जानिए कैसे बनी वह खास Perfume, जो आपको बताएगी अंतरिक्ष की Smell

जानिए कैसे बनी वह खास Perfume, जो आपको बताएगी अंतरिक्ष की Smell
नासा दशकों साल पहले इस तरह की सेंट बनवाया करता था, लेकिन कुछ साल पहले उसने फिर से अंतरिक्ष की गंध वाली सेंट बनवाई है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नासा (NASA) ने दशकों बाद एक बार फिर ऐसा पर्फ्यूम (Perfume) बनवाया है जिसकी गंध (Smell) बिलकुल वैसी है जैसा की अंतरिक्ष (Space) में पहुंचने पर महसूस होती है.

  • Share this:
गंध (Smell) को लेकर लोगों की अलग-अलग संवेदनशीलता होती है. कुछ लोग इत्र, पर्फ्यूम (Perfume), डियो को लेकर बहुत खर्चा करते हैं तो कुछ इनकी परवाह तक नहीं करते हैं. लेकिन क्या आपने सोचा है कि अंतरिक्ष (Space) की सेंट (Scent) कैसी होती होगी. हाल ही मेंनासा ने एक सेंट निकाला है जिसकी गंध हमारी पृथ्वी के बाहर के अंतरिक्ष के जैसी है. लेकिन यह सेंट नासा ने दशकों पहले भी बनाया था. नासा ने इसे एक बार फिर से बनावाया है जो कुछ समय बाद आम लोगों को भी मिल सकेगा.

एस्ट्रोनॉट्स कर चुके हैं इस सेंट की पुष्टि
मजेदार बात यह है कि बहुत कम ही लोग जानते हैं कि अंतरिक्ष की गंध कैसी होती है. इस पर्फ्यूम के अंतिरक्ष के गंध के जैसे होने की पुष्टि किसी और नहीं बल्कि खुद एस्ट्रोनॉट्स ने की है. इस पर्फअयूम को ईआयू डि स्पेस (Eau De space) नाम दिया गया है. उम्मीद की जा रही है कि यह लोगों को इस साल अक्टूबर महीने में उपलब्ध होने लगेगी. नासा ने केम्सिट स्टीव पियर्स (Steve Pearce) के साथ मिलकर विकसित किया है.

NASA, Designed Perfume, Smell Of Outer Space, Earth, नासा, डिज़ाइन किया इत्र, पृथ्वी, बाहरी अंतरिक्ष की गंध, लाइफस्टाइल, ट्रेंड़िंग न्यूज
परफ्यूम आंतरिक्ष यात्रियों को आंतरिक्ष की गंध से परिचित कराएगा




 दशकों पहले भी बन चुकी है ऐसी गंध
दरअसल इस गंध के बनाए जाने के भी पीछे एक कहानी है. नासा दशकों पहले अपने एस्ट्रोनॉट्स के प्रशिक्षण के लिए ऐसा वातावरण बनाया करता था जिससे इन एस्ट्रोनॉट्स को अंतरिक्ष में होने का अहसास हो सके. इसके लिए उन्होंने ऐसी गंध बनाने के बारे में सोचा जिससे प्रशिक्षण के दौरान एस्ट्रोनॉट्स को लगे वे अंतरिक्ष में ही हैं और उन्हें अंतरिक्ष में पहुचने पर किसी तरह का चौंकने वाला भाव महसूस नहीं हो. इस तरह की सुगंध सालों तक अंतरिक्ष यात्रियों के लिए ही होती थी और उसके बारे में लोगों को पता तक नहीं चल पाता था.

फिर टला NASA  का महत्वाकांक्षी रोवर प्रक्षेपण, जानिए क्या है वजह

कई सालों पहले नासा ने किया था यह सेंट बनाने कि लिए संपर्क
संयोग से यह अब लोगों तक पहुंच सकेगी. पियर्स का कहना है कि उन्होंने (नासा ने) दुनिया के बेहतरीन पर्फ्यूमर्स के साथ साझेदारी की है और इस उत्पाद को खास तौर पर लॉन्च करना सुनिश्चित किया है. इस टीम में फैशन, तकनीक, डिजाइन और लॉजिस्टिक क्षेत्र के प्रमुख लोग शामिल हैं. पियर्स से नासा न सबसे पहले साल 2008 में इस खुशबू को फिर से बनाने के लिए संपर्क किया था. तब पियर्स ने उस सेंट की प्रदर्शनी में काम किया था जिसमें उन्होंने मीर स्पेस स्टेशन के अंदर की गंध को फिर से बनाया था.

NASA
नासा 2024 मेें चांद पर इंसान पहुंचाने की तैयारी कर रहा है


तो कैसे बनाई पियर्स ने यह सेंट
पियर्स का कहना है कि उन्होंने एस्ट्रोनॉट्स के नोट्स का सहारा लिया जिसमें उनका कहना था कि अंतरिक्ष की गंध ओजोन, गर्म धातु और तले हुए मांस की तरह होती है. इस जानकारी और अपने फ्लेवर एंड फ्रेग्रेंस कैमिस्ट्री के ज्ञान का उपयोग कर पियर्स ने कई संयोजन बनाए. उन्हें सही गंध वाले कैमिकल ढूंढने में कुछ हफ्तों का समय लग गया.

SpaceX के क्रू ड्रैगन से बहुत खुश है NASA, पर दोनों को इस टेस्ट का है इंतजार

कैसी होती है यह गंध
धरती पर रहने वाले ज्यादातर लोग शायद इस बात की पुष्टि कभी नहीं कर पाएं कि अंतरिक्ष की खुशबू कैसी होती है,  लेकिन बहुत से एस्ट्रोनॉट्स ने इस गंध के बारे में बताने की कोशिश की है. कुछ एस्ट्रोनॉट्स का कहना है कि अंतरिक्ष में मिलने वाले गंध में सूखे मांस, रसबेरनी और रम के मिली जुली खुशबू होती है. वहीं, पेगी वाइटसन जो इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में काफी समय बिता चुकी हैं, का कहना है कि वह गंध बिलकुल वैसी होती है जैसी गोली चलाने के बाद बंदूक से निकलने वाली गंध होती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading