तो इतने दिनों बाद खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस का आंतक?

तो इतने दिनों बाद खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस का आंतक?
कोरोना वायरस की प्रतीकात्मक तस्वीर.

संक्रामक रोगों (Infectious Disease) के एक ब्रिटिश एक्सपर्ट ने दावा किया है कि कोरोना वायरस का खतरा अभी 6 महीने और चलेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2020, 8:02 PM IST
  • Share this:
कोरोना वायरस (Corona Virus) से इस समय दुनिया के तकरीबन सभी बड़े देश जूझ रहे हैं. इसे वैश्विक महामारी (Pandemic) घोषित किया जा चुका है और दुनियाभर की इकॉनमी हिचकोले खा रही हैं. ऐसे में लोग लगातार ये कयास लगा रहे हैं कि शायद गर्मी का मौसम आने के साथ ही इस संक्रमण का प्रकोप कम होता चला जाएगा.

क्या है दावा
संक्रामक रोगों के एक ब्रिटिश एक्सपर्ट ने दावा किया है कि कोरोना वायरस का खतरा अभी 6 महीने और चलेगा. एक्सपर्ट ने यह भी कहा है कि मास्क या ग्लव्स पहनने से कोरोना से कोई बचाव नहीं होना वाला. ब्रिटिश अखबार डेली मेल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में ये दावा संक्रामक रोगों के एक्सपर्ट माइकल ओस्टरहोम ने किया है.

अभी तो बस शुरुआत
ओस्टरहोम ने कहा कि अभी तो ये शुरुआत है. अभी हमें इस संक्रामक बीमारी से काफी तकलीफें झेलनी पड़ेंगी. ओस्टरहोम ने उन प्रयासों को भी नाकाफी बताया है जो दुनियाभर की सरकारें कर रही हैं.



कोरोना को लेकर ये प्रचलित धारणा है कि ये पूरा मामला हाथों और चेहरे के बीच है. यानी आप किसी संक्रामित जगह को अपने हाथ से छूते हैं और फिर अपना हाथ चेहरे पर लगाते हैं. सिर्फ इतनी ही प्रक्रिया आपको संक्रमित करने के लिए काफी है. लेकिन ओस्टरहोम इससे इत्तेफाक नहीं रखते. उनके मुताबिक कोरोना इससे भी आगे बढ़कर सिर्फ संक्रामक हवा में सांस लेने से हो रहा है.

corona new virus
प्रतीकात्मक


ओस्टरहोम ने N-95 मास्क को कारगर माना है लेकिन उनका कहना है कि इस मास्क की बाजार में बेहद कमी है. उनका कहना है कि बहुत सारे अस्पतालों के पास इसके लिए बजट भी नहीं है.

वायरस पर किताब
ओस्टरहोम ने 2017 में एक बहुचर्चित किताब लिखी थी जिसका नाम था Deadliest Enemy: Our War Against Killer Germs. ओस्टरहोम ने उन आशंकाओं से इंकार किया है जिनमें कहा गया था कि कोरोना एक जैविक हथियार है. गौरतलब है कि पश्चिमी मीडिया में ऐसी कई रिपोर्ट आई थीं जिनमें दावे किए गए थे कोरोना वायरस चीन का जैविक हथियार है.

ओस्टरहोम का मानना है कि कोरोना के खिलाफ वैश्विक लड़ाई अभी चलेगी. हालांकि उन्हें विश्वास है कि वक्त के साथ इस पर काबू पा लिया जाएगा. ट्रंप प्रशासन में काम कर चुके ओस्टरहोम ने कोरोना के लिए लोगों को सलाह दी है कि हेल्दी डाइट लें, रेगुलर एक्सरसाइज करें और अल्कोहल का कम सेवन करें, जिससे प्रतिरोधक क्षमक अच्छी बनी रहेगी.

47 सौ के पार हुई मृतकों की संख्या
दुनिया भर में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस की शुरुआत चीन में हुवेई प्रांत के वुहान शहर से हुई. इस वायरस की चपेट में सबसे ज्‍यादा 80,796 लोग चीन में ही आए हैं. इसके अलावा चीन समेत पूरी दुनिया में अब तक 129,386 संक्रमित हो चुके हैं. इनमें 4,749 लोगों की मौत हो चुकी है. चीन में अब भी रोज वायरस संक्रमित नए मामले (New Cases) सामने आ रहे हैं. हालांकि, इनकी संख्‍या घटती जा रही है. अकेले चीन में अब तक 3,180 लोगों की इस वायरस की जद में आने से मौत (Killed) हो चुकी है. बावजूद इसके चीन ने पिछले कुछ दिनों में दर्जनों ऐसे अस्‍पताल बंद कर दिए हैं, जिन्‍हें खासतौर पर कोरोना वायरस के इलाज के लिए ही तैयार किया गया था.



विकसित हुई वैक्सीन!
इजरायली मीडिया में ऐसी ख़बरें आई हैं कि यहां वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस (Coronavirus) का टीका विकसित कर लिया है. ख़बरों के मुताबिक इजरायली वैज्ञानिक जल्द ही इसकी घोषणा भी कर सकते हैं. ये वैक्सीन प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देशों पर विकसित की गई है और इसके असर काफी सकारात्मक रहे हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के अंतर्गत आने वाले इंस्टीट्यूट ऑफ बॉयोलोजिकल रिसर्च ने हाल ही में इस विषाणु की जैविक कार्यप्रणाली और उसकी विशेषताएं समझने में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है.
ये भी पढे़ं:
क्‍या HIV/AIDS की दवा से ठीक होकर घर लौट रहे हैं Coronavirus के मरीज


किस हाल में हैं कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले नेता

WHO ने कोरोना वायरस को घोषित किया 'पैनडेमिक', एपिडेमिक से कैसे है अलग और क्‍या पड़ेगा फर्क

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज