चांद पर पहला कदम रखने वाले आर्मस्ट्रांग की क्यों कायल हो गईं थीं इंदिरा गांधी, की थी तारीफ

चांद पर उतरने का अपना अभियान पूरा करने के बाद वो जब दिल्ली आए तो इंदिरा गांधी से उनकी खास मुलाकात हुई. उसमें उनकी जिस अंदाज में तत्कालीन प्रधानमंत्री से बातचीत हुई, वो काफी शानदार थी

News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 2:39 PM IST
चांद पर पहला कदम रखने वाले आर्मस्ट्रांग की क्यों कायल हो गईं थीं इंदिरा गांधी, की थी तारीफ
नील आर्मस्ट्रांग दिल्ली में प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से मुलाकात के दौरान
News18Hindi
Updated: July 19, 2019, 2:39 PM IST
20 अप्रैल 1969 को अमेरिका के नील आर्मस्ट्रांग ने अपोलो-11 के जरिए चांद पर पहला कदम रखा था. उनके साथ एल्विन एल्ड्रिन भी थे. इस मिशन की सफलता के बाद आर्मस्ट्रांग ने एल्ड्रिन के साथ दुनिया के तमाम देशों का दौरा किया. वो भारत आए और तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी से भी मिले. उन्होंने इस मुलाकात में एक ऐसा काम किया था, जिससे इंदिरा ना उनकी कायल हो गईं बल्कि उन्होंने उनका जमकर तारीफ भी की.

दरअसल 20 अप्रैल 1969 की रात इंदिरा सुबह 4.30 बजे तक जागती रहीं ताकि वो आर्मस्ट्रांग को चांद पर उतरते हुए देख सकें. जब आर्मस्ट्रांग दिल्ली आए तो इंदिरा गांधी और उनके सहयोगियों ने उनकी मुलाकात हुई. ये मुलाकात काफी रोचक थी.

क्या नील आर्मस्ट्रॉन्ग ने सच में चांद पर सुनी थी अज़ान? कबूल कर लिया था इस्लाम?

तब आर्मस्ट्रांग खुद आए थे दिल्ली 

पूर्व विदेशमंत्री नटवर सिंह ने अपनी किताब में इसका जिक्र किया है. जब आर्मस्ट्रांग दिल्ली आए तो उस मुलाकात के दौरान नटवर भी वहां मौजूद थे. इंदिरा गांधी के इशारे पर उन्होंने आर्मस्ट्रांग को बताया, मिस्टर आर्मस्ट्रांग, आपकी यह जानने में दिलचस्पी होगी कि प्रधानमंत्री सुबह 4.30 बजे तक जागती रही थीं, क्योंकि वह चंद्रमा पर आपके उतरने के क्षण से चूकना नहीं चाहती थीं.

जब नील आर्मस्ट्रांग दिल्ली में इंदिरा गांधी से मिले तो उनकी विनम्रता से वो प्रभावित हो गईं और उनकी तारीफ किये बगैर नहीं रह सकीं


हैरान कर देने वाला था जवाब
Loading...

इस पर नील आर्मस्ट्रांग ने जो जवाब दिया, वो ना केवल इंदिरा बल्कि वहां सभी लोगों को हैरान करने वाला था. आर्मस्ट्रांग ने बहुत विनम्रता से कहा, मैडम प्रधानमंत्री, आपको हुई असुविधा के लिए मैं खेद व्यक्त करता हूं. अगली बार, मैं सुनिश्चित करूंगा कि जब हम चंद्रमा पर उतरें तो आपको इतना न जागना पड़े.

दिल्ली में चांद पर पहला कदम रखने वाले नील आर्मस्ट्रांग का स्वागत


इंदिरा ने फिर की जमकर आर्मस्ट्रांग की प्रशंसा
आर्मस्ट्रांग की यह विनम्रता देख इंदिरा गाँधी जी चकित हो गयी . अपनी कोई भी गलती न होने के बावजूद इतने बड़े शख्स ने माफ़ी मांगी यह देख वह हैरान हो गयी. फिर इंदिरा गांधी ने खुद आगे आकर नील आर्मस्ट्रांग के इस व्यवहार की प्रशंसा की, जिसे पूरे विश्व में सराहना मिली.

नील आर्मस्ट्रांग ने भी इंदिरा गांधी के साथ इस मुलाकात को हमेशा याद रखा. हालांकि वो दोबारा चांद के मिशन पर नहीं गए. ये भी कहा जाता है कि जब आर्मस्ट्रांग पहली बार चांद पर जा रहे थे तो वो काफी डरे हुए भी थे, उन्हें लग रहा था कि वो बचकर वापस आ भी पाएंगे या नहीं. लेकिन जब वो सकुशल वापस लौटे तो दुनियाभर में हीरो बन गए.

क्यों गुमनाम है 200 आविष्कार और 40 पेटेंट हासिल करने वाला ये भारतीय वैज्ञानिक?

नील 200 से ज्‍यादा तरह के विमान उड़ा सकते थे. नील ने 16 साल की उम्र में अपने ड्राइविंग लाइसेंस से पहले उन्‍होंने पायलट लाइसेंस हासिल कर लिया था. वह नासा के पहले नागरिक अंतरिक्ष यात्री थे, जिसने 1966 में जेमिनी 8 में कमांड पायलट की भूमिका अदा की.

आर्मस्ट्रांग ने 1971 में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा छोड़ दिया था. फिर उन्होंने छात्रों को अंतरिक्ष इंजीनियरिंग के बारे में पढ़ानी शुरू की. वह दिल की बीमारी से जूझ रहे थे. जिसके लिए उन्होंने ऑपरेशन भी करवाया था. हालांकि बाद में उनकी हालत और बिगड़ती गई. 25 अगस्त 2012 को उन्होंने दम तोड़ दिया.

इंटरनेट से हर मिनट बदल रही है दुनियाः टिंडर पर 14 लाख स्वाइप, गूगल पर हो रहे लाखों सर्च

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 19, 2019, 12:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...