• Home
  • »
  • News
  • »
  • knowledge
  • »
  • कौन हैं वो शख्स, जिन्होंने शपथ के लिए पुकारे मंत्रियों के नाम

कौन हैं वो शख्स, जिन्होंने शपथ के लिए पुकारे मंत्रियों के नाम

राष्ट्रपति के सचिव संजय कोठारी (फाइल फोटो)

राष्ट्रपति के सचिव संजय कोठारी (फाइल फोटो)

आंखों पर चश्मा लगाए मुस्कराता हुए ये शख्स हरियाणा कैडर के रिटायर्ड आईएएस संजय कोठारी हैं

  • Share this:
राष्ट्रपति भवन के विशाल प्रांगण में जब मोदी सरकार 2.0 के मंत्री एक-एक करके शपथ ले रहे थे तो क्रीम कलर का सूट पहने हुए एक शख्स बार-बार मंत्रियों के नाम पुकार रहे थे, फिर मुस्कराते हुए हर बार हौले से पीछे हट जा रहे थे. जब तक मंत्रियों की शपथ चलती रही वो यही करते रहे.

टीवी पर उन्हें पूरे देश ने देखा. कौन हैं ये शख्स. कई के जेहन में ये सवाल उभरा भी होगा कि ये कौन हैं जो राष्ट्रपति के करीब खड़े होकर बार-बार मंत्रियों के नाम बुला रहे हैं. ये और कोई नहीं बल्कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सचिव हैं. इनका नाम है संजय कोठारी. वो 1978 बैच के आईएएस अफसर हैं. 2016 में रिटायर होने के एक साल बाद उनकी इस पद पर नियुक्ति हुई.

हरियाणा कैडर के आईएएस अफसर 
संजय कोठारी हरियाणा कैडर के आईएएस अफसर थे, जिन्होंने केंद्र और राज्य में कई पोजीशन में काम किया. वो उन अफसरों में रहे हैं, जिन्होंने हरियाणा में काफी तारीफ पाई. हरियाणा के जिस भी इलाके में उनकी नियुक्ति शुरू में एसडीएम या फिर कलेक्टर के रूप में हुई, वहां आमतौर पर अवैध काम बंद हो जाया करते थे. उन्हें कड़क अफसर के रूप में जाना जाता था.

जानिए कितनी होती है राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सांसदों की सैलरी?

कार्मिक विभाग के सचिव पद से रिटायर हुए थे
वो जब आईएएस के कार्यकाल से रिटायर हुए, उस समय वो कार्मिक विभाग में सचिव थे. उन्हें लंबा प्रशासनिक अनुभव है. जिस समय उनकी नियुक्ति हुई, उनकी नियुक्ति संबंधी कमेटी की अगुआई प्रधानमंत्री कर रहे थे, जिन्होंने उनकी नियुक्ति पर मुहर लगाई.

संजय कोठारी, जो राष्ट्रपति भवन में शपथ के लिए मंत्रियों के नाम पुकार रहे थे


तब उन्होंने मोदी को प्रभावित किया
कहा जाता है जब 2014 में नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने और उन्होंने आईएएस अधिकारियों की मीटिंग बुलाई, उसमें संजय कोठारी ने उन्हें प्रभावित किया था. इसके कुछ समय बाद वो डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग के सचिव बनाए गए.

सेल्फ अटेस्टेशन का सुधार उन्हीं के जरिए हुआ
संजय के समय में ही डीओपीटी ने गजटेड अधिकारियों द्वारा अटेस्टेशन की प्रक्रिया को खत्म कर सेल्फ अटेस्टेशन को शुरू किया था. जिससे बड़ी संख्या में प्रतियोगी परीक्षाओं में बैठने वाले और उसके बाद नियुक्ति पाने वाले प्रतियोगियों ने राहत की सांस ली थी.

यह भी पढ़ें-

बेटे नरेंद्र को दो बार PM और तीन बार CM बनते देखने वाली मां

मोदी 2.0: खुशी में बीजेपी पार्षद ने चमकाए लोगों के जूते

जहां से नौकरी शुरू की और रिटायर हुए, वहीं मंत्री होंगे जयशंकर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज