैस दवा को टेस्ट किया. अब तक इस तत्व और इससे मिलते जुलते तत्व डीपीएमएस (2,3-डाईमेर्काप्टो-1-प्रोपेनसल्फोनिक एसिड) का इस्तेमाल उन मामलों में किया जाता था जहां किसी को आर्सेनिक या पारा जैसे हेवी मेटल का जहरीला असर हो गया हो.

    किस तरह खत्म होगा जहर का असर
    रिसर्चरों के अनुसार, यही दोनों वो सक्रिय तत्व हैं, जो सांप के जहर को काटने में भी काम आ सकते हैं. रिसर्चर की टीम लंबे समय से इसकी तलाश में लगी थी. ‘डाईमेर्काप्रॉल' और डीपीएमएस दोनों सांप के जहर में मौजूद उन खास एंजाइमों के खिलाफ काम करते हैं, जो शरीर में जिंक आयनों के साथ मिलकर बुरा प्रभाव डालते हैं.

    ये दोनों तत्व शरीर के जिंक आयनों को किसी भी क्रिया से रोक देते हैं. इससे जहर का प्रभाव शरीर में फैल नहीं पाता. हाल ही में ये शोध ‘साइंस ट्रांसलेशनल मेडिसिन' नामक जर्नल में प्रकाशित हुई है.

    सबसे जहरीले सांप का असर भी हुआ बेअसर
    वैज्ञानिकों ने ये टेस्ट जानवरों पर भी किया. उसमें उन्हें सफलता मिली. उन्होंने बहुत जहरीले वाइपर सांप की एक प्रजाति के जहर का इस्तेमाल किया. उन्होंने पाया कि दवा की मदद से जहर के जानलेवा असर को खत्म किया जा सकता है. सॉ-स्केल्ड वाइपर कहलाने वाला यह सांप अफ्रीका से लेकर मध्यपूर्व और एशिया तक में पाया जाता है.

    Corbett Tiger Reserve, snakes, inhabited areas, infiltration, कॉर्बेट टाइगर रिजर्व, सांप, आबाद क्षेत्र, घुसपैठ
    सांप के डसने से हर साल करीब 1.4 लाख लोगों की जान जाती है


    हर साल जाती 1.4 लाख लोगों की जान
    ब्रिटिश रिसर्च एजेंसी एसएसटीएम के आंकड़ें बताते हैं कि सांप के डसने से हर साल करीब 1.4 लाख लोगों की जान जाती है जबकि 04 लाख लोगों की सेहत हमेशा के लिए खराब हो जाती है.

    टेबलेट के रूप में होगी उपलब्ध
    अच्छी बात यह है कि डॉक्टर इस दवा को मुंह से खिलाकर भी सांप के जहर से छुटकारा दिला सकते हैं. अब तक डाईमेर्काप्रॉल जैसे तत्व वाली दवाएं केवल इंजेक्शन के जरिए दी जाती थीं. चूंकि इसे टैबलेट के रूप में लेना संभव होगा इसलिए ये दवा कहीं भी सुलभ हो सकती है और दवा की दुकानों पर मिल जाएगी, तब जिन लोगों को सांप काटेगा, उन्हें इसे देने पर वो जल्दी स्वस्थ हो जाएंगे या खतरे से बाहर हो जाएंगे.

    अब क्या होगा
    लिवरपूल के डॉक्टरों को यकीन है कि यह दवा प्राथमिक उपचार के तौर पर काम में लाई जा सकती है. इसके जरिए सांप के जहर के जानलेवा असर को रोक कर मरीज को तब तक जिंदा रखा जा सकता है जब तक उसे एंटीसीरम का डोज ना मिल जाए.

    यह दवा एंटीसीरम की जगह नहीं बल्कि उसके पहले इस्तेमाल की जानी चाहिए. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सांप काटने से होने वाली मौतों और गंभीर नुकसान को 2020 तक आधा करने का लक्ष्य रखा है. इस लक्ष्य को पाने में ऐसी दवाएं बहुत काम आ सकती हैं.

    ये भी पढ़ें
    26 साल का वो 'डॉक्टर' जो अब घाटी में बन गया है हिज्बुल का आतंकी सरगना
    चीनियों ने सांप के तेल से किया था 100 साल पहले फैले फ्लू के इलाज का दावा, गईं करोड़ों जानें
    विरासत में मिले करोड़ों रुपयों का पालतू कुत्ते या बिल्ली क्या करते हैं?
    क्या है दिल्ली के सबसे बड़े रेड लाइट इलाके पर कोरोना लॉकडाउन का असर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज