Home /News /knowledge /

सूर्य के कोरोना ने भारतीय खगोलविदों को किया हैरान, जानिए क्या है रहस्य

सूर्य के कोरोना ने भारतीय खगोलविदों को किया हैरान, जानिए क्या है रहस्य

सूर्य की सतह पर होने वाली गतिविधि कोरोनल मास इजेक्शनस (CME) बढ़ने की जगह कम हो गई.  (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

सूर्य की सतह पर होने वाली गतिविधि कोरोनल मास इजेक्शनस (CME) बढ़ने की जगह कम हो गई. (प्रतीकात्मक तस्वीर: shutterstock)

भारतीय खगोलभौतिकी संस्थान (IIA) के वैज्ञानिकों ने सूर्य (Sun) के सौरचक्र में एक अजीब बर्ताव देखा है. उन्होंने अपने अवलोकनों में पाया है कि सतह पर होने वाली गतिविधि कोरोनल मास इजेक्शनस (CME) 2008 से लेकर 2019 तक आकार और भार में काफी कम हो गए हैं. जबकि उम्मीद की जा रही थी कि इस दौरान इनका आकार और भार सहित सक्रियता में भी इजाफा होना चाहिए था.

अधिक पढ़ें ...

    सूर्य (Sun) की सतह स्थिर नहीं रहती है. वहां पर हमेशा ही कोई ना कोई गतिविधि चलती हरी रहती है. इस सक्रियता की वजह से ही सौरमंडल (Solar System) में चुंबकीय और विद्युतचुंबकीय प्रभावों के साथ भारी मात्रा में आवेशित कणों के विकरण भी फैलते हैं. ये गतिविधियां हमेशा ही एक सी नहीं रहती हैं. बल्कि एक चक्र की तरह कभी ज्यादा तो कभी कम होती हैं. भारतीय खगोलविदों (Indian Astronomers) ने सूर्य की सतह पर एक अप्रत्याशित बात देखी है. उन्होंने पाया है कि नए सौर चक्र में जहां सूर्य को ज्यादा सक्रिय होना था वह तुलनात्मक रूप से पिछले 12 सालों में शांत ही रहा.

    क्या था अवलोकन
    बेंगलुरू स्थित भारतीय खगोलभौतिकी संस्थान (IIA) के वैज्ञानिकों ने सूर्य की सतह पर साल् 2008 से 2019 तक  की गतिविधियों की तुलना 1996 से लेकर 2007 तक की. उन्होंने पाया कि इस दौरान सूर्य की सतही गतिविधियां पहले की तुलना ज्यादा शांत थी. उन्होंने पाया कि 2008 से 2019 तक समय में सूर्य से निकलने वाले कोरोना द्रव्य उत्क्षेपण (CME) भार, आकार और विस्फोटक परिघटना के दबाव, इस सभी के लिहाज से कम हो गया है.

    उम्मीद के उलट ही
    इसके साथ ही कोरोना द्रव्य उत्क्षेपण का औसत त्रिज्या आकार भी कम होता दिखाई दिया है. यह सब उम्मीद बिलकुल ही उलट पाया गया है. उम्मीद की जा रही थीक् अंतरग्रहीय माध्या में  दबाव के घटने से सीएमई का त्रिज्या आकार (Radial Size) में इजाफा देखने को मिलेगा. लेकिन ऐसा होने की जगह जो हुआ वह इसके ठीक विपरीत ही था.

    सौर चक्र की गतिविधि
    इस अध्ययन में शोधकर्ता 23वें और 24 वें सौर चक्र में कोरोनल मास इजेक्शन्स के विस्तार का बर्ताव और और उसके अंतरग्रहीय हिस्सों को समझने का प्रयास कर रहे थे. सूर्य की चुंबकीय गतिविधि हर 11 साल के दौर में तीन चरणों में बदलती है. इस दौरान वह बढ़ती है,अधिकतम पर पहुचंती है और फिर कम होने लगती है. इन सभी चरणों को एक सौर चक्र कहते हैं.

     Space, Sun, Corona, Coronal Mass Ejections, CME, Solar Cycle, Indian Astronomers, IIA,

    सूर्य की सतह हर 11 साल में गतिविधियों की सक्रितया की तीव्रता का एक चक्र (Solar Cycle) पूरा होता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Pixabay)

    सौ सालों में सबसे कमजोर
    साल 2008 से 20019 का समय 24वें सौर चक्र का था. इस दौरान वैज्ञानिकों ने पाया था कि यह दौर कमजोर ही रहा था यानि यह चक्र 23 (1996-2007) की तुलना में कमजोर था. इसके अलावा शोधकर्ताओं ने यह भी पाया कि पिछले 100 सालों की तुलना में सूर्य साल 2019 में सबसे कमजोर रहा था.

    NASA के हबल से कितना अलग है जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप

    क्या होता है CME
    कोरोना द्रव्य उत्क्षेपण समय समय पर सूर्य से विशाल मात्रा में उत्सर्जित होने वाले प्लाज्मा संरचनाएं होते हैं. सूर्य पर विस्फोट के साथ होने वाली इन घटनाओं में अरबों टन का पदार्थ करोड़ों मील प्रति घंटा की गति से अंतरिक्ष में उत्सर्जित होता है. यह सौर पदार्थ अंतरग्रहीय माध्यम में प्रवाहित  होता है और ग्रहों सहित रास्ते में आने वाले हर खगोलीय पिंड को प्रभावित करता है.

    Space, Sun, Corona, Coronal Mass Ejections, CME, Solar Cycle, Indian Astronomers, IIA,

    कोरोना द्रव्य उत्क्षेपण (CME) के अध्ययन के लिए बहुत सारे सौर प्रोब की जरूरत होगी. (तस्वीर: ESA)

    क्यों जरूरी है इनका अध्ययन
    इन उत्क्षेपण को समझना बहुत जरूरी है क्योकि यह पृथ्वी की चुंबकीय मंडल में बड़ा व्यवधान पैदा करते है. वे पृथ्वी पास के अंतरिक्षीय वातावरण को प्रभावित करते है, उसकी निचली कक्षा में चक्कर लगा रहे उपग्रहों के क्रियाकलापों को बाधित करते हैं. इतना ही नहीं वे ग्लोबल पोजीशनिंग सिग्नल्स (GPS), लंबी दूरी के रेडियो संचार और पॉवर ग्रिड तक को प्रभावित करते हैं.

    जानिए बाहरी अंतरिक्ष में होने वाली सामान्य लेकिन अजीब घटनाओं के बारे में

    शोधकर्ताओं का कहना है कि यह जानकारी हैरान करने वाली इसलिए हैं क्योंकि आसपास का कम दबाव बताता है कि सीएमई का अंतरग्रहीय अंतरिक्ष में विस्तार हो रहा है. इससे इसका आकार बहुत बढ़ जाता है जिससे इसका त्रिज्या आकार भी बढ़ जाता है. लेकिन कम दबाव की भरपाई सीएमई के अंदर चुंबकीय पादर्थ ने कर दी जिसने सीएमई को विस्तार से रोक दिया. शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना द्रव्य उत्क्षेपण को अगल अलग दूरी से अध्ययन करना जरूरी है जिसके लिए पार्कर सौर यान के जैसे बहुत से यानों की जरूरत होगी.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर