Corona: 10 हजार में से 1 व्यक्ति को होता है सतह से संक्रमण, क्या है नई गाइडलाइन?

जानिए, क्या कोरोना वायरस सतह पर भी जिंदा रहता है-  सांकेतिक फोटो (flickr)

जानिए, क्या कोरोना वायरस सतह पर भी जिंदा रहता है- सांकेतिक फोटो (flickr)

साल 2020 में देश-दुनिया में कोरोना फैलने पर सतह को भी संक्रमण (corona infection by surface transmission) का जरिया माना गया. तब बताया गया था कि स्टील, प्लास्टिक और दूसरी सतहों पर वायरस घंटों से लेकर कई दिनों तक जीवित रहता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 12:38 AM IST
  • Share this:
कोरोना की नई लहर (Coronavirus new wave) बड़ी तेजी से फैली और कुछ ही हफ्तों में देश की हालत खराब हो चुकी है. कुछ राज्यों में संक्रमण खतरनाक स्तर पर पहुंच चुका है. माना जा रहा है कि इस बार एक मरीज अपने संपर्क में आने वाले लगभग 90 प्रतिशत लोगों को संक्रमित कर रहा है, जबकि पहली लहर के दौरान ये आंकड़ा लगभग 30 प्रतिशत था. खतरा बढ़ने के साथ अब लोग कई सवाल दोबारा जानना चाहते हैं, जैसे क्या कोरोना वायरस सतह पर भी जिंदा रहता है. अगर हां तो कितनी देर तक संक्रमण का खतरा रहता है? जानिए, क्या कहते हैं एक्सपर्ट.

क्या है CDC का कहना 

इस बारे में सेंटर्स फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) मानता है कि संक्रमित सतह से बीमारी एक से दूसरे में जा सकती है लेकिन इसकी आशंका काफी कम होती है. इसे और साफ करते हुए CDC बताता है कि जिस जगह पर संक्रमित व्यक्ति के जरिए वारयस पहुंचा है, उसे छूने पर स्वस्थ व्यक्ति बीमार हो जाए, ऐसा केवल 10000 में से 1 मामले में हो सकता है.

coronavirus surface transmission
कोरोना संक्रमण की शुरुआत होने के बाद से लगातार CDC और WHO इस बारे में स्टडी करते हुए नई गाइडलाइन जारी कर रहे हैं- सांकेतिक फोटो (flickr)

क्यों कम है आशंका

CDC ने 5 अप्रैल को स्टडी की रिपोर्ट जारी की. वाइट हाउस में इसकी ब्रीफिंग के दौरान संस्था के डायरेक्टर Dr. Rochelle Walensky ने बताया कि हालांकि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि संक्रमण सतह से फैल सकता है लेकिन इसकी आशंका इतनी कम है कि ये लगभग नहीं के जितना है. कोरोना वायरस असल में श्वसन तंत्र के जरिए फैलने वाला वायरस है, जो हवा से होते हुए फैलता है.

Youtube Video




लगातार संशोधन हो रहा गाइडलाइन में

बता दें कि कोरोना संक्रमण की शुरुआत होने के बाद से लगातार CDC और WHO इस बारे में स्टडी करते हुए नई गाइडलाइन जारी कर रहे हैं. ये इसलिए किया जा रहा है ताकि देश इसके मुताबिक अपने नियमों में बदलाव कर सकें और लोग सतर्क रहें. ऐसा हो भी रहा है कि इन्हीं की गाइडलाइन को देखते हुए देश में अपने यहां नियमों को और सख्त बनाते या ढील देते रहे.

ये भी पढ़ें: सीने में दर्द से लेकर याददाश्त कमजोर होना, कोरोना के म्यूटेशन से दिखे ये लक्षण   

कितनी सफाई काफी है

अगर सतह से कोरोना फैलने का डर इतना कम है तो जिस हाइजीन थिएटर की बात हो रही, उसमें छूट मिल सकेगी. यानी लोग अपने होटलों, रेस्त्रां, दफ्तर और पब्लिक ट्रांसपोर्ट में जो लगातार सफाई अभियान चलाए हुए हैं, उसमें जरूरत के मुताबिक छूट मिल सकेगी. इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में CDC के हवाले से बताया कि कुछ खास हालातों में सफाई का ध्यान रखना चाहिए. वायरस के फैलने का खतरा कम करने के लिए रोजाना साबुन वाले पानी से पोंछा लगाना भी पर्याप्त है.

coronavirus surface transmission
कोरोना वायरस असल में श्वसन तंत्र के जरिए फैलने वाला वायरस है- सांकेतिक फोटो (pixabay)


हॉस्पिटल के लिए अलग नियम 

अस्पतालों के लिए गाइडलाइन बदल जाती है क्योंकि वहां लगातार मरीजों के आने के कारण सरफेस ट्रांसमिशन का डर ज्यादा रहता है. एजेंसी ने इसके लिए अमेरिकन जर्नल ऑफ इंफेक्शन कंट्रोल (American Journal of Infection Control) को साइट किया. स्टडी में ये भी कहा गया कि वायरस के घर, दफ्तर या भीतर में फैलने की आशंका, बाहर खुले में फैलने से कम होती है.

किन जगहों पर कितनी देर रहता है वायरस

पिछले साल जब कोरोना की शुरुआत हुई थी तो वैज्ञानिकों ने माना था कि सतह से कोरोना उसी तरह फैलता है, जैसे हवा से फैलता है. शुरुआती रिसर्च में इसी तरह की बातें निकलकर आई भी थीं. दावा किया गया कि सतह, खासकर प्लास्टिक और स्टील पर वायरस कई दिनों तक जीवित रह सकता है. इसके तुरंत बाद ही CDC ने चेतावनी जारी की और सावधान किया कि संक्रमित सतह को छूने के बाद आंखों, नाक और कान को छूना संक्रमण का खतरा बढ़ाता है.

ये भी पढ़ें: वैक्सीन के शुरुआती दौर में ट्रायल से डरते थे लोग, कैदियों को इंजेक्शन देकर हुए प्रयोग   

सालभर के भीतर बदले निष्कर्ष

मार्च में द न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल में बताया गया था कि कोरोना वायरस आदर्श परिस्थितियों में किस सतह पर कितनी देर तक जिंदा रह सकता है. शोध रिपोर्ट के मुताबिक, वायरस सख्‍त सतह और प्‍लास्टिक पर तीन दिन तक, जबकि कार्डबोर्ड पर 24 घंटे जिंदा रह सकता है. इसके बाद मई 2020 में नई गाइडलाइन लाते हुए बताया गया कि संक्रमण का खतरा हवा से ही ज्यादा है, न कि सतह से.

coronavirus surface transmission
स्टडी में ये भी कहा गया कि वायरस के घर, दफ्तर या भीतर में फैलने की आशंका, बाहर खुले में फैलने से कम होती है- सांकेतिक फोटो (hippopx)


कैसे फैलता है सतह से इंफेक्शन

संक्रमण फैलाने के लिए सबसे पहले सतह पर पर्याप्‍त मात्रा में कोरोना वायरस का होना जरूरी है. इसके बाद किसी दूसरे व्‍यक्ति के उस सतह को छूने तक वायरस का जिंदा रहना जरूरी है. इसके बाद मान लीजिए कि सतह पर पर्याप्‍त मात्रा में वायरस मौजूद हैं और कोई व्‍यक्ति उस जगह को छू लेता है तो संक्रमण के लिए कोरोना का उस व्‍यक्ति की त्‍वचा पर तब तक जिंदा रहना जरूरी है जब तक कि वो उससे अपनी नाक, आंख या मुंह को छू नहीं लेता है.

ये भी पढ़ें: क्यों आग उगलते लाल ग्रह Mars पर खूबसूरत नीले रंग के टीले दिखे?   

इसके अलावा भी कई ऐसी बातें हैं, जिनका किसी सतह पर मौजूद कोरोना वायरस से संक्रमण फैलाने में योगदान रहता है. अभी तक इसी बात का जवाब नहीं मिल पाया है कि किसी एक जगह पर वायरस की संख्‍या कम से कम और ज्‍यादा से ज्‍यादा कितनी होनी चाहिए जो उसके फैलने की दर को प्रभावित कर सकती है. ऐसे में बेहतर यही माना जा रहा है कि ज्यादा से ज्यादा सफाई रखी जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज