वैज्ञानिकों ने ढूंढ लिया दिमाग का वह हिस्सा, जो ‘खत्म’ कर देता है दर्द

वैज्ञानिकों ने ढूंढ लिया दिमाग का वह हिस्सा, जो ‘खत्म’ कर देता है दर्द
दिमाग का यह हिस्सा बाकी हिस्सों में दर्द की प्रतिक्रिया को नियंत्रित करता है. (Photo-pixabay)

शोधकर्ताओं ने दिमाग (Brain) के उससे हिस्से की खोज कर ली है जो बाकी हिस्सों को दर्द (Pain) संबंधी प्रतिक्रियाओं को खत्म करने के संकेत देता है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली:   वैज्ञानिकों के लिए इंसान का मस्तिष्क (Human Brain) आज भी एक पहेली है. सालों के शोध के बावजूद हमारा दिमाग शोधकर्ताओं के लिए अनगिनत रहस्यों का भंडार है. फिर भी वैज्ञानिकों ने हमारे शरीर की कई गतिविधियों को नियंत्रित करने वाले दिमागी हिस्सों की पहचान की है, लेकिन हाल के शोध में उन्होंने दिमाग के उस हिस्से की पहचान कर ली है जो दर्द (Pain) के अहसास को खत्म कर देता है.

दिमाग का खास हिस्सा जो रोक देता है दर्द का अहसास
यह क्षेत्र एक तरह का दर्दरोधी केंद्र या एंटी पेन सेंटर (Anti-pain Centre) है.  यह क्षेत्र अमिग्डाला (Amygdala) है जिसे नकारात्मक भावों और सामान्य बेचैनी जैसी प्रतिक्रियाओं देने के लिए जिम्मेदार माना जाता है. शोध के वरिष्ठ लेखक और स्कूल ऑफ मेडिसिन के न्यूरोलॉजी के प्रोफेसर फैन वांग ने कहा, “लोग विश्वास नहीं करते कि दिमाग में दर्द से राहत दिलाने वाली भी कोई जगह है. इसी लिए प्लेसबो जैसी दवाएं काम करती हैं. सवाल यही है कि दिमाग में वह कौन सा केंद्र है जो दर्द को बंद कर देता है.”

अभी तक नहीं हुआ था इस पर शोध



 वांग के मुताबिक इससे पहले जितने भी अध्ययन किए गए थे उनका ध्यान उन क्षेत्रों पर था जो दर्द को शुरू करते थे. लेकिन कई ऐसे क्षेत्र हैं जो दर्द को संसाधित (Process) करते हैं. दर्द रोकने के लिए आपको उन सभी को बंद करना होगा.  लेकिन यह केंद्र बंद करने से दर्द ही बंद हो जाता है.



क्या अध्ययन किया गया शोध में
यह शोध वांग की लैब में गिए गए पिछले शोध को आगे बढ़ाने वाला अध्ययन है. उस शोध में उन न्यूरॉन्स की ढूंढने की कोशिश की गई थी जो आम एनेस्थीसिया से निष्क्रिय होने के बजाए सक्रिय होते हैं.  साल 2019 में हुए अध्ययन में पाया गया था. आम एनेस्थीसिया दिमागे के सुप्राऑप्टिक न्यूक्लियस को सक्रिय कर धीमी नींद को प्रोत्साहित करती है. लेकिन नींद और दर्द अलग अलग चीजें हैं. इससे शोधकर्ताओं के इन जानकारी हासिल करने में मदद मिली. इस शोध के नतीजे नेचर न्यूरोसाइंस में प्राकशित हुए हैं.

Brain
दिमाग में दर्द को लेकर बहुत से हिस्से प्रतिक्रिया करते हैं.


इस खास हिस्से ने दिए अलग संकेत
शोधकर्ताओं ने पाया कि एनेस्थीसाय अमिग्डाला के केंद्र में कुछ दमनकारी न्यूरॉन्स को सक्रिय करते हैं. शोधकर्ताओं ने इन्हें CeAga न्यूरॉन्स कहा. वांग की टीम ने चूहों के दिमाग के सक्रिय न्यूरॉन्स का अध्ययन कर पाया कि CeAga दिमाग के कई हिस्सों से जुड़ता है. चूहों को हलका सा दर्द देने के बाद शोधकर्तों ने उनके दिमाग के उन हिस्सों का पता लगाया जो दर्द से सक्रिय हुए. उन्हें पता चला कि कम से कम 16 मस्तिष्क केंद्रों, जो दर्द के संवेदक और भावनात्मक पहलुओं को संसाधित (process) करते हैं, को CeAga से दमनकारी संकेत मिले.

यही है सभी की चाबी
वांग ने कहा कि दर्द एक जटिल मस्तिष्क प्रतिक्रिया होती है. इसमें संवेदक अंतर, भावना और ऑटोनॉमिक प्रतिक्रियाएं शामिल होती हैं. इस सारी प्रतिक्रियाओं को रोककर दर्द का इलाज करना कई बार बहुत मुश्किल हो जाता है.  लेकिन इसमें प्रमुख हिस्से को सक्रिय कर और दूसरे हिस्सों में भी स्वतः ही दमनकारी संकेत भेजता हो ज्यादा बेहतर होगा.
किस तकनीक का किया प्रयोग
शोधकर्ताओं ने ऑप्टोजेनेटिक्स (Optogenetics) नाम की तकनीका प्रयोग किया जिसमें दिमाग की कुछ कोशिकाओं को प्रकाशसे सक्रिय किया जाता है. चूहे असहज महसूस करने लगते हैं तो उनका खुद की रक्षा करने या देखरेख करने वाला बर्ताव शुरू हो जाता है. शोधकर्ताओं ने पाया कि CeAga न्यूरॉन्स सक्रिय करने से वे इस बर्ताव को बंद कर सकते हैं. जब इस एंटी-पेन सेंटर को सक्रिय करने के लिए लाइट जलाई गई तो उनके हाथ चाटने या फिर मुंह रगड़ने जैसे बर्ताव पूरी तरह से बंद हो गए. जब शोधकर्ताओं ने CeAga की सक्रियता कम की, तो उनका दर्द वाला बर्ताव लौट आया.

mice
चूहों पर हुए प्रयोग में उन्होंने उम्मीद के अनुसार ही प्रतिक्रिया दिखाई.


अब शोधकर्ता ऐसा दवा की खोज कर रहे हैं जो केवल इन कोशिकाओं  को सक्रिय करेगी और दर्द को खत्म करेगी. यह भविय की कारगर दर्द निवारक दवा हो सकती है.

यह भी पढ़ें:

खगोलविदों ने देखा अजूबा, प्रकाश से भी तेज गति से पदार्थ फेंक रहा है ब्लैक होल

कैसे धरती से टकराई बड़ी चट्टान और महाविनाश से खत्म हो गए डानासोर- शोध ने बताया

NASA के रोवर उपकरण को मिला है शेरलॉक होम्स का नाम, सीवी रमन से भी है इसका नाता

सूर्य के निकटतम तारे के पास पृथ्वी जैसे ग्रह की हुई पुष्टि, जानिए क्यों है खास
First published: May 30, 2020, 4:01 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading