• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • दूसरे ग्रह को जीवन के लायक बनाना होगा संभव, इस खोज ने जगाई उम्मीद

दूसरे ग्रह को जीवन के लायक बनाना होगा संभव, इस खोज ने जगाई उम्मीद

इस अध्ययन से कई दूसरे अध्ययनों पर भी गहरा असर होगा.  (प्रतीकात्मक फोटो)

इस अध्ययन से कई दूसरे अध्ययनों पर भी गहरा असर होगा. (प्रतीकात्मक फोटो)

वैज्ञानिकों ने ऐसा तरीका खोजा है जिससे दूसरे ग्रहों के वायुमंडल (Atmoshere) में गैसें भेजी जा सकती है. इससे ग्रहों को जीवन के अनुकूल बनाने में मदद मिल सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली: दुनिया भर के वैज्ञानिक पृथ्वी (Earth) के बाहर जीवन होने की खोज को लेकर गंभीरता से शोध कर रहे हैं इसके अलावा वे उन संभावनाओं की भी तलाश रहे हैं जिससे किसी दूसरे ग्रह पर जीवन (Life on other Planets) के  अनुकूल परिस्थितियां बनाया जा सके. इस दिशा में वैज्ञानिकों ने अब अहम कदम बढ़ाया है.

क्या खोजा है वैज्ञानिकों ने
वैज्ञानिकों ने करीब चार हजार बाह्यग्रहों (Exoplanets) के वायुमंडल का अध्ययन किया है.  उनके बनने के तरीके में अंतर होने की वजह से उनके वायुमंडल में काफी अंतर मिलता है. उनके वायुमंडल में गैसों का अलग ही संयोजन मिलता है. ये गैसें वहां शुरू से ही होती हैं जो शुरूआत में आसपास के तारे या फिर  ज्वालामुखी से मिलती हैं.

ऐसे पहुंचती हैं ग्रहों के निर्माण के दौरान वायुमंडल में गैसें
अब वैज्ञानिकों ने दूसरे ग्रह पर गैसों के पहुंचाने का एक तरीका निकाल लिया है. एल्मा (ALMA) टेलीस्कोप ने तारों के पास गैसों की एक डिस्क खोजी है जो उनके सौरमंडल में ग्रहों के बनने के बाद बनती है. ये डिस्क बहुत समय तक इन ग्रहों  के वायुमंडल को वर्षों तक पोषित करती हैं.  इनमें कार्बन की  ऑक्साइड, पानी और अन्य जटिल पदार्थ होते हैं.

Space
हमारे सौर मंडल के बाह्यग्रहों की निर्माण प्रक्रिया से वैज्ञानिकों को इस खोज में मदद मिली. (प्रतीकात्मक तस्वीर)


इन बातों ने किया है वैज्ञानिकों को उत्साहित
ये पदार्थ ग्रहों तक पहुंचते हैं और अंततः यही उस ग्रह के वायुमंडल का निर्माण करते हैं जिसका वजन कई बार पृथ्वी के वजन से भी ज्यादा होता है. इनमें से ज्यादातर गैस डिस्क में कार्बन और नाइट्रोजन  दिखाई दिए हैं और वे भी तारों से बहुत दूर तक गए हैं.

क्या हो सकता है ऐसे उपायों से
इसी तरह का उपाय दूरगामी और अहम साबित हो सकता है. यह जीवन के पहले चरण में योगदान दे सकता है और औसत मौसमी हालात और पानी की उपस्थिति जीवन की शुरुआत करने की भूमिका बना सकते हैं.

जीवन की उत्पत्ति की संभावना पैदा की जा सकती हैं
विशेषज्ञों का मानना है कि अगर इस तरह से गैस पहुंचाई जाए यह बड़े ग्रह पर असर डाल सकती है और साथ ही यह ग्रह के कार्बन और ऑक्सीजन के अनुपात को भी प्रभावित कर सकती है. इसके अलावा ग्रह पर वायु का प्रवाह भी एक अहम भूमिका अदा करता है.

Space
किसी ग्रह पर अनुकूल जीवन की परिस्थितियों केलिए वहां के वायुमंडल की अहम भूमिका होती है.


कई चुनौतियों  का सामना करना पड़ेगा इसके लिए
वैज्ञानिक इस बात का अध्ययन तो कर ही रहे हैं कि ग्रहों के वायुमंडल पर इस तरह से गैस पहुंचाने की प्रक्रिया को नियंत्रित कैसे किया जा सकता है साथ ही वे यह भी खोज रहे हैं कि कितनी और किस तरह की गैसों को किसी ग्रह पर पहुंचाने से चाहे गए नतीजे मिल सकते हैं.

एक बाधा यह भी तो है
इस प्रक्रिया में इससे बड़ी बाधा है इसमें लगने वाला समय. अगर किसी ग्रह पर हम गैसें भेजने की योजना भी बनाते हैं तो उसके नतीजे आने भर में सैकड़ों साल लग सकते हैं. लेकिन वैज्ञानिक मान रहे हैं कि यह खोज एक दिशा दे सकती है और आगे अन्य उपाय भी निकल सकते हैं जो हमें जीवन की उत्पत्ति की प्रक्रिया को समझने में गति प्रदान कर हमें और सक्षम बना दें

space
इस तरह की खोजें वैज्ञानिकों में उत्साह बढ़ाती हैं. (फाइल फोटो)


केवल एक शुरुआत है जो उम्मीद जगाती है
यह खोज एक शुरुआत भर मानी जा रही है, लेकिन वैज्ञानिक इसे एक उत्साह जनक कदम मान रहे हैं. इसे ग्रहों के वायुमंडल के निर्माण प्रक्रिया में मानवीय दखल की संभावना को बल देने वाली खोज भी माना जा रहा है.

यह भी पढ़ें:

Apollo 13 को NASA दे रही है श्रद्धांजलि, जानिए क्यों कहते हैं उसे ‘सफल नाकामी’

ये है चीन की वो सीक्रेट लैब जिस पर लग रहे कोरोना वायरस तैयार करने के आरोप

जानें इजरायल क्यों बनाएगा ऐसे मास्क, जिसमें छिप जाए लंबी दाढ़ी

30 देशों ने भारत से की Hydroxychloroquine की मांग, विदेश मंत्रालय लेगा फैसला

400 साल पहले महामारी के समय ली प्रतिज्ञा को अब तक निभा रहे गांववाले

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज