जब 70 साल पहले एयर इंडिया ने भरी पहली इंटरनेशनल उड़ान

8 जून 1948 को एयर इंडिया के विमान ने पहली बार इंटरनेशल उड़ान भरी थी. ये उड़ान मुंबई से लंदन की थी, जो काहिरा और जिनेवा होते हुए पहुंचनी थी.

8 जून 1948 को एयर इंडिया के विमान ने पहली बार इंटरनेशल उड़ान भरी थी. ये उड़ान मुंबई से लंदन की थी, जो काहिरा और जिनेवा होते हुए पहुंचनी थी.

8 जून 1948 को एयर इंडिया के विमान ने पहली बार इंटरनेशल उड़ान भरी थी. ये उड़ान मुंबई से लंदन की थी, जो काहिरा और जिनेवा होते हुए पहुंचनी थी.

  • Last Updated: June 7, 2018, 7:54 PM IST
  • Share this:
8 जून 1948 को एयर इंडिया के विमान ने पहली बार इंटरनेशल उड़ान भरी थी. ये उड़ान मुंबई से लंदन की थी, जो काहिरा और जिनेवा होते हुए पहुंचनी थी. इसकी सफलता भारतीय सिविल एविएशन के लिए मील का पत्थर साबित हुई.



ये भारत से उड़ने वाले पहली अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट थी. जो मालाबार प्रिसेज नाम के 40 सीटर L-749 कॉन्स्टलेशन से पूरी होनी थी. इस फ्लाइट के कैप्टन के.आर. गुजदार थे, जिनके नेतृत्व में फ्लाइट ने अपना सफर तय किया. मुंबई से लंदन जाने वाली इस फ्लाइट को वाया काहिरा और जिनेवा होते हुए जाना था.



5000 मील के इस सफर को मालाबार प्रिसेज ने दो दिन में पूरा किया. 8 जून को मुंबई से चलने वाली ये फ्लाइट 10 जून को लंदन पहुंची. इसमें सवार कुल 35 यात्रियों में से 29 को लंदन और 6 को जिनेवा उतरना था. इस फ्लाइट ने मुंबई से देर शाम को उड़ान भरी थी.





लंबी प्लानिंग के बाद पूरी हुई योजना
इस यात्रा को पूरा करने के लिए लंबी योजना बनाई गई. इससे पहले एयर इंडिया को घरेलू उड़ान का अनुभव था. लेकिन अंतरराष्ट्रीय के लिए एयर इंडिया ने नए पदों पर नई भर्तियां कीं, जिन्हें ऐसी लंबी उड़ानों का अनुभव था. इससे पहले एयर इंडिया ने काहिरा, जेनेवा और लंदन में अपना ऑफिस भी खोला.







काहिरा के ऑफिस की स्थापना ए. नरिमन, जिनेवा वाले ऑफिस की जी बेरटोली और लंदन की कमान एमएएस दलाल ने संभाली थी. लंदन एयरपोर्ट पर एयर इंडिया को ऑफिस के लिए छोटी सी जगह दी गई थी. इस जगह के लिए एमएएस दलाल और एसके कूका ने लंबा संघर्ष किया ताकि कुछ बेहतर जगह मिल सके.



ऑफिस सेटअप के बाद लोगों को जानकारी देने के लिए एयर इंडिया ने 3 जून 1948 के टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार में दो कॉलम* 15 से.मी का विज्ञापन निकाला. इसमें लिखा गया था कि "हमारे साथ हर मंगलवार वाया काहिरा और जिनेवा होते हुए लंदन के लिए उड़ान भरिए. सिर्फ 1720 रुपए में."



बड़े लोग थे विमान के यात्री

पहली अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट में सफर करने वाले देश के बड़े नामी लोग थे. इनमें महाराजा दिलीप सिंह जी थे. जो इंग्लैंड-ऑस्ट्रेलिया टेस्ट मैच को देखने के लिए जा रहे थे. इसके अलावा मिस्टर और मिसेज केकी मोडी, लेफ्टिनेंट कर्नल डब्लू ग्रे (इंडिया पॉलिटिकल डिपार्टमेंट), गुलाम मोहम्मद भट्टी, नरोत्तम, सुलोचना लालभाई, एचआर स्टिमंस जैसे बड़े लोग शामिल थे. इनमें भारत की ओर से वेम्बले ओलंपिक में गए साइक्लिस्ट आर.आर नोबेल भी थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज