इस देश में खुदाई में मिला 9वीं सदी का शिवलिंग, कई हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां भी मिलीं

इस देश में खुदाई में मिला 9वीं सदी का शिवलिंग, कई हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां भी मिलीं
वियतनाम में हाल ही में खुदाई में बलुआ पत्थर का बना एक शिवलिंग मिला है (Photo-twitter)

हाल ही में वियतनाम (vietnam) में खुदाई के दौरान एक विशाल शिवलिंग (Shiva Linga discovered in archaeological survey) मिला है. माना जा रहा है कि ये 9वीं सदी का शिवलिंग होगा.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
साउथ ईस्ट एशिया के देश वियतनाम (Vietnam) में हाल ही में खुदाई में बलुआ पत्थर का बना एक शिवलिंग (Shiva Linga) मिला है. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) वहां के ख्यात माई सन (My Son) मंदिर की खुदाई कर रहा था, तब ये आकृति मिली. इसकी जानकारी भारतीय विदेश मंत्री (Minister of External Affairs of India) एस जयशंकर ( S. Jaishankar) ने ट्वीट करके दी और साथ ही में तस्वीरें भी शेयर कीं. माना जा रहा है कि ये शिवलिंग लगभग 1100 साल प्राचीन हो सकता है.

वियतनाम के साथ प्राचीन भारत के काफी गाढ़े सांस्कृतिक और धार्मिक संबंध रहे होंगे. इसके प्रमाण जब-तब मिलते ही रहते हैं. जैसे बौद्ध धर्म को मानने वाले इस देश में 13वीं शताब्दी तक हिंदू और बौद्ध धर्म की कलाकृतियां पुरातात्विक खुदाई में मिल चुकी हैं.

2011 में, जब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने माई सन के कुछ हिस्सों को रिस्टोर करने का जिम्मा लिया. इसकी दो वजहेंथीं. एक तो वियतनाम के साथ अपने प्राचीन काल से चले आ रहे रिश्ते को मजबूती देना और दूसरा इस रिस्टोरेशन के दौरान एक ऐसे मंदिर को पुर्नस्थापित करना, जो सांस्कृतिक तौर पर भारत और वियतनाम दोनों के लिए ही काफी अहम रहा है.



बता दें कि माई सन मंदिर वियतनाम के मध्य में क्वैंग नेम प्रांत में बना हुआ है. ये मंदिर साल 1969 में अमेरिकी हवाई हमलों में बहुत कुछ ध्वस्त हो गया था. वैसे मूल रूप से ये मंदिर हिंद धर्म पर आधारित मंदिर है, जहां एक ही प्रांगण में मंदिरों का समूह है. यहां कृष्ण, विष्णु तथा शिव की मूर्तियां पहले भी मिल चुकी हैं. माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण चंपा के शासकों ने चौथी से 14वीं सदी के बीच कराया होगा. चारों ओर पहाड़ों से घिरा ये मंदिर प्रांगण लगभग दो किलमीटर के दायरे में फैला हुआ है. लेकिन बमबारी के बाद से इस मंदिर में लोगों का आना-जाना बिल्कुल बंद हो गया और अब यहां खुदाई का काम हो रहा है.

फिलहाल मिला शिवलिंग बलुआ पत्थर का बना हुआ है और एकदम साबुत है. इंडियन एक्सप्रेस में आई रिपोर्ट में ASI के एक अधिकारी ने बताया कि इस विशाल शिवलिंग के अलावा पहले ही खुदाई में 6 और शिवलिंग भी मिल चुके हैं. मंदिर परिसर से पहले भी कई मूर्तियां और कलाकृतियां मिली हैं, जिनमें भगवान राम और सीता की शादी की कलाकृति और नक्काशीदार शिवलिंग प्रमुख हैं.

पहाड़ों से घिरा ये मंदिर प्रांगण लगभग दो किलमीटर के दायरे में फैला हुआ है


माना जाता है कि वियतनाम में कभी हिंदू राजाओं का शासन रहा होगा. केवल वियतनाम ही नहीं, बल्कि इस श्रेणी में कई देश शामिल थे, जिन्हें पहले Farther India कहा जाता था. ये टर्म फ्रेंच शोधार्थी जॉर्ज कोड्स ने दी थी, जिसमें वियतनाम, कंबोडिया, लाओस, थाइलैंड, म्यांमार देश शामिल थे. यानी जिस दौर में लिखने या डॉक्युमेंट करने का काम शुरू नहीं हुआ होगा, जब वियतनाम और भारत के बीच गहरे सांस्कृतिक संबंध रहे होंगे.

अब भी इस देश की सभ्यता और जीवनशैली में भारत से जुड़ाव के असर दिखते हैं. वहां बोली जाने वाली भाषाओं में संस्कृत के शब्द और उच्चारण हैं. भारतीय कानून व्यवस्था और प्रशासन की झलक भी वियतनाम में दिखती है.

लेखक और पत्रकार गीतेश शर्मा अपनी किताब ‘Traces of Indian culture in Vietnam’ में लिखते हैं कि चंपा जिसे चम भी कहा जाता है, वहां प्राचीन समय में हिंदू राज्य था. ये तीसरी सदी की बात है. हिंदुओं का शासन आगे 1100 सालों तक चलता रहा. अब भी चम समुदाय की कई बातें हिंदुओं से मिलती हैं. जैसे वे शक संवत मानते हैं, जो कि भारत की देन है. इस समुदाय के लोगों में मरने के बाद परिजन को जलाया जाता है और हर साल पुरखों की पूजा भी होती है.

इस समुदाय में मृतक को जलाया जाता है और हर साल पुरखों की पूजा भी होती है (Photo-pixabay)


वैसे वियतनाम अकेला देश नहीं, जहां हिंदू मंदिरों के अवशेष मिल रहे हैं. कंबोडिया में एक पूरा मंदिर ही है, जिसे हिंदुओं का पांचवा धाम बनाने तक की बात हो रही है. अंकोरवाट मंदिर नाम से इस मंदिर को लगभग 1113 ई और 1150 ई के बीच बना माना जाता है. ये 500 एकड़ के क्षेत्र में बना है. अंकोरवाट का शाब्दिक अर्थ है मंदिरों का शहर. ये खूबसूरत मंदिर हिन्दुओं के भगवान विष्णु के मंदिर के रूप में बना था. लेकिन 14वीं सदी में इसे बौद्ध धर्म के मंदिर में बदल दिया गया और भगवान बुद्ध की मूर्ति भी स्थापित की गई. कंबोडिया में आज भी सैकड़ों मंदिर हैं.

ये भी पढ़ें:-

लौट आया अनाम हैकर्स का ग्रुप, जोकर के मास्क में दी अमेरिकी पुलिस की धमकी

किस खुफिया जगह पर खुलती है वाइट हाउस की सीक्रेट सुरंग

क्या है ट्रैवल बबल, जो आपको हवाई यात्रा के दौरान सेफ रखेगा?

कौन हैं काले कपड़ों में वे लोग, जिनसे डरकर डोनाल्ड ट्रंप को बंकर में छिपना पड़ा

कैसा है व्हाइट हाउस का खुफिया बंकर, जिसमें राष्ट्रपति ट्रंप को छिपाया गया

क्या है ट्रंप का वो नारा, जिसने अमेरिका में आग लगा दी
First published: June 3, 2020, 3:33 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading