• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • वो लड़की, जिसकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने धारा 66 ए हटा दी

वो लड़की, जिसकी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने धारा 66 ए हटा दी

श्रेया सिंघल की पहल से सुप्रीम कोर्ट ने धारा 66 ए को निरस्त कर दिया

श्रेया सिंघल की पहल से सुप्रीम कोर्ट ने धारा 66 ए को निरस्त कर दिया

आईटी एक्ट की धारा-66 ए (Section 66A of IT Act) के तहत पुलिस को अधिकार था कि वो सोशल मीडिया पर विवादित बातें (police action on controversial content on social media) डालने वालों को अरेस्ट कर सकती थी. दिल्ली की श्रेया सिंघल (Shreya Singhal) की पहल ने इस धारा को निरस्त करना दिया.

  • Share this:
    छह साल पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने धारा 66 ए को निरस्त (Supreme Court of India struck down section 66A) कर दिया है. इसके बाद भी सूचना प्रौद्योगिकी का ये कानून अब तक देश के कई राज्यों में जारी था और पुलिस इसके तहत केस भी दर्ज कर रही थी. हाल ही में कोर्ट ने एक बार फिर इसे लेकर सरकार को लताड़ लगाई. इसके बाद से धारा 66 ए तो चर्चा में है ही, लेकिन साथ ही एक युवती भी चर्चा का केंद्र बनी हुई है. 24 साल की श्रेया सिंघल (Shreya Singhal on Section 66A) ने ही साल 2012 में इस धारा के खिलाफ अदालत में जनहित याचिका लगाई थी.

    इस तरह हुई शुरुआत
    धारा 66 ए के खिलाफ जनहित याचिका की जड़े श्रेया सिंघल की अपनी मां से एक चर्चा से जुड़ी हैं. साल 2012 में श्रेया की मां मनाली सिंघल अपनी बेटी से एक फेसबुक पोस्ट की चर्चा कर रही थीं. वो पोस्ट दो लड़कियों की गिरफ्तारी के बारे में थी, जिन्होंने कथित तौर पर विवादास्पद बात की थी. मनाली सिंघल ने श्रेया से कहा कि वो अगर अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर इतनी परेशान है तो क्यों न कोर्ट में जनहित याचिका दायर कर दे.

    तीन साल बाद साल 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने इस धारा को वापस ले लिया
    अदालत ने ये एक्शन श्रेया सिंघल की याचिका पर लिया था. इसके बाद श्रेया की मां और सीनियर वकील मनाली ने खुद ही बताया कि कैसे एक रोज की गरमागरम बहस ने उनकी बेटी को याचिका लगाने को विवश कर दिया था.

    Shreya Singhal section 66 a
    दिल्ली की 24 साल की श्रेया सिंगल अभिव्यक्ति की आजादी को नया आयाम दे चुकी (Photo- firstpost)


    क्या होता था धारा के तहत 
    महज 24 साल की श्रेया अभिव्यक्ति की आजादी का प्रतीक बनकर उभरी हैं. उन्होंने उस धारा को हटवा दिया, जिसके चलते किसी खास मामले पर बोलने, लिखने या कला के जरिए अपनी राय देने वालों पर पुलिसिया कार्रवाई का खतरा रहता था. यहां बता दें कि पहले धारा 66 ए के तहत आनलाइन तौर पर आपत्तिजनक पोस्ट डालने पर 3 साल की सजा का प्रावधान था.

    दिल्ली की रहने वाली हैं श्रेया 
    इसके बाद से श्रेया के बारे में काफी चर्चा हो रही है कि ये युवती कौन है और क्या करती है. श्रेया दिल्ली की निवासी हैं, जिन्होंने यहीं के एक निजी स्कूल से 12वीं तक की पढ़ाई की. इसके बाद वे ब्रिस्टल यूनिवर्सिटी चली गईं, जहां तीन साल तक वे एस्ट्रोफिजिक्स पढ़ती रहीं. ब्रिटेन से पढ़कर लौटने के बाद श्रेया ने दिल्ली में कानून की पढ़ाई में हाथ डाला.

    वकालत का पेशा परिवार में चला आ रहा 
    फर्स्ट पोस्ट में द टेलीग्राफ की एक रिपोर्ट के हवाले से श्रेया के बारे में कई जानकारियां दी गई हैं. जैसे कानून के इतने बड़े मामले में बोलने वाली श्रेया वकालत में नई नहीं, बल्कि परिवार की पांचवी पीढ़ी हैं, जो इस पेशे में है. उनकी दादी सुनंदा भंडारे जज रह चुकीं. श्रेया के दादा एचआर गोखले पूर्व कानून मंत्री के तौर पर काम कर चुके हैं. फिलहाल श्रेया दिल्ली यूनिवर्सिटी में लॉ के दूसरे साल में हैं

    Shreya Singhal section 66 a
    सुप्रीम कोर्ट ने साल 2015 में ही धारा 66 ए को निरस्त कर दिया था- सांकेतिक फोटो (pixabay)


    वकीलों की मदद से लड़ा था केस 
    जब पालघर घटना पर कमेंट करने पर दो युवतियों पर कार्रवाई हुई तो श्रेया के पास वकालत का अपना कोई अनुभव नहीं था लेकिन वे चाहती थीं कि ऐसी धारा हटाई जाए. इसके लिए उन्होंने रंजीता रोहतगी और निनाद लाउद नाम के दो वकीलों की मदद ली ताकि जनहित याचिका लगा सकें. आगे चलकर ये मामला इतना सुर्खियों में आया कि पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी ने श्रेया के केस को फ्री में लड़ा.

    हफिंगटन पोस्ट को दिए एक इंटरव्यू में श्रेया ने याचिका की थकाने वाली लंबी प्रक्रिया का जिक्र किया था. उन्होंने कहा था कि भले ही सुप्रीम कोर्ट ने महीनेभर में ही सुनवाई खत्म कर धारा 66 ए को हटा दिया लेकिन इससे पहले तैयारी की प्रोसेस में लगभग ढाई साल लगे. बहरहाल, मां के साथ एक सुबह की बहस ने श्रेया को वो मकसद दिया, जिसके कारण देश में अभिव्यक्ति की आजादी को नई दिशा मिल चुकी है. अब सोशल मीडिया पर किसी मामले पर लोग बगैर डरे अपनी सोच रख सकेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज