तानाशाह Kim Jong के देश में ISD फोन समेत इन चीजों पर है बैन

तानाशाह किम जोंग-उन के हालिया जारी फरमान के तहत विदेशी फिल्में देखने से लेकर नीली जींस पहनने पर मनाही की खबरें आ रही हैं (Photo- news18 English via AP)

तानाशाह किम जोंग-उन के हालिया जारी फरमान के तहत विदेशी फिल्में देखने से लेकर नीली जींस पहनने पर मनाही की खबरें आ रही हैं (Photo- news18 English via AP)

नॉर्थ कोरिया (North Korea) का कोई नागरिक इंटरनेशनल कॉल करने की जुर्रत करे तो उसे सख्त सजा मिलती है. ऐसे में चीन (China) से फोन और सिम की तस्करी होती है ताकि लोग विदेश में बस चुके अपनों से बात कर सकें.

  • Share this:

दुनिया इन दिनों कोरोना संक्रमण रोकने में लगी है, तो दूसरी ओर उत्तर कोरिया पश्चिमी देशों का असर रोकने में जुटा है. वहां हालिया लागू कानून के मुताबिक विदेशी फिल्में देखने, उस तर्ज के कपड़ों या फिर उस भाषा की गालियां देने पर सख्त सजा हो सकती है. किम जोंग-उन सरकार का कहना है कि इसे प्रतिक्रियावादी सोच को रोकने के लिए लाया गया है. वैसे हमेशा से ही आइसोलेशन में रहे इस देश में कई मामूली चीजें भी बैन हैं.

नॉर्थ कोरिया में इंटरनेशनल कॉल नहीं कर सकते

सेल फोन तो लगभग सबके पास है लेकिन उससे आईएसडी कॉल नहीं लगाया जा सकता. देश के सारे ही सिम कार्ड सिर्फ देश के भीतर ही बात करने की सुविधा देते हैं. Amnesty International की एक रिपोर्ट के अनुसार लगभग सारे ही देशों को नॉर्थ कोरिया संदेह की नजर से देखता है और लोगों पर नजर रखने के लिए यहां कम्युनिकेशन सिस्टम पर खासी सख्ती रखी गई है.

kim jong un things banned in north korea
देश के कुछ खास लोगों और तानाशाह के परिवार को देश से बाहर बात करने की इजाजत है- सांकेतिक फोटो (pixabay)

चीन से सिम और मोबाइल की होती है तस्करी 

केवल देश के कुछ खास लोगों और तानाशाह के परिवार को देश से बाहर बात करने की इजाजत है. अगर नॉर्थ कोरिया का कोई नागरिक इंटरनेशनल कॉल करने की कोशिश करता भी दिखे तो उसे सख्त सजा मिलती है. तब फिर दूसरे देशों में रह रहे अपने लोगों से कोरियन लोग कैसे बात करते हैं? न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर बताती है कि इसके लिए लोगों को चीन से आए तस्करी के मोबाइल फोन पर निर्भर करना होता है, जिसकी सिम से वे इंटरनेशनल कॉल कर पाते हैं.

ये भी पढ़ें: Explained: क्या है वो लसलसी चीज, जिसने Turkey के समुद्र को बुरी तरह से जकड़ लिया है?



विदेश जाने पर सख्त प्रतिबंध 

उत्तर कोरियाई लोग घूमने-फिरने के लिए विदेश नहीं जा सकते हैं. यहां के नागरिकों के लिए इंटरनेशनल फ्लाइंग बैन है. अगर किसी तरह से कोई देश से निकल भागने में कामयाब हो जाए तो उसे सरकारी नियमों के तहत भगोड़ा घोषित कर दिया जाता है और विदेश गए व्यक्ति के परिवार की पूरी तीनी पीढ़ियों को सजा मिलती है.

तीन पीढ़ियों को सजा का प्रावधान 

सजा के तौर पर उन्हें रिफॉर्म कैंप या डिटेंशन कैंपों में भेज दिया जाता है. तीन पीढ़ियों के सजा काटने के बाद ही अपराध खत्म माना जाता है. ये ट्रैवल रेस्ट्रिक्शन बाहरी देशों के लिए ही लागू नहीं होता, लोग अपने स्टेट से दूसरे स्टेट भी नहीं जा सकते. यहां एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए सरकार से लिखित में अनुमति लेनी होती है.

kim jong un things banned in north korea
उत्तर कोरिया में विदेशी फिल्मों पर पाबंदी की बात अक्सर सामने आती है- सांकेतिक फोटो (pixabay)

यहां के लोग नीली जींस नहीं पहन सकते

जींस का ये रंग यहां बैन है क्योंकि इससे किंग जोंग को अमेरिकन साम्राज्यवाद की बू आती है. अमेरिका से नॉर्थ कोरिया के खास दोस्ताना संबंध नहीं और ये देश मानता है कि किसी भी तरह से अमेरिकी सभ्यता या संस्कृति का असर यहां नहीं आना चाहिए. इसके तहत विदेशी और खासकर अमेरिकी या यूरोपियन फिल्मों पर प्रतिबंध है.

ये भी पढ़ें: कैसे दूसरे विश्व युद्ध में लापता अपने सैनिकों को भारत में तलाश रहा है अमेरिका?

बर्थ कंट्रोल के तरीकों पर मनाही 

और तो और, उत्तर कोरिया में बर्थ कंट्रोल का प्रचलित तरीका कंडोम भी प्रतिबंधित है. यहां न तो कंडोम बनता है और न ही कंडोम की बिक्री होती है. रेडियो फ्री एशिया (Radio Free Asia) के मुताबिक दूसरे देशों से लाने की कोशिश पर लोगों को कस्टम पर ही पकड़ लिया जाता है, तब कंडोम तो जब्त होते ही हैं, भारी जुर्माना भी लगता है.

kim jong un things banned in north korea
उत्तर कोरिया में बर्थ कंट्रोल का प्रचलित तरीका कंडोम भी प्रतिबंधित है- सांकेतिक फोटो

तस्करी से आता है कंडोम 

यही वजह है कि यौन रोगों से बचाव के लिए या अवांछित प्रेगनेंसी से बचाव के लिए लोग तस्करी के जरिए आने वाली सप्लाई पर निर्भर हैं. ये चोरी-छिपे देश में लाया जाता है और ऊंचे दामों पर ब्लैक मार्केट में बिकता है. यहां तक कि बीते कुछ सालों से ये सबसे ज्यादा दिया-लिया जाने वाला गिफ्ट आयटम बन चुका है.

यूनाइटेड नेशन्स ने की थी कोशिश 

साल 1985 में यूएन पॉपुलेशन फंड (United Nations Population Fund) ने यहां फैमिली प्लानिंग सर्विस की बात शुरू की लेकिन इसका कोई खास फायदा नहीं हुआ. उत्तर कोरिया ज्यादा से ज्यादा आबादी वाला सोशलिस्ट देश बन सके, इसके लिए इस तरह के साधन प्रतिबंधित हैं.

मीडिया समूह, द मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक बर्थ कंट्रोल के साधन के रूप में कंडोम यहां काफी पसंद किया जाता है, भले ही वो ज्यादा कीमत पर तस्करी से मिल सके. नॉर्थ कोरिया में सेक्स वर्करों की बहुतायत भी यहां पर कंडोम की जरूरत को बढ़ाती है. वे खुद क्लाइंट्स से मांग करती हैं कि वे अपने साथ कंडोम लेकर आएं ताकि यौन रोगों से बचाव हो सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज