Home /News /knowledge /

50 साल से नहीं बदले हैं अंतरिक्ष के नियम, UN ने कहा- आ गया है समीक्षा का समय

50 साल से नहीं बदले हैं अंतरिक्ष के नियम, UN ने कहा- आ गया है समीक्षा का समय

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने महसूस किया है कि अब समय आ गया है कि अंतरिक्ष की गतिविधियों के लिए जिम्मेदारी तय होनी चाहिए  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने महसूस किया है कि अब समय आ गया है कि अंतरिक्ष की गतिविधियों के लिए जिम्मेदारी तय होनी चाहिए (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

अंतरिक्ष गतिविधियों (Space Activities) संबंधी नियम या मानक 1967 में बाह्य अंतरिक्ष संधि (Outer Space Treaty) के रूप में बने थे तब से अब तक काफी बदलाव आ गए हैं. अब अंतरिक्ष के उपयोग बढ़ने से साथ सैन्य गतिविधियां भी वहां से या वहां से होते हुए संचालित हो सकती हैं. इसलिए अब नए नियमों, कानून और मानकों का बनना बहुत जारूरी है. संयुक्त राष्ट्र United Nations) ने इस दिशा में एक कार्य समूह बनाया है.

अधिक पढ़ें ...

    पिछले साल नवंबर में संयुक्त राष्ट्र आम सभा (UNGA) के प्रथम समिति ने औपचारिक तौर पर यह स्वीकार किया कि अंतरिक्ष (Space) और अंतरिक्ष की संपत्तियां मानव अनुभवों को बेहतर बनाने के अंतरराष्ट्रीय प्रायासों में भूमिका निभाते हैं. इसके साथ ही समिति ने यह भी माना का इन लक्ष्यों में अंतरिक्ष की सैन्य गतिविधियां भी बाधाएं डालती हैं. समिति ने एक समूह बनाया है जो आज और कल के अंतरिक्ष क्रिया कलापों के लिए खतरा पैदा करने वाले बर्तावों की पहचान करेगा जिन्हें गैरजिम्मेदाराना माना जा सकता है. अब इसके लिए नए नियमों (Space Rules) को बनाने की जरूरत को भी महसूस किया गया जो पिछले 50 साल बिलकुल नहीं बदले हैं.

    50 सालों में बहुत बदल गई है दुनिया
    पिछले 50 सालो में अंतरिक्ष अन्वेषण ही नहीं दुनिया की अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था तक में बहुत बदलाव आ गया है. अंतरिक्ष की दुनिया में अमेरिका और रूस के अलावा भी दूसरे देश आ गए हैं. शीत युद्ध खत्म हो गया है. नई अंतरिक्ष स्पर्धा में रूस की जगह चीन ने ले ली है. अंतरराष्ट्रीय राजनीति में प्रतिस्पर्धा ने नया रूप ले लिया है. उस समय जब अंतरराष्ट्रीय बाह्य अंतरिक्ष समझौता अंतरिक्ष गतिविधियों के लिए अंतिम नियमावली साबित हुआ था.

    एक बड़ी जिम्मेदारी
    संयुक्त राष्ट्र के इस समूह का काम अंतरिक्ष संबंधी जिम्मेदार बर्तावों के लिए लिए सिद्धांतों, नियमों और मानकों की अनुशंसा करना होगा और वैधानिक रूप से बाध्य उपकरणों के लिए बातचीत के लिए योगदान देना होगा. इसमें अंतरिक्ष हथियारों की होड़ को रोकने के लिए संधि भी शामिल होगी.

    रूस का एक कदम
    उल्लेखनीय है कि इसके ठीक दो सप्ताह बाद ही रूस ने अपने एक मिसाइल परीक्षण में पृथ्वी से मिसाइल छोड़ कर अपने ही पुराने सैटेलाइट को नष्ट कर दिया. इससे अवशेषों का विशाल बादल बन गया जिससे बहुत सी अंतरिक्ष सम्पत्ति को खतरा पैदा हो गया जिसमें इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन भी शामिल है.

    Space, United Nations, NASA, Space Rules, ISS, International Space Station, outer space treaty, New space laws and rules,

    अंतरिक्ष के लिए अंतरराष्ट्रीय कानून बनाने की दिशा में संयुक्त राष्ट्र (United Nations) ने पहला कदम उठाया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    सही समय पर संकल्प
    संयुक्त राष्ट्र की प्रथम समिति का काम निरस्त्रीकरण, वैश्विक चुनौतियों और खतरों से निपटना है जो अंतरराष्ट्री समुदाय की शांति को प्रभावित करते हैं. द कंवरसेशन में प्रकाशित अपने लेख  में मिसीसिपी  यूनिवर्सिटी में एयर एंड स्पेस लॉ के प्रोफेसर माइकल एलडी हैनलोन और एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटीअंतरिक्ष कानून में और अंतरिक्ष व्यवसाय के व्यापार के नीति  विशेषज्ञ हैं. उनका मानना है कि यह संकल्प बहुत ही सही समय पर आया है.

    Year Ender 2021: नासा की इस साल की खूबसूरत और चर्चित तस्वीरें

    पांच दशक पुरानी संधि
    1967 में आउटर स्पेस ट्रीटी यानि बाह्य अंतरिक्ष संधि समाने आई थी. इस संधि पर दुनिया के 111 देशों मने हस्ताक्षर किए थे. इस संधि ऐसे समय में चर्चा हुए थी जब दुनिया पर शीत युद्ध का साया थ और अंतरिक्ष में जाने की केवल दो ही देशों में क्षमता थी. इस संधि में दुनिया के देशों के लिए अंतरिक्ष संबंधी सिद्धांतों के लिए मोटे तौर पर दिशानिर्देश थे. लेकिन इसमें विस्तार से नियम कानून नहीं थे.

    Space, United Nations, NASA, Space Rules, ISS, International Space Station, outer space treaty, New space laws and rules,

    अंतरिक्ष (Space) सैन्य हथियारों की होड़ का मैदान भी बनते जा रहा है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

    संधि में खामियां
    इस संधि की खास बात यही थी कि इसमें मानवता के लिए चंद्रमा सहित अंतरिक्ष के स्वतंत्र अन्वेषण और मानवता के लिए उपयोगी की छूट थी. लेकिन इसमें यह कहा गया था कि अंतरिक्ष में स्थिति चंद्रमा और अन्य खगोलीय पंडों का उपयोग शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए होगा. इसके अलावा इसका एक प्रवाधान कहता था कि अंतरिक्ष में गतिविधियां सभी संबंधित पक्ष के हितों के लिए चलाई जाएंगी.

    Year Ender 2021: जानिए कैसा रहा NASA के लिए यह साल

    तब से अब में बहुत परिवर्तन आ गया है. अंतरिक्ष अब सैन्य गतिविधियों का स्थान और स्रोत तक बनने में सक्षम है. ऐसे में अंतरिक्ष के सैन्य उपयोग संबंधी नियम लाने जरूरी हैं. हो सकता है इसमें कई नई तरह की मिसाइलें तक आ जाएं. अंतरिक्ष क्षेत्र में उपयोग के शातिपूर्वक भी हो रहे हैं. आने वाले समय में मानवता की अंतरिक्ष पर आर्थिक निर्भरता भी बढ़ती जाएगी. उम्मीद की जा रही है इस दिशा में संयुक्त राष्ट्र का पहला कदम कारगर नतीजे देगा.

    Tags: Nasa, Research, Science, Space, United nations

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर