कौन है वो शख्स जिसने कहा- '48 घंटे में ठीक कर दूंगा कोरोना', पुलिस ने किया गिरफ्तार

कौन है वो शख्स जिसने कहा- '48 घंटे में ठीक कर दूंगा कोरोना', पुलिस ने किया गिरफ्तार
तमिलनाडु के एक फेक डॉक्टर थानिकसलाम वेणी ने दावा किया था कि उसने कोरोना की दवा बना ली है.

तमिलनाडु के फर्जी डॉक्टर (Fake Doctor) ने सोशल मीडिया पर कोरोना को ठीक करने वाली हर्बल दवा (Herbal Remedy) बनाने का दावा किया था. उसने कहा था कि वो 48 घंटे में इस बीमारी को ठीक कर सकता है. डॉक्टरों की शिकायत के बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.

  • Share this:
तमिलनाडु पुलिस (Tamilnadu police) ने एक ऐसे शख्स को गिरफ्तार किया है जिसने कोरोना वायरस को ठीक करने वाली हर्बल दवा बनाने का दावा किया था. इस दवा को लेकर उस व्यक्ति के सोशल मीडिया के पेज से लगातार प्रचार किया जा रहा था. उसके द्वारा फैलाया जा रहा भ्रमजाल तब टूटा जब इंडियन मेडिसिन एंड होमियोपैथी के डायरेक्टर ने लिखित शिकायत कर दी. इसके बाद थानिकसलाम वेणी (Thanikasalam Veni)  नाम के इस व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. थानिकसलाम तमिलनाडु के कोयेमबेडु में अपना एक अस्पताल चलाता है. उसने कोई मेडिकल डिग्री नहीं हासिल की है.

फैला रखा था भ्रमजाल
गौरतलब है कि इस दवा को लेकर मीडिया में भी सुर्खियां बनी थीं. लेकिन फिर जब डॉक्टरों की तरफ से शिकायत की गई तब थानिकसलाम वेणी के भ्रमजाल का भंडाफोड़ हुआ. थानिकसलाम ने दावा किया था कि उसने कोरोना वायरस को पूरी तरह ठीक करने वाली एक हर्बल दवा बना ली है. फिर इसे लेकर अखबारों में विज्ञापन दिए साथ ही सोशल मीडिया पर भी प्रचार किया.

थानिकसलाम के क्लीनिक की तस्वीर

हर्बल दवा का दावा करने वाले 70 वीडियो


स्थानीय मीडिया के मुताबिक थानिकसलाम ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट से इस दवा को लेकर 70 से ज्यादा वीडियो अपलोड किए थे. इन वीडियोज में उसने दावा किया था कि ये दवा कोरोना के मरीजों को महज 48 घंटों के भीतर ठीक कर देगी. इस दवा के निर्माण का श्रेय भी उसने खुद को ही दिया था. वीडियो में उसने यह भी दावा किया था कि वो कोरोना से संक्रमित होने के लिए तैयार है. और फिर अपनी दवा से ठीक होकर दिखाएगा, वो भी 48 घंटे के भीतर. उसने दावा किया है कि एक कोरोना के मरीज को उसने ठीक किया है जिसका इलाज करने में लंदन के डॉक्टरों ने भी हाथ खड़े कर दिए थे.

ऋषि-मुनियों के नाम का लेता था झूठा सहारा
दिलचस्प रूप से अपने फेसबुक पेज पर थानिकसलाम ने दावा किया है कि एक डिस्कवरी का डिग्री से कोई लेना देना नहीं होता है. उसने लिखा है कि ऋषि-मुनियों के पास कोई डिग्री नहीं होती थी लेकिन उन्होंने कई दवाओं का आविष्कार किया. इसी तरह मैं भी रोगियों को ठीक कर सकता हूं. मुझे किसी तरह की डिग्री की जरूरत नहीं है. उसने यह भी दावा किया कि मास्क या दूसरे उपाय करने से कोरोना वायरस से नहीं बचा जा सकता है.

झारखंड में अबतक कोरोना के 127 मामले सामने आ चुके हैं
प्रतीकात्मक तस्वीर


इस सेक्शन के तहत किया गया गिरफ्तार
थानिकसलाम को डिजैस्टर मैनेजमेंट एक्ट के सेक्शन 54 के मुताबिक गिरफ्तार किया गया है. इस सेक्शन के मुताबिक किसी को भी त्रासदी के वक्त गलत जानकारियां देने का अधिकार नहीं है, जिससे लोगों में अफरा-तफरी जैसे हालात खड़े हो जाएं. साथ ही थानिकसलाम पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188 भी लगाई गई है.

तमिलनाडु में तेजी से फैला कोरोना संक्रमण
गौरतलब है कि तमिलनाडु कोरोना संक्रमण के मामले में भारत के टॉप राज्यों में शामिल है. राज्य में अब तक कोरोना के 4829 मामले सामने आ चुके हैं. जिनमें से 1516 लोग ठीक हो चुके हैं. अब तक 35 लोग इस महामारी की वजह से जान गंवा चुके हैं. शुरुआत में राज्य में कोरोना के ज्यादातर मामले दिल्ली के निजामुद्दीन में हुए जमात के कार्यक्रम से जुड़े हुए थे. उसके बाद राज्य में कोरोना के मामले एकदम तेजी के साथ बढ़े थे. हालांकि बीते कुछ दिनों में राज्य में कोरोना के मामलों की रफ्तार में थोड़ी कमी आई है.

 

यह भी पढ़ें:-

जैसे-जैसे म्यूटेशन बढ़ेगा, कितना खतरनाक होता जाएगा कोरोना वायरस?

बच्चों के फेवरेट मैथ टीचर से कैसे आतंकी बन गया रियाज नायकू

जब आलू के अकाल के कारण गईं लाखों जानें, 10 लाख ने छोड़ा मुल्क

चेतावनी: 5 दिनों में कोरोना के 10 हजार से ज्यादा मामले, अगले 4 हफ्ते होंगे खतरनाक

बड़ी कामयाबी: इस पालतू जानवर में मिली कोरोना से लड़ने वाली एंटीबॉडी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading