लाइव टीवी

तब ऋषि चार्वाक आयोजित करते थे वेलेंटाइन जैसा प्यार का पर्व, होता था खूब विरोध

News18Hindi
Updated: February 13, 2020, 11:54 AM IST
तब ऋषि चार्वाक आयोजित करते थे वेलेंटाइन जैसा प्यार का पर्व, होता था खूब विरोध
प्राचीन भारत में प्यार का पर्व मनाने के कई प्रमाण मिलते हैं

ईसा से 600 साल पहले ऋषि चार्वाक चंद्रोत्सव का आयोजन करते थे. कई दिनों तक चलने वाले इस उत्सव में युवक-युवतियां आमोद-प्रमोद करते थे. हालांकि तब भी धर्मशास्त्रियों ने इस पर्व का काफी विरोध किया था

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 13, 2020, 11:54 AM IST
  • Share this:
जिस वेलेंटाइन डे का भारत में विरोध होता है, जिसे भारतीय संस्कृति के खिलाफ बताया जाता है. वैसे पर्व भारतीय ऋषि चार्वाक ने 600 साल ईसा पूर्व आयोजित करते थे. वैसे तब भी इसका काफी विरोध होता था. राजदरबार में काफी शिकायतें होती थीं. धर्मशास्त्रियों ने इसे रोकने की तमाम कोशिश करते थे लेकिन चार्वाक को कोई फर्क नहीं पड़ता था. प्यार के इस उत्सव को वो और उनके अनुयायी चंद्रोत्सव कहते थे.

हालांकि चार्वाक के ग्रंथों और दस्तावेजों को समूलचूल नष्ट कर दिया गया. लेकिन जैन और बौद्ध धर्म के ग्रंथों में उनके सूत्रों का काफी उल्लेख है. इन्हीं के जरिए चार्वाक पर काफी जानकारियां भी सामने आईं. मराठी लेखक विद्याधर पुंडलीक ने चार्वाक पर काफी अध्ययन करने के बाद उन पर प्रमाणिक नाटक लिखा, जिससे चार्वाक के बारे न केवल जानकारियां मिलती है. बल्कि ये भी पता चलता है कि वैलेंटाइन जैसा पर्व तो हम सदियों पहले मनाते थे.

प्यार का उत्सव यानि चंद्रोत्सव
विद्याधर पुंडलिक की किताब चार्वाक कहती है कि चार्वाकवादी साल की एक खास ऋतु में चंद्रोत्सव पर्व आयोजित करते थे. इसकी तैयारियां की जाती थीं. इसे प्रणय उत्सव यानि प्यार के उत्सव और आमोद - प्रमोद के उत्सव के रूप में मनाया जाता था.

रातभर युवक और युवतियां साथ में नृत्य करते थे. एक दूसरे को रिझाते थे. चार्वाक मानते थे कि जिंदगी के हर पल का पूरा आनंद लेना चाहिए. इसलिए उन्हें आर्ट ऑफ जॉयफुल लिविंग का जनक भी कहा जाता था.

love

कई दिनों तक चलता था उत्सवचंद्रोत्सव कई दिनों तक चलता था. ये मैत्री और आनंद का पर्व भी माना जाता था. इसे चार्वाक अपने शिष्यों के साथ हर साल मनाते थे. हर साल के साथ इसमें युवती और युवतियों की संख्या बढ़ने लगी थी. इस पर राज्य के दरबारी, बड़े पदाधिकारी और धर्माधिकारी काफी नाराज होते थे.

न केवल चार्वाक की शिकायतें अंवती के सम्राट वीरसेन से की जाती थीं बल्कि चंद्रोत्सव के दौरान चार्वाकवादियों यानि लोकायतों पर हमले भी होने शुरू हो गए. चंद्रोत्सव को उनके विरोधी छिपकर देखते थे. इस उत्सव को छिपकर देखने के बाद कई बौद्ध भिक्षुओं ने संघ त्यागकर तुरंत चार्वाक की शरण ले ली.

खाओ, पियो और भरपूर जियो
चार्वाक जिस तरह जीवन में सुख के उपभोग की बातें तर्कों के साथ करते थे, उससे एक बड़ा युवा वर्ग उनसे जुड़ता जा रहा था, जो धर्मों के लिए खतरे की घंटी थी. चार्वाक शायद दुनिया के पहले ऋषि थे, जिन्होंने खुले तौर पर वेदों, वैदिक ऋषियों और वैदिक कर्मकांड को चुनौती दी. वे नास्तिक थे.

उनका पूरा दर्शन इस पर टिका है कि खाओ, पियो और ऐश करो. भले इसके लिए आपको कर्ज भी क्यों न लेना पड़े. वह कहते थे एक बार मृत्यु हो जाने पर यह देह फिर जन्म लेने नहीं आने वाली. इसलिए कुंठाओं और चिंताओं से मुक्त जीवन जियो.

charvak, valentine day

कब हुए चार्वाक
चार्वाक के सूत्रों को वृहस्पति के सूत्रों के रूप में भी जाना जाता है. चार्वाक वेदों के बाद हुए लेकिन उनके समय में जैन और बौद्ध धर्म मजबूती ले चुका था.

ऋषि चार्वाक: चार्वाकवादी साल की एक खास ऋतु में चंद्रोत्सव पर्व आयोजित करते थे. इसकी तैयारियां की जाती थीं. इसे प्रणय उत्सव यानि प्यार के उत्सव और आमोद - प्रमोद के उत्सव के रूप में मनाया जाता था.


स्वामी दयानंद सरस्वती ने भी उनके काफी श्लोक अपने ग्रंथ सत्यार्थप्रकाश में उद्धृत किए थे. कई विद्वान् कहते हैं कि चार्वाक पहले हुए. वृहस्पति उनको लोकप्रिय बनाने वाले एक और दार्शनिक थे, जो चार्वाक पंथ को मानते थे.

ये भी पढ़ें 
जब 22 साल की एक लड़की ने खुफिया रेडियो सेवा शुरू कर अंग्रेजों को दिया था चकमा
89 साल पहले आज ही के दिन दिल्ली बन गई थी देश का दिल यानि राजधानी
कैसी है ‘केम छो ट्रंप’ की तैयारी, क्यों खास है अमेरिकी राष्ट्रपति का भारत दौरा
इंटरनेशनल मीडिया में केजरीवाल की जीत से ज्यादा पीएम मोदी की हार की चर्चा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए नॉलेज से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 11:54 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर