वैज्ञानिकों ने पहली बार देखा दो अलग ब्लैकहोल का विलय, जानिए क्यों है यह खास

वैज्ञानिकों ने पहली बार देखा दो अलग ब्लैकहोल का विलय, जानिए क्यों है यह खास
ब्लैक होल के विलय के बारे में अपनी तरह यह पहली प्रमाणिक घटना है

वैज्ञानिकों ने अब तक 10 ब्लैकहोल (Black hole) विलय देखे थे, लेकिन अलग आकारों के ब्लैकहोल का विलय पहली बार देखा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2020, 9:39 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: वैज्ञानिकों के लिए ब्लैकहोल (Black Hole) बहुत ही कौतूहल का विषय है. कहा जाता है कि इसके बारे में वैज्ञानिकों को कोई भी जानकारी सीधे तरीके से नहीं मिली क्योंकि यह अपना आस पास आने वाली रोशनी तक को अपने अंदर खींच लेते हैं. लेकिन हाल ही में वैज्ञानिकों को दो ब्लैक होल के विलय (Merger) की घटना देखने का मौका मिला है.

कैसे अध्ययन कर रहे थे वैज्ञानिक
काफी समय से वैज्ञानिक ब्लैक होल के विलय केअध्ययन करने का प्रयास कर रहे थे. वे गुरुत्वाकर्षण तरंगों के माध्यम से  इस घटना को समझने की कोशिश कर रहे थे. वैज्ञानिकों के एक समूह ने जब पिछले साल ब्लैक होल विलय की घटना के आंकड़ों का अध्ययन किया तो उन्होंने अभी तक मिले संकेतों से ये संकेत अलग ही थे.

क्या अलग था इस बार
अब तक यह देखा जाता था कि जो ब्लैक होल विलय कर रहे हैं उनका आकार समान होता था, लेकिन  इस बार पाया गया कि जो ब्लैक होल विलय कर रहे हैं उनमें से एक दूसरे से तीन चार गुना बड़ा था.



Black hole
अब तक केवल समान आकार वाले ब्लैक होल के विलय देखे गए थे.


किन वैज्ञानिकों ने की खोज
इंटरफेरोमीटर ग्रैविटि वेव ऑबजर्वेटरी (LIGO) के वैज्ञानिकों ने दुनिया के बाकी वैज्ञानिकों से अपनी यह जानकारी अमेरिकन फिजिकल सोसाइटी की 18 अप्रैल को आनलाइन मीटिंग में साझा की. इससे पहले 10 ब्लैक होल विलय का अवलोकन किया गया था, लेकिन यह पहली बार है कि दो अलग आकारों के ब्लैकहोल का विलय देखने को मिला.

तीन चरणों में किया गया अध्ययन
शिकागो यूनिवर्सीटी के माया फिशबैच ने बताया कि इस खोज की उम्मीद नहीं थी. उन्होंने कहा कि खोज
के संकेत इससे पहले के 10 विलय वाले संकेतों से अलग थे.  लिगो वेधशाला का उपयोग करने वाले वैज्ञानिकों ने 10 ब्लैकहोल विलयों का अध्ययन दो चरणों में किया जो साल 2015 और साल 2017 में किए गए. सभी में पाया गया कि विलय वाले ब्लैकहोल एक ही आकार के थे. लेकिन 2019 के अध्ययन में पाया गया कि ये विलय संकेत पिछले 10 विलय के संकेतों से अलग थे.

पहली बार देखा चार गुना ज्यादा बड़े ब्लैकहोल के साथ विलय
जर्मनी लिगो वैज्ञानिक फ्रैंक होम ने भी माना कि अब तक कई बाइनरी ब्लैकहोल विलय देखे गए, लेकिन इससे पहले कभी भी ऐसा विलय नहीं देखा गया कि एक ब्लैक होल का अपने से चार गुना बड़े ब्लैक होल में विलय हुआ हो.

black hole
वैज्ञनिक ब्लैक विलयों को साल 2015 से देख रहे हैं.


कहां हुई यह घटना
यह विलय पृथ्वी से 2.4 अरब प्रकाशवर्ष दूर स्थित ब्लैकहोल में हुआ था. फिशबैच ने बताया कि छोटा ब्लैकहोल हमारे सूर्य से 8 गुना बड़ा था जबकि बड़ा ब्लैकहोल हमारे सूर्य से तीस गुना ज्यादा बड़ा था.

क्या फायदा होगा इस खोज से
वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इससे ब्लैकहोल के बारे में उन्हें समझने में ज्यादा मदद मिलेगी. इस खोज ने इतना निश्चित किया है कि दो अलग आकारों वाले ब्लैकहोल का विलय संभव है.

और आंकड़े देंगे ज्यादा जानकरी
फिशबैच ने बताया कि उन्हें तीसरे अध्ययन के लए 50 से अधिक स्रोतों से आंकड़े मिले थे, लेकिन कोरोना वायरस के कारण उनकी टीम का अध्ययन रुक गया था. अब वे लिगो के नवीनतम आंकड़ों का अध्ययन करेंगे. नए आंकड़ों में अलग आकारों के ब्लैकहोल विलय के भी आंकड़े हो सकते हैं.

अब नए सिरे से सोचना होगा विलय के बारे में
इस खोज ने वैज्ञानिकों को ब्लैकहोल विलय करने वाले जोड़ों के बारे में नए सिरे सोचने पर मजबूर किया है. यह एक कदम ही, फिशबैच के मुताबिक ब्लैकहोल विलय को समझने के लिए बड़ा कदम है.

यह भी पढ़ें:

अगले 6-7 दशकों में कितनी रहने लायक बचेगी हमारी पृथ्वी- क्या कहता है नया शोध

अंतरिक्ष में गायब हो गया एक ग्रह, जानिए वैज्ञानिकों ने कैसे सुलझाई ये पहेली

खुद को तेजी से बदलने लगा है कोरोना, चीन में मिले इस वायरस के 30 प्रकार

Satellite को फिर से जीवन देता है यह मिशन, जानिए कैसे होता है यह मुमकिन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज